ट्रंप-किम की दूसरी मुलाक़ात और चार चुनौतियां

  • 7 फरवरी 2019
किम जोंग उन और डोनल्ड ट्रंप इमेज कॉपीरइट AFP/GETTY IMAGES

अमरीका के राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप के मुताबिक उनके और उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन के बीच दूसरी मुलाक़ात 27 और 28 फरवरी को होगी.

ये मुलाक़ात वियतनाम में होगी और इसमें परमाणु मुद्दे पर बातचीत होगी. इसके पहले ये दोनों नेता जून 2018 में सिंगापुर में मिले थे.

दूसरी मुलाक़ात की तैयारी में जुटे दोनों नेताओं के सामने कई चुनौतियां हैं.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप और उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन की पहली मुलाकात बीते साल सिंगापुर में हुई थी.

चुनौती नंबर 1 : ठोस कदम जरूरी

डोनल्ड ट्रंप और किम जोंग उन के बीच जून 2018 में हुई पहली मुलाकात को लेकर बड़ा कौतुहल और चर्चा थी और दोनों ही नेताओं ने इस आडंबरपूर्ण मुलाक़ात को भुनाने का पूरा प्रयास किया.

शायद उस ऐतिहासिक मुलाक़ात के दौरान संबंधों पर जमी बर्फ पिघलने का असर दोनों ओर रहा हो.

लेकिन उस मीटिंग के बाद बातें उम्मीद के मुताबिक आगे नहीं बढ़ीं. उत्तर कोरिया को परमाणु हथियारों को मुक्त करने के अमरीकी लक्ष्य के मुताबिक कोई ठोस नतीजा नहीं दिखा. वहीं, उत्तर कोरिया इस बात को लेकर निराश है कि अमरीका उस पर लगी पाबंदियों में छूट देने को तैयार नहीं है.

इसलिए अब दोनों पक्षों पर इस बात का दबाव है कि वो कुछ ठोस बातें लेकर आएं.

दिक्कत ये है कि दोनों नेताओं ने परमाणु मुद्दे को व्यक्तिगत बना दिया. ट्रंप और किम एक दूसरे से सीधे बात करना पसंद करते हैं. उनके बीच ख़तों और गर्मजोशी भरे शब्दों के आदान-प्रदान हुए हैं.

अमरीका को इस बात की चिंता है कि ये तरीका ट्रंप के मुक़ाबले किम जोंग उन के लिए मुफीद है.

इसका समाधान ये है कि दोनों नेताओं के बीच शिखर सम्मेलन होने के पहले अधिकारियों के स्तर पर चर्चाएं हों.

पिछले मौके पर ये नहीं हुआ था लेकिन इस बार ऐसा किया जा रहा है.

वास्तविक उपलब्धि ये होगी कि शिखर वार्ता के दौरान विशेषज्ञ स्तर पर आगे बढ़ते रहने के लिए एक ढांचे को लेकर सहमति तैयार की जाए.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

दूसरी चुनौती : दिशा एक हो

ट्रंप और किम के बीच सिंगापुर में हुई मुलाक़ात के दौरान दोनों देश 'कोरियाई प्रायद्वीप को पूरी तरह परमाणु हथियारों से मुक्त करने' पर सहमत हुए थे.

लेकिन उनके आशय जो थे, वो बातें कही नहीं गईं. इसे लेकर ही सवाल है कि क्या इस पर कोई समझौता हो सकता है.

अमरीका के लिए परमाणु हथियार ख़त्म करने का मतलब ये है कि उत्तर कोरिया एकतरफा तरीके से अपने सारे परमाणु हथियार हटाए और अंतरराष्ट्रीय जांचकर्ताओं को इसकी पुष्टि करने की अनुमति दे.

उत्तर कोरिया के लिए इसका मतलब ये है कि अमरीका 'इसके जवाब में' इस क्षेत्र से अपने परमाणु हथियारों को हटाए ताकि उस पर ख़तरा न रहे.

इनमें से ज्यादातर बातों पर अमरीका मोल तोल नहीं करना चाहता.

अमरीकी सेना के जनरल बेशक हैरान रह गए हों लेकिन राष्ट्रपति ट्रंप साफ कर चुके हैं कि वो दक्षिण कोरिया में तैनात सैनिकों को घर वापस लाना चाहते हैं. हालांकि उन्होंने ये भी कहा है कि फिलहाल उनकी ऐसा करने की कोई योजना नहीं है.

ख़ैर, किम जोंग उन ने अब तक परमाणु हथियार हटाने को लेकर लिखित तौर पर वादा नहीं किया है. विशेषज्ञों का कहना है कि उन पर ऐसा करने के लिए दबाव बनाया जाना चाहिए और उस स्थिति को हासिल करने के लिए विस्तार से खाका तैयार कर उस पर भी उनकी सहमति ली जानी चाहिए.

ये एक वास्तविक चुनौती है.

अमरीकी विदेश मंत्रालय में उत्तर कोरिया के लिए प्रतिनिधि स्टीफन बीगन ने बीते हफ़्ते माना था कि परमाणु हथियार मुक्त करने के लक्ष्यों के रास्ते में रुकावटें हैं. उन्होंने ये भी कहा था कि 'आने वाले वक्त' में उत्तर कोरिया के साथ एक समझौता होगा.

फिर मिलेंगे डोनल्ड ट्रंप और किम जोंग उन

इमेज कॉपीरइट Getty Images

चुनौती नंबर 3 : परमाणु हथियारों को लेकर कदम उठाएं

दोनों पक्षों की ओर से जो संकेत मिले हैं, उससे ट्रंप और किम की मुलाक़ात के दौरान कुछ कदम उठाए जाने को लेकर उम्मीदें बढ़ गई हैं.

बीगन के मुताबिक उत्तर कोरिया ने प्रस्ताव दिया है कि अगर ट्रंप प्रशासन 'जवाबी उपाय करता है' तो वो परमाणु बम का ईंधन तैयार करने वाले अपने सभी संयंत्रों को नष्ट करने को तैयार है.

किम जोंग उन अमरीका से रियायत के तौर पर प्रतिबंधों में ढील और सुरक्षा की गारंटी चाहते हैं. मसलन कोरियाई युद्ध के ख़त्म होने का औपचारिक एलान किया जाए.

फिलहाल ऐसा लगता है कि अमरीका परमाणु हथियार हटाने के लिए वास्तविक कदम उठाने की अपनी मांग को लेकर रुख नरम कर रहा है. किम जोंग उन एक कदम के बदले एक कदम उठाने के जिस रुख की वकालत कर रहे हैं, अमरीका भी उसी दिशा में आगे बढ़ता दिखता है.

ऐसी भी रिपोर्टें आईं हैं जिनमें कहा गया है कि उत्तर कोरिया के परमाणु और मिसाइल हथियारों के निर्माण पर रोक लगाने की स्थिति में उसे प्रतिबंधों में आंशिक छूट दी जा सकती है. गौरतलब है कि उत्तर कोरिया ने परीक्षणों पर रोक लगा दी है लेकिन अभी उत्पादन बंद नहीं किया है.

इस मामले में चुनौती ये तय करने की होगी कि इसके बाद उत्तर कोरिया अपने पास मौजूद परमाणु हथियार खत्म करने की दिशा में ठोस कदम उठाए.

चिंता ये है कि ट्रंप परमाणु हथियार ख़त्म करने का साफ रास्ता तय करने के बजाए एक अंतरिम समझौता कर सकते हैं.

ट्रंप और किम की मुलाक़ात का भारतीय कनेक्शन

इमेज कॉपीरइट kcna

चुनौती नंबर 4 : हकीकत को पहचानें

अमरीका में अगर कोई उत्तर कोरिया के बारे में कुछ जानता है तो वो ये सोचता है कि किम जोंग उन अपने परमाणु हथियार कार्यक्रम को बंद नहीं करेंगे.

अमरीका में नेशनल इंटेलिजेंस के निदेशक डैन कोट्स ने बीते हफ़्ते सीनेट की एक कमेटी को बताया कि उत्तर कोरिया के नेता का नजरिया ये है कि 'अपने शासन को बनाए रखने के लिए परमाणु हथियार बेहद जरूरी हैं.' ख़ासकर उस स्थिति में जब अमरीका उनकी सत्ता को उखाड़ फेंकने की कोशिश करता है.

वहीं, विशेषज्ञों की राय है कि किम जोंग उन ऐसा कूटनीतिक माहौल तैयार करने की कोशिश में हैं जहां उत्तर कोरिया को परमाणु हथियार संपन्न देश के तौर पर मान्यता मिल सके.

नए साल के अपने भाषण में किम जोंग उन ने कहा था कि परमाणु हथियार हटाने के अपने वादे के तहत उत्तर कोरिया न तो परमाणु हथियार बनाएगा और न ही उनका संवर्धन करेगा.

पेंटागन के कुछ पूर्व अधिकारी ये तर्क दे रहे हैं कि हथियार को पूरी तरह ख़त्म करने की बजाए हथियारों के नियंत्रण पर बातचीत ज्यादा तर्क संगत होगी.

कई विश्लेषकों की ये भी राय है कि जब तक उत्तर कोरिया का शासन खुद को सुरक्षित महसूस नहीं करेगा तब तक परमाणु हथियार हटाने की दिशा में प्रगति संभव नहीं है.

वो मानते हैं कि किम जोंग उन को ये समझाया जा सकता है कि सत्ता में बने रहने के लिए उन्हें परमाणु हथियारों की जरूरत नहीं है.

वापस स्कूल जाओ: अमरीकी जासूसों से ट्रंप

एक-दूसरे का अपमान करने में आगे रहे हैं ट्रंप और किम जोंग-उन

सऊदी अरब के बिछड़ने से क्यों डरते हैं ट्रंप

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूबपर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार