नेपाल में तूफ़ानः 'सेकेंड के कुछ हिस्से में मेरी जान बची'

  • 1 अप्रैल 2019
नेपाल तूफ़ान इमेज कॉपीरइट EPA

नेपाल के दक्षिणी इलाके में आए भयंकर तूफ़ान में कम से कम 30 लोगों के मारे जाने और सैकड़ों लोगों के घायल होने की ख़बर है.

अधिकारियों के अनुसार, तूफ़ान इतना ताक़तवर था कि इससे कई घर ध्वस्त हो गए, गाड़ियां पलट गईं, पेड़ गिर गए और बिजली के खंभे गिर गए.

एक प्रत्यक्षदर्शी ने बताया कि सवारियों से भरी एक बस दुर्घटनाग्रस्त हो गई, जिसमें कई लोग घायल हो गए.

70 साल की कुसुम कालू ने बीबीसी को बताया कि तूफ़ान के समय वो बाल बाल बचीं.

बारा ज़िले में उन्होंने बीबीसी नेपाली को बताया, "मैं बस घर से निकलने वाली थी और जैसे ही मैंने दरवाज़ा खोला छत गिर गई."

Image caption तूफ़ान से सैकड़ों लोग बेघर हो गए हैं.

वो कहती हैं, "अगर मैं घर में सो गई होती या कुछ सेकेंड देरी से दरवाजा खोला होता तो, मुझे नहीं लगता कि मैं बची होती."

बारा के बालबारियम की रहने वाली द्रौपदी देवी ने बीबीसी को बताया कि उनके गांव का हर घर क्षतिग्रस्त हो गया है.

राहत और बचाव कार्य जारी

वो कहती हैं कि तूफ़ान के समय दीवार उनके ऊपर गिर पड़ी, किसी तरह मलबे से वो लोग बाहर निकाले गए.

राहत और बचाव कार्य के लिए सुरक्षा बलों को इन इलाकों में भेजा गया है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

पत्रकारों का कहना है कि नेपाल में बसंत के दौरान तूफ़ान आना कोई बड़ी बात नहीं, लेकिन इनमें शायद कोई इतनी तबाही मचाते हों.

एक वालंटियर प्रकाश थारू ने कहा, "तूफ़ान ने अपने रास्ते में आई हर चीज़ को नष्ट किया. घरों के ऊपर छतें नहीं हैं और पेड़ धाराशाई हुए पड़े हैं."

प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली ने कहा कि सरकार घायलों की हर संभव मदद करने की कोशिश कर रही है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए