'सऊदी अरब ने ख़ाशोगी हत्याकांड जांच में अड़ंगे लगाए'

  • 8 फरवरी 2019
जमाल ख़ाशोगी इमेज कॉपीरइट Getty Images

पत्रकार जमाल ख़ाशोगी की हत्या की जांच कर रहे संयुक्त राष्ट्र की जांचकर्ता ने कहा है कि ये हत्या सुनियोजित थी और इसे सऊदी अधिकारियों ने अंजाम दिया था.

शुरुआती जांच रिपोर्ट में कहा गया है कि तुर्की के अधिकारियों को सऊदी दूतावास में दाख़िल नहीं होने दिया गया जहां ख़ाशोगी की हत्या की गई थी. रिपोर्ट के मुताबिक इस तरह सऊदी अरब ने जांच में अड़ंगे लगाए.

ख़ाशोगी को बीते साल दो अक्तूबर को आख़िरी बार तब देखा गया था जब वो सऊदी दूतावास के भीतर जा रहे थे.

ख़ाशोगी सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान के मुखर आलोचक थे.

इस तरह के हत्या मामलों के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष जांच अधिकारी एग्नेस केलमर्ड ने कहा है कि इस तरह से किसी को मारने के लिए क्राउन प्रिंस की मंज़ूरी लेनी पड़ती है.

एग्नेस केलमर्ड इस हत्या की जांच कर रहे अंतरराष्ट्रीय दल का नेतृत्व कर रही हैं. उनकी शुरुआती जांच रिपोर्ट में कहा गया है कि ख़ाशोगी को बर्बर तरीके से मारा गया और सऊदी अधिकारियों ने इसकी योजना पहले से बनाई गई थी.

रिपोर्ट में कहा गया है कि तुर्की को हत्या की जांच करने से रोका गया और सऊदी अधिकारियों ने हत्या के बाद 13 दिन तक जांचकर्ताओं को दूतावास में दाख़िल नहीं होने दिया.

एग्नेस केलमर्ड ने कहा है कि वो सऊदी अरब के आधिकारिक दौर पर जाना चाहती हैं ताकि 11 अभियुक्तों के ख़िलाफ़ बताए गए सबूतों को को जांच सकें.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

रिपोर्ट में कहा गया है कि ख़ाशोज्जी का शव अभी तक नहीं मिला है जो उनके परिवार के लिए बेहद पीड़ादायक है.

इस आशय की अंतिम रिपोर्ट जून में संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद को सौंपी जाएगी.

सऊदी अधिकारियों का कहना है कि ख़ाशोगी की मौत दूतावास में एक संघर्ष के दौरान हुई. तुर्की के अधिकारी मानते हैं कि दूतावास में उनकी हत्या सऊदी एजेंटों की एक टीम ने की थी.

सऊदी अरब ने ख़ाशोगी की हत्या के लिए 11 लोगों पर अभियोग चलाया है लेकिन उन्हें तुर्की के हवाले करने की मांग को ठुकरा दिया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक कर सकते हैं.हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए