बेल्जियम में नीलामी में 9.71 करोड़ रुपये में बिका ये कबूतर

  • 19 मार्च 2019
अर्मांडो इमेज कॉपीरइट PIPA
Image caption अर्मांडो अब रिटायरमेंट का आनंद ले रहा है

एक कबूतर को रिकॉर्ड 1.25 मिलियन यूरो यानी तकरीबन 9.71 करोड़ रुपये में नीलाम किया गया हैय

नीलामी हाऊस पीपा ने अर्मांडो नामक इस कबूतर को 'लंबी दूरी का सबसे उम्दा बेल्जियम का कबूतर' बताया है. साथ ही इस कबूतर का नाम 'कबूतरों का लूईस हेमिल्टन' कहा जा रहा है.

इस नीलामी से पहले सबसे महंगा कबूतर 3.76 लाख यूरो (2.92 करोड़) में बिका था. पीपा ने कहा है कि यह रिकॉर्ड तभी टूट गया जब अर्मांडो का नीलामी के लिए उतारा गया.

यह कबूतर इस साल पांच साल का हुआ है और अब रिटायरमेंट का आनंद ले रहा है.

इतनी बड़ी निलामी पर नहीं हो रहा यक़ीन

पीपा के सीईओ निकोलास गाएसेलब्रेख़्त को कबूतर के इतना महंगा बिकने पर यकीन नहीं है. वह कहते हैं कि इस पर विश्वास ही नहीं होता है.

उन्होंने कहा, "हमने सपने में भी इस दाम के बारे में कभी सोचा नहीं था. हमने आशा की थी कि यह दाम चार से पांच लाख यूरो हो सकता है और ज़्यादा से ज़्यादा छह लाख यूरो सोचा था."

इमेज कॉपीरइट PIPA
Image caption इस साल यह पांच साल का हो गया है

गाएसेलब्रेख़्त ने कहा कि चीन के दो ख़रीदारों ने नीलामी में बढ़-चढ़कर बोली लगाई. एक घंटे में यह बोली 5.32 लाख यूरो से 1.25 मिलियन यूरो पर पहुंच गई.

कई हवाई रेस जीत चुका है अर्मांडो

सारी चीज़ों को ध्यान में रखते हुए हवाई दौड़ लगाने वाले इन कबूतरों की कीमत 2,500 यूरो होती है. लेकिन अर्मांडो कोई आम कबूतर नहीं है.

अपने करियर की आख़िरी तीन दौड़ों को इसने जीता है जिनमें 2018 की ऐस पिज़न चैंपियनशिप, 2019 की पिज़न ओलंपियाड और अंगूलेम शामिल हैं.

अर्मांडो के प्रशंसकों की कमी नहीं है. बेल्जियम के परवेज़ शहर की स्थानीय पिज़न फेंसिंग एसोसिएशन के अध्यक्ष फ़्रेड वेंकेली ने बेल्जियम के सरकारी ब्रॉडकास्टर आरटीबीएफ़ से कहा कि यह 'कबूतरों का लुईस हेमिल्टन' है और यह खेल के इतिहास में सबसे ख़ास है.

अर्नांडो अब रिटायरमेंट का आनंद ले रहा है लेकिन उसके नए मालिक उससे प्रजनन कराएंगे और उसके वंश को आगे बढ़ाएंगे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूबपर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे

संबंधित समाचार