श्रीलंका धमाके: मृतकों में हैं 10 भारतीय

  • 23 अप्रैल 2019
श्रीलंका धमाकों के पीड़ित इमेज कॉपीरइट Getty Images

खून से सनी सैंडल, टूटी चप्पलें और चश्मा. ये सामान श्रीलंका में हुए हमलों के पीड़ितों के है.

श्रीलंका के चर्च और होटलों को निशाना बनाकर किए गए बम हमलों में अब तक 310 लोगों की मौत हो चुकी है. इन हमलों के बाद से पूरा देश सदमे में है.

ये धमाके राजधानी कोलंबो, नेगोम्बो और पूर्वी तट पर बट्टिकलोआ में हुए.

माना जा रहा है कि मरने वालों में ज़्यादातर श्रीलंका के नागरिक हैं, लेकिन अधिकारियों के मुताबिक मरने वालों में कम से कम 31 विदेशी हैं. इनमें ब्रिटेन, भारत, डेनमार्क, सऊदी, चीन और तुर्की के नागरिक शामिल हैं.

सरकार ने कुछ सोशल मीडिया नेटवर्क्स पर अस्थाई रोक लगा दी है, ताकि ग़लत जानकारी को फैलने से रोका जा सके. ऐसे में श्रीलंका हमलों से जुड़ी जानकारी थोड़ी देर से आ रही है. लेकिन हमले में मारे गए लोगों के बारे में अबतक हमें जो जानकारी मिल पाई है, वो कुछ इस तरह है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption सरकारी प्रवक्ता रजिता सेनारत्ने

10भारतीय,जिनमें चार राजनीतिक कार्यकर्ता

इंडिया इन श्रीलंका के ट्वीट के मुताबिक, बम हमलों में मारे गए 10 लोग भारतीय नागरिक हैं. इनमें से 5 कर्नाटक के जनता दल सेक्युलर पार्टी के कार्यकर्ता थे.

मारे गए पार्टी कार्यकर्ताओं की पहचान के जी हनुमनथारयप्पा, एम रंगप्पा, के एम लक्ष्मीनारायण और लक्ष्मण गौड़ा रमेश के तौर पर हुई है. बताया जा रहा है कि ये लोग जेडीएस पार्टी के सदस्य थे.

कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने एक ट्वीट कर कहा है कि मारे गए कुछ पार्टी कार्यकर्ताओं को वो निजी तौर पर जानते थे. उन्होंने कहा कि वो इस हमले से 'हैरान' हैं.

18 अप्रैल को हुए लोकसभा चुनाव के बाद ये कार्यकर्ता श्रीलंका में छुट्टियां मना रहे थे.

बीबीसी हिंदी से जुड़े इमरान कुरैशी से बातचीत में शिवअन्ना के साले एस शिवकुमार ने कहा, "वो करीब आठ बजे होटल गए और सीधे ब्रेकफास्ट करने पहुंच गए. वहीं वो हमले का शिकार हो गए."

रज़ीना कादर की मौत भी इसी धमाके में हुई है.

58 साल की रज़ीना मूल रूप से केरल की हैं और दुबई में अपने पति के साथ रहती थीं. वो अपने रिश्तेदारों से मिलने कोलंबो गई थीं.

उनके पति रविवार सुबह ही दुबई निकल गए थे और वो उसी दिन अगली फ्लाइट से निकले वाली थीं.

लेकिन शंगरी-ला होटल से चेक आउट करने के तुरंत बाद ही वो मारी गईं.

एक न्यूज़ आउटलेट के मुताबिक, दंपत्ति का एक बेटा और बेटी हैं, जो अमरीका में रहते हैं.

डेनमार्क के अरबपति के बच्चे

श्रीलंका में हुए बम धमाकों में डेनमार्क के अरबपति ऐंडर्स हॉल्श पॉलसन के तीन बच्चे भी मारे गए हैं. एक प्रवक्ता ने बीबीसी से इस बात की पुष्टि की है.

46 साल के पॉलसन बेस्टसेलर क्लोदिंग चेन के मालिक हैं और लोकप्रिय ऑनलाइन रिटेलर एसॉस में सबसे बड़े हिस्सेदार हैं.

फिलहाल कंपनी ने मारे गए बच्चों के बारे में और जानकारी देने से मना कर दिया है और परिवार की निजता का सम्मान करने की अपील की है.

पॉलसन के बच्चों में से एक ने घटना के चार दिन पहले इंस्टाग्राम पर एक तस्वीर पोस्ट की थी, जिसमें जियो-टैग श्रीलंका था.

श्रीलंका की सेलिब्रिटी शेफ़ और उनकी बेटी

श्रीलंका की एक सेलिब्रिटी शेफ़ शांता मायादुन और उनकी बेटी निसिंगा इस हमले में मारी गई हैं.

मारे गए पीड़ितों में सबसे पहले जिन लोगों की पहचान हुई, उनमें सेलिब्रिटी शेफ़ शांता शामिल थीं.

उनकी बेटी निसिंगा ने धमाके के कुछ वक्त पहले ही परिवार के साथ कोलंबो के शंगरी-ला होटल में नाश्ता करने की एक तस्वीर सोशल मीडिया पर शेयर की थी.

उनके परिवार के सदस्यों ने बाद में सोशल मीडिया पर पोस्ट करके मां-बेटी की मौत की पुष्टि की. उन्होंने लिखा कि "किसी भी शब्दों में इस दर्द को बयां नहीं किया जा सकता."

इमेज कॉपीरइट Reuters

होटल के कर्मचारी

कोलंबो के सिनेमन ग्रैंड होटल के चार कर्मचारी इन हमलों में मारे गए हैं.

वहीं शंगरी ला होटल के तीन कर्मचारी भी इन धमाकों के पीड़ितों में शामिल हैं.

शंगरी ला होटल ने फेसबुक पर बयान जारी कर कहा है कि "उनके तीन कर्मचारी बुरी तरह से घायल" हुए हैं.

फिलहाल इससे जुड़ी और कोई जानकारी नहीं मिल पाई है.

इमेज कॉपीरइट FACEBOOK
Image caption अनीता निकोलसन और उनके बच्चे एलेक्स और एनाबेल पीड़ितों में शामिल हैं

आठ ब्रिटिश नागरिक

श्रीलंका के लिए ब्रिटेन के उच्चायुक्त जेम्स डोरिस ने मौतों की पुष्टि की है. पीड़ितों में एक ही परिवार के तीन लोग भी शामिल हैं.

बेन निकोलसन ने कहा कि उनकी पत्नी अनीता, उनके 14 साल के बेटे एलेक्स और 11 साल की बेटी एनाबेल शंगरी ला होटल में मारे गए हैं.

बेन निकोलसन ने एक बयान में कहा, "अनीता को घूमना और परिवार, खासकर बच्चों को खूबसूरत दुनिया दिखाने का शौक था. उसी ने इस हॉलीडे की योजना बनाई थी."

उन्होंने मीडिया से अपील की कि वो "उनकी निजता का सम्मान करें और परिवार को इस दुख के पल में अकेला छोड़ दें."

इमेज कॉपीरइट Reuters

तुर्की के दो नागरिक

सरकारी न्यूज़ एजेंसी के मुताबिक, मेरने वालों में तुर्की के दो नागरिक भी शामिल हैं.

सेलजुक नारिजी की फेसबुक प्रोफाइल के मुताबिक वो मार्च 2017 में कोलंबो बस गए थे.

उनके पिता ने कहा कि वो इलेक्ट्रॉनिक इंजीनियर थे, जो श्रीलंका में अमरीकी दूतावास में कुछ काम कर रहे थे.

उन्होंने बताया, "उसने सुबह पांच बजे मुझे गुड मॉर्निंग मैसेज किया. उससे मेरी ये आखिरी बातचीत थी."

पीड़ितों में शामिल यिगित अली कवस भी इंजीनियर थे.

हालांकि अभी ये साफ नहीं हो पाया है कि ये लोग कहां मारे गए.

इनके अलावा धमाकों में ऑस्ट्रेलिया की एक महिला और उनकी 10 साल की बेटी भी मारी गई हैं. ये महिला नेगोम्बो की एक चर्च में थीं.

इमेज कॉपीरइट Reuters

बांग्लादेश के एक नेता की मौत

हमले में बांग्लादेश के सांसद शेख फज़लुल करीम के पोते भी मारे गए हैं.

करीम के पोते खुद भी आवामी लीग पॉलिटिकल पार्टी के लोकप्रिय नेता हैं. स्थानीय मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक, वो एक होटल में अपने परिवार के साथ रुके थे. जहां एक धमाका हुआ और वो मारे गए. हालांकि अभी ये साफ नहीं है कि वो होटल कौन सा था.

इमेज कॉपीरइट COURTESY OF LEWIS FAMILY

इनके अलावा अपने तीन बेटों और पति के साथ कोलंबो घूमने आई एक डच महिला मोनिक एलन भी धमाके की चपेट में आ गईं. वो सिनेमन ग्रैंड होटल में रुकी थीं.

वो अपने एक बेटे के साथ नीचे नाश्ता कर रही थीं, जबकि उनके बाकी दो बेटे और पति ऊपर कमरे में ही थे. परिवार के बाकी लोग बच गए.

पुर्तगाल के एक इलेक्ट्रिकल इंजीनियर भी इन हमलों में मारे गए हैं. 30 साल के रुइ लुकस अपनी पत्नी के साथ हनीमून पर आए थे. उनकी एक हफ्ते पहले ही शादी हुई थी.

वो किंग्सबरी होटल में रुके थे. उनकी पत्नी हमले में बच गई हैं.

इमेज कॉपीरइट Reuters

अमरीका के कोलोराडो के नागरिक

अमरीका के कोलोराडो के रहने वाले डाइटर कोवाल्स्की भी मरने वालों में शामिल हैं. वो श्रीलंका एक वर्क ट्रिप पर गए थे. उन्होंने फ़ेसबुक पर इसे लेकर पोस्ट डाली थी.

वॉशिंगटन पोस्ट के मुताबिक, वॉशिंगटन डीसी के एक एलिमेंट्री स्कूल स्टूडेंट भी मारे गए चार अमरीकियों में शामिल हैं. वो 5वीं ग्रेड में थे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूबपर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार