पुलवामा हमले के बाद दबाव में है पाकिस्तान? - नज़रिया

  • 24 फरवरी 2019
पाकिस्तान इमेज कॉपीरइट AFP

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) ने पुलवामा हमले की निंदा करते हुए इसे 'जघन्य' और 'कायराना' अपराध बताया. उसने मसूद अज़हर के संगठन जैश-ए-मोहम्मद का ज़िक्र करते हुए ऐसे हमलों के लिए दोषी लोगों को न्याय के कठघरे में लाने की ज़रूरत बताई है.

सुरक्षा परिषद की ये टिप्पणी महत्वपूर्ण है क्योंकि वो कश्मीर को 'विवादित क्षेत्र' मानता है और इससे पहले उसने कश्मीर में हुए किसी भी चरमपंथी हमले में दखल नहीं दिया है.

सुरक्षा परिषद की टिप्पणी इसलिए भी अहम है क्योंकि भारत ने मसूद को अंतरराष्ट्रीय चरमपंथी घोषित करवाने की कई कोशिशें कीं लेकिन चीन ने हर बार इसे वीटो कर दिया.लेकिन इस बार सुरक्षा परिषद के किसी अन्य सदस्य को कोई आपत्ति नहीं थी.

इसे भारत की कूटनीतिक जीत के तौर पर देखा जा रहा है. लेकिन दूसरी तरफ़ पाकिस्तान इसे अपनी जीत बता रहा है. उसका कहना है कि भारत की लाख कोशिशों के बाद भी सुरक्षा परिषद ने पुलवामा हमले के संदर्भ में पाकिस्तान का नाम नहीं लिया.

हालाँकि इसके ठीक एक दिन बाद पंजाब प्रांत के अधिकारियों ने बहावलपुर में प्रतबिंधत संगठन जैश-ए-मोहम्मद के मदरसे को अपने नियंत्रण में ले लिया. हालांकि पाकिस्तान के सूचना प्रसारण मंत्री चौधरी फ़वाद हुसैन ने साफ़ किया कि ये कार्रवाई पुलवामा हमले की वजह से नहीं की गई.

ऐसे में सवाल उठता है कि क्या पुलवामा हमले के बाद पाकिस्तान अंतरराष्ट्रीय दबाव में है? क्या ऊपर बताए गए फ़ैसले उसने अंतरराष्ट्रीय संस्थाओं के दबाव में लिए हैं?

इन्हीं सवालों का जवाब जानने के लिए बीबीसी संवाददाता दिलनवाज़ पाशा ने इस्लामाबाद में इंस्टीट्यूट ऑफ़ साइंस ऐंड टेक्नोलॉजी में इंटरनेशनल पॉलिसी के प्रोफ़ेसर और दक्षिण एशिया में सुरक्षा मामलों के विशेषज्ञ रिफ़ात हुसैन से बात की.

प्रोफ़ेसर रिफ़ात हुसैन कहते हैं कि अगर पुलवामा हमले की बात करें तो पाकिस्तान ने ख़ुद भी इसकी कड़ी निंदा की है.

उन्होंने बीबीसी से कहा, "अगर पाकिस्तान को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अलग-थलग करने के भारत के दावे पर आएं तो मुझे नहीं लगता कि ये सही है. अभी सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान पाकिस्तान में आए थे. 22 मार्च को मलेशियाई प्रधानमंत्री महातिर मोहम्मद भी पाकिस्तान आने वाले हैं और इसके बाद तुर्की के राष्ट्रपति रेचेप तैयब अर्दोआन भी पाकिस्तान का दौरा करने वाले हैं. इस तरह मुझे पाकिस्तान को दरकिनार करने वाले भारतीय दावे में दम नहीं लगता."

ये भी पढ़ें: मसूद अज़हर को 'आतंकवादी' क्यों नहीं मानता है चीन?

ये भी पढ़ें: पुलवामा: भारत के साथ बातचीत पर एक पाकिस्तानी का नज़रिया

इमेज कॉपीरइट Reuters

'ये डरे हुए मुल्क की ज़ुबान नहीं है'

प्रोफ़ेसर रिफ़ात के मुताबिक़, "अगर सवाल ये है कि क्या पाकिस्तान डरा हुआ है तो पाकिस्तान सरकार ने साफ़ कहा है कि वो जंग नहीं चाहती क्योंकि जंग उसके हित में भी नहीं है लेकिन अगर उसके ऊपर कोई जंग थोपी गई तो वो उसका भरपूर जवाब देगी. मुझे नहीं लगता एक डरे हुए मुल्क की ज़ुबान ऐसी होती है या एक डरे हुए मुल्क का रवैया ऐसा होता है."

लेकिन चूंकि भारत में चुनावी माहौल क़रीब है और ऐसे में पुलवामा एक बड़ा मुद्दा बनकर उभरा है, तो क्या मोदी सरकार इस मसले पर कोई ठोस कार्रवाई कर सकती है?

इसके जवाब में प्रोफ़ेसर रिफ़ात कहते हैं, "भले ही चुनाव क़रीब हैं लेकिन मोदी सरकार के पास विकल्प बहुत सीमित हैं. भारत को मालूम है कि उसकी तरह पाकिस्तान भी एक परमाणु शक्ति संपन्न देश है और भारत को ये भी मालूम है कि जंग की शुरुआत करना आसान है लेकिन संभालना मुश्किल. दूसरी बात ये कि कोई भी फ़ैसला लेने से पहले भारत सरकार को देखना होगा कि उस फ़ैसले का उसकी छवि पर कैसा असर पड़ेगा. किसी भी छोटी सी चूक को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर आक्रामकता के तौर पर देखा जा सकता है."

ये भी पढ़ें: कश्मीर के लिए अर्धसैनिक बलों को मिलेगा हवाई टिकट

ये भी पढ़ें: कश्मीरी छात्रों पर हमलों को लेकर सुप्रीम कोर्ट का नोटिस

इमेज कॉपीरइट AFP

क्या भारत-पाकिस्तान में जंग होगी?

पुलवामा हमले के बाद भारत प्रशासित कश्मीर की तनावपूर्ण स्थिति के बारे में प्रोफ़ेसर रिफ़ात का कहना है कि इससे आने वाले कुछ महीनों में भारत और पाकिस्तान के कश्मकश की स्थिति रहेगी लेकिन फिर धीरे-धीरे हालात सामान्य होने की उम्मीद है.

मौजूदा वक़्त में भारत और पाकिस्तान, दोनों ही तरफ़ ये आशंका भरा सवाल पूछा जा रहा है कि क्या दोनों देशों में जंग होगी?

इसके जवाब में प्रोफ़ेसर रिफ़ात हुसैन कहते हैं, "मुझे नहीं लगता कि कोई जंग होगी. क्योंकि जंग सबसे बड़ी तबाही होती है. चूंकि दोनों ही मुल्कों के पास एटमी हथियार भी हैं, इसलिए ऐसे में जंग छेड़ना एक बहुत बड़ा ख़तरा होगा. अगर जंग नहीं होती है तो दोनों देशों के बीच हर मुद्दे पर बातचीत का रास्ता खुला है."

बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार