नरेंद्र मोदी की जीत पर नेपाल से क्या संदेश आया?

  • 27 मई 2019
केपी ओली, नरेंद्र मोदी इमेज कॉपीरइट Getty Images

नेपाल के विदेश नीतियों के जानकार और राजनेताओं ने पड़ोसी मुल्क भारत में नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली बीजेपी की शानदार जीत पर मिली-जुली प्रतिक्रिया दी है.

प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बधाई देने वाले नेपाल के पहले नेताओं में से एक बने. यहां तक कि उन्होंने गुरुवार को नरेंद्र मोदी को एक टेलीफ़ोन कॉल भी किया, इसके तुरंत बाद घोषित नतीजों में बीजेपी को 300 सीटें दिखाई जाने लगीं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

क्यों बिगड़े थे संबंध?

प्रधानमंत्री ओली की विदेश नीति के सलाहकार राजन भट्टाराई ओली के अनुसार, ओली की मोदी से बातचीत में दोनों नेताओं ने दोनों पड़ोसियों के बीच मौजूद वर्षों पुराने संबंधों को सुधारने के लिए मिलकर काम करने की उम्मीद जताई.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
भारत के चुनाव को किस नज़रिए से देख रहे हैं नेपाल के लोग.

2014 में जब नरेंद्र मोदी ने नेपाल दौरे में नेपाली संसद में अपने संबोधन से कईयों के दिलों-दिमाग़ को जीत लिया था. लेकिन इसके बाद नेपाल में आंतरिक संघर्षों के बाद 2015 में नए संविधान को लागू करने की बारी आई तो भारत के रुख़ का नेपाल में विरोध हुआ.

भारत की तरफ़ से नेपाल सीमा पर अघोषित नाकेबंदी की गई तो दोनों देशों के बीच संबंधों में तेज़ी से गिरावट आई.

नेपाल के लिए यह नाकेबंदी एक झटके के रूप में थी, क्योंकि इस दौरान वह अप्रैल-मई 2015 के विनाशकारी भूकंपों से उबरने के लिए संघर्ष कर रहा था.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption 25 अप्रैल 2015 को नेपाल में आए भूकंप के बाद का हाल

2015 से सुधरे हैं संबंध

हालांकि, कुछ दिन पहले राजन भट्टाराई ने कहा था कि दोनों देशों के बीच उच्च-स्तरीय बातचीत के बाद द्विपक्षीय लेन-देन में भी सुधार हो रहा है.

उन्होंने बीबीसी नेपाली से कहा, "अब संबंध सुधर रहे हैं और शुक्रवार को मोदी और ओली के बीच टेलीफ़ोन पर हुई बातचीत के दौरान, दोनों पक्षों ने संबंधों में सुधार लाने और उसे नई ऊंचाइयों पर ले जाने पर अपनी सहमति व्यक्त की."

पूर्व प्रधानमंत्री गिरिजा प्रसाद कोइराला की बेटी और खुद उप-प्रधानमंत्री रह चुकीं विपक्षी नेपाली कांग्रेस की नेता सुजाता कोइराला ने भी मोदी के दोबारा चुने जाने पर खुशी जताई.

उन्होंने बीबीसी नेपाली से कहा, "मुझे बहुत उम्मीद थी कि मोदी दोबारा सत्ता में लौट आएंगे. मेरा अपना मानना है कि वो बहुत गतिशील हैं. वह निश्चित रूप से हमारे सदियों पुराने संबंधों को सुधारने के लिए कड़ी मेहनत करेंगे."

इमेज कॉपीरइट PTI

संबंधों में सुधार

देशसंचार डॉटकॉम के संपादक और भारतीय मीडिया में काम कर चुके वरिष्ठ पत्रकार युबराज घिमिरे ने उम्मीद जताई कि मोदी अपनी सुधार योजनाओं को और ज़्यादा तेज़ करने के लिए अपने मंत्रियों और नौकरशाही दोनों का पुनर्गठन करेंगे.

घिमरे कहते हैं, "इसमें नेपाल सहित सभी दक्षिण एशियाई पड़ोसियों के साथ संबंधों को सुधारना भी शामिल होगा, जहां भारत को लगता है कि चीन अपनी पैठ बना रहा है."

यह सुनिश्चित करने के लिए वह कड़ी मेहनत करेंगे कि सभी पड़ोसियों के साथ भारत के संबंध सौहार्दपूर्ण और मजबूत हों. हालांकि पाकिस्तान के साथ भारत का रिश्ता बिल्कुल ही अलग है. यहां पूरी तरह से अलग शर्तों पर भारत चलेगा."

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को मिले प्रचंड बहुमत पर सोशल मीडिया के जरिये भी नेपाल से मिली-जुली प्रतिक्रिया आई है. अधिकतर राजनेता उन्हें बधाई दे रहे हैं और उनके दूसरे कार्यकाल की सफलता के लिए शुभकामनाएं भेज रहे हैं.

ये भी पढ़ें:

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार