#Christchurch: न्यूज़ीलैंड मस्जिद हमला में 49 की मौत, पीएम ने बताया-आतंकी घटना

  • 15 मार्च 2019
न्यूज़ीलैंड हमला इमेज कॉपीरइट GETTY IMAGES/TV NEW ZEALAND

क्राइस्टचर्च हमले में अब तक जो पता है..

  • पुलिस ने बताया है कि क्राइस्टचर्च की दो मस्जिदों में हुए हमले में अब तक 49 लोगों की मौत हो चुकी है.
  • इस हमले में 20 से अधिक लोग गंभीर रूप से घायल हुए हैं.
  • न्यूज़ीलैंड की प्रधानमंत्री जैसिंडा अर्डर्न ने मस्जिद में हमले को 'आतंकवादी हमला' और देश के लिए 'काला दिन' बताया है.
  • इस हमले के लिए 28 साल के एक पुरुष को ज़िम्मेदार बताया जा रहा है और चार लोगों को हिरासत में लिया गया है.
  • ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन ने पुष्टि की है कि ऑस्ट्रेलिया के नागरिक को गिरफ़्तार किया गया है.
  • उन्होंने उस शख़्स को 'दक्षिणपंथी आतंकवादी' बताया है.
  • प्रशासन ने सभी मस्जिदों को अगले नोटिस तक अपने दरवाज़े बंद रखने के लिए कहा है.

न्यूज़ीलैंड के क्राइस्टचर्च की दो मस्जिदों में हुई गोलीबारी में 49 लोगों की मौत की पुष्टि हुई है. इस हमले में 20 से ज़्यादा लोग गंभीर रूप से घायल हुए हैं. न्यूज़ीलैंड की प्रधानमंत्री ने इसे आतंकवादी हमला क़रार दिया है.

न्यूज़ीलैंड की प्रधानमंत्री जैसिंडा अर्डर्न ने मरने वालों की संख्या की पुष्टि करते हुए शुक्रवार को अपने देश के लिए 'काला दिन' बताया है. उन्होंने बताया कि इस मामले में एक महिला समेत चार लोगों को हिरासत में लिया गया है.

प्रधानमंत्री ने कहा, "क्राइस्टचर्च इन पीड़ितों का घर था. इनमें से बहुत लोगों ने शायद यहां जन्म न लिया हो. कई लोगों के लिए न्यूज़ीलैंड उनकी पसंद का देश था."

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
न्यूज़ीलैंड: प्रत्यक्षदर्शी ने बताया मस्जिद में कैसे हुआ हमला

कथित हमलावर ने इस घटना की लाइव स्ट्रीमिंग फ़ेसबुक और अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर भी की थी. जिसके बाद सोशल मीडिया पर इस घटना के वीडियो प्रसारित किए जाने लगे.

फ़ेसबुक ने ट्वीट कर बताया है कि उसने हमलावर के फ़ेसबुक और इंस्टाग्राम अकाउंट से इन वीडियो को हटा दिया है. साथ ही फ़ेसबुक ने कहा है कि वह इस अपराध और हत्यारे की प्रशंसा करने वाले वीडियो को भी हटा रहे हैं.

इसके बाद किए ट्वीट में फ़ेसबुक न्यूज़ीलैंड की मिया गार्लिक ने बताया है कि उनका संस्थान न्यूज़ीलैंड पुलिस के साथ मिलकर काम करेगा क्योंकि उनकी जांच जारी है.

इसके पहले प्रधानमंत्री ने देश के नाम संदेश में कहा था, "मैं आपको बता सकती हूं कि ये न्यूज़ीलैंड के सबसे काला दिन में से एक है."

न्यूज़ीलैंड के पुलिस कमिश्नर माइक बुश ने बताया है कि इस मामले में चार संदिग्धों को हिरासत में लिया गया है, जिसमें तीन पुरुष और एक महिला शामिल हैं. अब तक ये नहीं कहा जा सकता कि ख़तरा ख़त्म हो गया है.

ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन ने पुष्टि की है कि हमलावरों में से एक 28 साल का ऑस्ट्रेलियाई नागरिक है.

उन्होंने हमलावर को 'अति दक्षिणपंथी आतंकवादी' बताया है. उन्होंने कहा, ''ये घटना हमें बताती है कि बुरे लोग हमेशा हमारे बीच मौजूद होते हैं और वो कभी भी ऐसे हमले कर सकते हैं.''

न्यूज़ीलैंड का दौरा कर रही बांग्लादेश क्रिकेट टीम के खिलाड़ियों ने ट्विटर पर जानकारी दी है कि वो गोलीबारी में सुरक्षित बचने में कामयाब रहे और इस हादसे के कारण टीम का न्यूज़ीलैंड दौरा रद्द कर दिया गया है.

पुलिस कमिश्नर माइक बुश के मुताबिक़ चार लोगों को हिरासत में लिया है. उन्होंने बताया है, ''कई आईईडी बरामद किए गए हैं. ये एक बेहद सुनियोजित हमला है. इसमें हमलावरों ने भारी हथियारों का इस्तेमाल किया है. अगर कोई भी शख़्स आज मस्जिद जाने वाला है तो हमारी अपील है कि वह आज मस्जिद ना जाए. हमारे बताने तक घरों के दरवाज़े बंद रखें.''

ड्यूनेडिन एयरपोर्ट प्रशासन ने जानकारी दी है कि इस हमले के कारण ड्यूनेडिन और क्राइस्टचर्च के बीच की सभी उड़ानों को रद्द कर दिया गया है.

न्यूज़ीलैंड क्रिकेट टीम ने बांग्लादेश क्रिकेट दौरे के रद्द होने की जानकारी दी है. उन्होंने ट्वीट किया, ''हमारी संवेदनाएं क्राइस्टचर्च में हुए चौंकाने वाले हादसे में प्रभावित लोगों के परिवारों और दोस्तों के साथ हैं. न्यूज़ीलैंड क्रिकेट बोर्ड और बांग्लादेश क्रिकेट बोर्ड ने आपसी सहमति से हेगली ओवल टेस्ट को रद्द करने का फ़ैसला लिया है. टीम और सहयोगी स्टाफ़ दोनों सुरक्षित हैं.''

क्राइस्टचर्च की मेयर लियानेर डेलज़ीएल ने इस हादसे पर कहा है, ''स्कूलों में जो बच्चे हैं वो पूरी तरह सुरक्षित हैं. ये बेहद ज़रूरी है कि लोग ख़ुद को इस परिस्थिति में शांत रखें और अपने दोस्त और परिवार से बात करें. ये एक बेहद भयानक घटना है. ये ज़रूरी है कि हम एक साथ मिलकर इन हालात से निपटें.''

इमेज कॉपीरइट GETTY IMAGES/TV NEW ZEALAND
Image caption न्यूज़ीलैंड की प्रधानमंत्री जैसिंडा आर्डर्न

प्रत्यक्षदर्शियों ने स्थानीय मीडिया को जानकारी दी कि गोलीबारी के बाद वो जान बचाने के लिए भागे. प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक़ उन्होंने अल नूर मस्जिद में ख़ून से तर-बतर कई लोगों को ज़मीन पर पड़े देखा.

इमेज कॉपीरइट Reuters

पुलिस ने चेतावनी जारी है कि लोग प्रभावित इलाक़े में आने से बचें. इलाक़े के सभी स्कूलों और अस्पतालों को बंद कर दिया गया है.

एक चश्मदीद मोहन इब्राहिम ने न्यूज़ीलैंड हेरल्ड से कहा, "शुरू में हमें लगा कि शार्ट सर्किट हुआ है, उसके बाद सभी लोग भागने लगे. मेरे कई दोस्त अभी मस्जिद के भीतर ही हैं."

उन्होंने कहा, "मैंने अपने कई दोस्तों को कॉल किया है लेकिन उनमें से कई ने जबाव नहीं दिया है. मैं अपने दोस्तों को लेकर चिंतित हूं."

मस्जिद में क्या हुआ?

अल नूर मस्जिद क्राइस्टचर्च के डीन एवेन्यू में हेगली पार्क के सामने स्थित है.

कुछ चश्मदीदों का ये भी कहना है कि उन्होंने मस्जिद के भीतर शव देखे हैं. हालांकि पुलिस ने अभी इसकी पुष्टि नहीं की है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

रिपोर्टों के मुताबिक़ लिनवुड इलाक़े की एक और मस्जिद को भी ख़ाली करा लिया गया है.

टीवी न्यूज़ीलैंड से बात करते हुए एक चश्मदीद ने बताया, ''मेरे सामने हमलावर ने एक शख़्स के सीने में गोलियां दागीं. लगभग 20 मिनट तक गोलीबारी जारी रही और कम से कम 60 लोग ज़ख्मी हो सकते हैं ''

चश्मदीद के मुताबिक़ हमलावर ने पहले पुरुषों के प्रार्थना घर को निशाना बनाया फिर महिलाओं के कमरे की ओर बढ़ा.

उन्होंने बताया, ''उस वक़्त मैं बेहद घबराया हुआ था और बस ईश्वर से यही प्रार्थना कर रहा था कि हमलावर के पास गोली ख़त्म हो जाए. महिलाओं के प्रार्थना घर में जाकर उसने गोली चलाई और मैंने आवाज़ सुनी कि एक महिला की मौत हो गई है.''

इमेज कॉपीरइट Reuters

प्रशासन का क्या कहना है?

स्थानीय मीडिया के मुताबिक केंटरबरी डिस्ट्रिक्ट हेल्थ बोर्ड ने अपने आपातकालीन प्लान को भी लागू कर दिया है.

इसके तहत हताहतों के लिए आपात सेवाएं सुरक्षित रख ली जाती हैं. हालांकि हेल्थ बोर्ड के प्रवक्ता ने ये नहीं बताया है कि कितने लोगों के अस्पताल पहुंचने की संभावना है.

पुलिस ने शहर के कैथेडरल स्क्वेयर को भी ख़ाली करा लिया है. यहां हज़ारों बच्चे जलवायु परिवर्तन के मुद्दे पर रैली कर रहे थे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए