श्रीलंका के प्रधानमंत्री: धमाकों से जुड़े इंटेलिजेन्स की मुझे कोई जानकारी नहीं थी

  • 27 अप्रैल 2019
रानिल विक्रमसिंघे
Image caption बीबीसी से बातचीत करते हुए

श्रीलंका के प्रधानमंत्री ने बीबीसी से कहा है कि रविवार को ईस्टर के मौक़े पर हुए धमाकों से जुड़ी ख़ुफ़िया चेतावनी के बारे में उन्हें कोई जानकारी नहीं थी.

प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे ने बीबीसी से एक ख़ास बातचीत में कहा कि देश में किसी भी तरह का कोई ख़तरा है, उन्हें इस बारे में कोई भी सूचना नहीं दी गई थी.

रविवार को चर्च और होटलों को निशाना बनाते हुए जो आत्मघातीह हमले हुए थे उनमें कम से कम 250 लोग मारे गए थे. श्रीलंका की सरकार ख़ुद इसे सुरक्षा और इंटेलिजेन्स में भारी चूक मान रही है.

इन हमलों के बाद श्रीलंका के पुलिस प्रमुख और रक्षा सचिव ने अपने पद से इस्तीफ़ा दे दिया है.

लेकिन प्रधानमंत्री विक्रमसिंघे ने ये कहते हुए इस्तीफ़ा देने से इनकार कर दिया है कि इस सुरक्षा और इंटेलिजेन्स चूक के लिए वो ज़िम्मेदार नहीं हैं, क्योंकि उन्हें तो इस बारे में कुछ बताया ही नहीं गया था.

उनका कहना था, ''अगर मुझे इसकी ज़री सी भी भनक होती और मैंने उस पर कार्रवाई नहीं की होती तो मैं फ़ौरन अपने पद से इस्तीफ़ा दे देता. लेकिन अगर आपको पूरे मामले की कोई जानकारी ही नहीं थी तो आप क्या कर सकते हैं.''

इससे पहले श्रीलंका के राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरिसेना ने कहा कि श्रीलंका के ख़ुफ़िया विभाग का मानना है कि ख़ुद को इस्लामिक स्टेट कहने वाले चरमपंथी संगठन के क़रीब 130 संदिग्ध श्रीलंका में मौजूद हैं और पुलिस उनमें से अभी तक लापता 70 लोगों की खोज में है.

इस बीच श्रीलंका की पुलिस ने पूर्वी श्रीलंका के शहर सम्मनथुराई में एक घर पर छापा मारा है जो पुलिस के अनुसार रविवार हमले में शामिल हमलावरों का सेफ़ हाउस था.

पुलिस के प्रवक्ता ने बीबीसी को बताया कि उस जगह से इस्लामिक स्टेट का बैनर और कथित आत्मघाती हमलावरों ने जो वीडियो रिलीज़ किया था उनमें जो कपड़े पहने हुए दिखे थे उसी तरह के कपड़े पुलिस को वहां से मिले थे.

इस छापेमारी के दौरान पुलिस को क़रीब 150 डायनामाइट की छड़ें और क़रीब एक लाख बॉल बियरिंग्स भी मिले थे. इसके अलावा एक दूसरी जगह से सुरक्षा बलों और कथित अभियुक्तों के बीच गोलीबारी की भी ख़बरें हैं.

श्रीलंका के अधिकारी स्थानी चरमपंथी संगठन नेशनल तौहीद जमात को इसके लिए ज़िम्मेदार मानते हैं. हालांकि इस्लामिक स्टेट ने भी दावा किया है कि रविवार को होने वाले हमले के लिए वो ज़िम्मेदार है.

श्रीलंका के पूर्वी प्रांत अंबारई में तीन धमाकों की ख़बरें आ रही हैं.

पुलिस प्रवक्ता कार्यालय का कहना है कि कुछ लोगों के समूह ने अंबारई के साइंदमरदु में सुरक्षाबलों पर गोलीबारी की.

पुलिस के मुताबिक़ सुरक्षा जांच में पाया गया कि एक संदिग्ध ने इमारत के अंदर बम धमाका किया है. हालांकि अभी ये पता नहीं चल पाया है कि क्या ये एक आत्मघाती हमला था.

बीबीसी सिंहला सेवा के सहयोगी अज़्ज़ाम अमीन ने ट्वीट करके जानकारी दी है कि पुलिस ने ये तलाशी ईस्टर रविवार को हुए धमाकों के प्रमुख साज़िशकर्ता माने जा रहे ज़हरान हाशिम के गांव कट्टाकुंडी के एक घर में ली थी.

ये भी पढ़ें:श्रीलंका: 'मैंने उस हमलावर से बात की थी'

इस सिलसिले में सात लोगों को गिरफ़्तार कर लिया गया है.

फ़िलहाल किसी नुक़सान की ख़बर नहीं है. घटना के बाद शहर में सुरक्षा इंतज़ाम कड़े कर दिए गए हैं.

पुलिस ने शुक्रवार रात 10 बजे से शनिवार सुबह 4 बजे तक के लिए पूरे श्रीलंका में कर्फ़्यू लगा दिया है.

वहीं साइंदमरदु, कलमुनई और चवलकडई में तत्काल प्रभाव से कर्फ़्यू लगा दिया गया है.

श्रीलंका में ईस्टर रविवार को छह अलग-अलग चर्चों और होटलों में आत्मघाती हमले हुए थे जिसमें कम से कम 250 लोगों की मौत हो गई थी और सैकड़ों लोग घायल हुए थे.

ये भी पढ़ें: श्रीलंका धमाकेः ब्रिटेन, ऑस्ट्रेलिया से पढ़कर आया था हमलावर

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार