तस्वीरों मेंः धमाकों के तीन दिन बाद श्रीलंका

  • 24 अप्रैल 2019
इमेज कॉपीरइट Reuters

ईस्टर संडे को हुए सीरियल बम धमाकों के बाद पूरे श्रीलंका में मातम पसरा हुआ है. कुमारी फर्नांडो ने सेंट सेबेस्टियन चर्च में हुए धमाकों में अपने दो बच्चों और पति को खो दिया.

बुधवार को हुए सामूहिक अंत्येष्टि में शवों को दफ़नाते समय उनका सब्र टूट गया.

इमेज कॉपीरइट AFP

चर्चों और होटलों में हुए आठ धमाकों में अबतक 359 लोगों के मारे जाने की पुष्टि हुई है जबकि 500 लोग घायल हुए हैं.

इमेज कॉपीरइट EPA

श्रीलंकाई प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे ने कहा कि इन विस्फ़ोटों से इस्लामिक स्टेट (आईएस) को जोड़ा जा सकता है.

धमाकों की ज़िम्मेदारी आईएस ने ली है लेकिन इसका कोई प्रत्यक्ष प्रमाण नहीं दिया है, जैसा कि वो करता रहा है.

इमेज कॉपीरइट EPA

और हमलों की आशंका में पूरे देश में सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई है और नाके लगाकर वाहनों और लोगों की चेकिंग की जा रही है.

श्रीलंका के राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरीसेना ने सुरक्षा बल और पुलिस का पुनर्गठन करने का संकल्प लेते हुए बताया कि इस हमले को लेकर कोई चेतावनी पहले साझा नहीं की गई थी.

इमेज कॉपीरइट PA

रॉरेन कैंपबेल और उके पति नील इवांस इन धमाकों में मारे गए आठ ब्रितानी नागरिकों में शामिल हैं. मृतकों में 38 नागरिक हैं.

भारत के 11 नागरिकों के मारे जाने की पुष्टि हुई है जिनमें जनता दल सेक्युलर (जेडीएस) के कार्यकर्ता भी शामिल हैं.

इमेज कॉपीरइट Reuters

धमाका इतना ज़बरदस्त था कि चर्च की छतें तक उड़ गईं. पुलिस ने बताया कि चर्चों और होटलों में हुए इन बम धमाकों में अब तक नौ में से आठ हमलावरों की पहचान कर ली गई है. यह भी बताया गया कि इनमें से एक महिला हैं और कोई भी हमलावर विदेशी नहीं है.

इमेज कॉपीरइट EPA

पुलिस ने अब तक 60 से अधिक संदिग्ध लोगों को हिरासत में लिया है. आगे किसी हमले को रोकने के लिए आपातकाल लगाया गया है.

इमेज कॉपीरइट EPA

कोलंबो के बौद्ध विहार में दिवंगत लोगों के लिए शांति प्रार्थना आयोजित की गई. इस घटना से पूरे दुनिया में शोक की लहर है और प्रर्थना सभाएं और कैंडल मार्च निकाले जा रहै हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे