इथियोपियन एयरलाइंस हादसा: इथियोपिया, चीन ने बोइंग 737 मैक्स-8 की उड़ानें बंद की

  • 11 मार्च 2019
एयर चाइना का विमान इमेज कॉपीरइट Getty Images

इथियोपियन एयरलाइंस का बोइंग 737 मैक्स 8 रविवार को हादसे का शिकार हो गया और इसमें सवार सभी 157 लोगों की मौत हो गई.

पिछले पाँच महीने में बोइंग के इस नए विमान के दुर्घटनाग्रस्त होने की ये दूसरी घटना थी. पिछले साल अक्टूबर में लायन एयरलाइंस का बोइंग मैक्स विमान भी जकार्ता से उड़ान भरने के कुछ ही देर बाद हादसे का शिकार हो गया था और 189 लोगों की जान चली गई थी.

लायन एयरलाइंस ने इस विमान को हादसे से तीन महीने पहले ही अपने बेड़े में शामिल किया था.

बोइंग 737 मैक्स-8 का कॉमर्शियल इस्तेमाल 2017 में ही शुरू हुआ था और सुरक्षा को लेकर कंपनी ने बड़े-बड़े दावे भी किए थे.

हालाँकि विशेषज्ञों का कहना है कि अभी ये कहना जल्दबाज़ी होगा कि इथियोपियन एयरलाइंस का विमान किन वजहों से दुर्घटनाग्रस्त हुआ.

लेकिन इथियोपियन एयरलाइंस के भी उड़ान भरने के कुछ ही देर बाद क्रैश होने से इस जम्बोजेट की सुरक्षा को लेकर आशंकाएं जताई जाने लगी हैं.

इथियोपिया ने अपने सभी बोइंग विमानों को फ़िलहाल नहीं उड़ाने का फ़ैसला किया है.

चीन ने भी अपनी घरेलू उड़ानों में इस्तेमाल होने वाले इस मॉडल के सभी विमानों की उड़ने से रोक दिया है.

चीन के नागरिक विमानन प्रशासन ने एक बयान जारी कर कहा, "दो विमान हादसों में बोइंग 737 मैक्स 8 ही शामिल था और उड़ान भरने के कुछ देर बाद ही ये हादसे का शिकार हो गया था. इनमें कुछ समानता भी नज़र आ रही है."

कीनिया जा रहा इथियोपिया का विमान क्रैश, 157 लोगों की मौत

इथियोपिया में बंधक भारतीय और उनके परिवार वालों का ऐसा है हाल

पुराने विमान से अलग कैसे

इमेज कॉपीरइट JONATHAN DRUION

जकार्ता स्थित एविएशन एक्सपर्ट गैरी सोयजेटमैन ने बीबीसी को बताया कि पिछले मॉडल की तुलना में 737 मैक्स का इंजन थोड़ा आगे है और विंग्स के मुक़ाबले इसकी ऊंचाई कुछ अधिक है. इससे विमान का संतुलन प्रभावित होता है.

चीन में बोइंग 737 मैक्स 8 के 90 से अधिक विमान घरेलू उड़ानों में इस्तेमाल हो रहे हैं.

बोइंग एयरप्लेन्स ने भी हादसे पर दुख जताया है और कहा है कि उनकी टीम वहाँ पहुँच रही है, जहाँ इथियोपियन एयरलाइंस का विमान दुर्घटनाग्रस्त हुआ और वो जाँचकर्ताओं को तकनीकी सहायता मुहैया कराएगी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे

संबंधित समाचार