पाकिस्तान में गुरु नानक देव से जुड़ी इमारत को नुक़सान पहुंचाने का सच

  • 31 मई 2019
मुहम्मद गुज्जर

हाल ही में पाकिस्तान के पूर्वोत्तर शहर नरोवाल के बाथनवाला गांव में स्थित एक पुरानी इमारत को स्थानीय मीडिया ने गुरु नानक से जोड़कर ख़बर चलाई थी.

दरअसल यह ख़बर पाकिस्तान के एक प्रतिष्ठित अख़बार में लगी थी जिसके अनुसार, कुछ शरारती तत्वों ने पाकिस्तान के नरोवाल शहर के बाथनवाला गांव में सदियों पुराने गुरु नानक महल को नुक़सान पहुंचाया है. इसकी क़ीमती खिड़कियां, दरवाज़े और रोशनदान बेच दिए गए हैं.

इमेज कॉपीरइट DISTRICT GOVERNMENT NAROWAL

इस ख़बर के आधार पर ही भारत में बहुत सी ख़बरें चलीं, लेकिन क्या यह इमारत गुरु नानक से जुड़ी हुई थी?

शेर मुहम्मद का परिवार इस इमारत में 1947 से रह रहा है. लेकिन हाल ही में कुछ स्थानीय मीडिया में ख़बरें आईं कि यह इमारत सिख संप्रदाय के बाबा गुरु नानक देव से जुड़ी है.

गुरु नानक ने जब जनेऊ पहनने से किया इनकार

इमेज कॉपीरइट Combo photo

शेर मुहम्मद का मानना है कि यह सही नहीं है.

उन्होंने बीबीसी को बताया, "क़रीब एक हफ़्ता हुआ है जब एक पार्टी आई और उसने यह दावा किया कि यह गुरु नानक से जुड़ा हुआ है, उससे पहले इसका कोई ज़िक्र नहीं था. आप ख़ुद ही इसे देख सकते हैं. हमसे पहले, कोई परिवार यहां रहता था जो यहां आए और छोड़ कर यहां से जा चुके हैं."

"कुछ लोग भारत से यहां आ कर बसे थे. लेकिन उन्हें लगा कि यह सीमा से सटा हुआ है लिहाज़ा वो यहां नहीं रहना चाहते थे. उनके रिश्तेदारों ने उन्हें यहां से कहीं और जाने की सलाह दी थी. इस इमारत की निगरानी के लिए एक व्यक्ति यहां रहा करता था, हालांकि जो यहां से गए उनके परिवार का कोई नहीं रहता था. उसके बाद हमने यहां रहना शुरू किया और यह आज भी हमारे पास ही है."

इमेज कॉपीरइट DISTRICT GOVERNMENT NAROWAL

तो सवाल उठता है कि आख़िर 72 साल बाद अचानक से ऐसी बातें क्यों सामने आई?

स्थानीय प्रशासन का कहना है कि उन्हें एक शिकायत मिली कि एक पुरानी इमारत का मलबा बेचा जा रहा है. उसके बाद कुछ स्थानीय पत्रकारों ने सिख धर्म के गुरुओं की तस्वीरें देखीं. इस तरह से यह गुरु नानक से जुड़ा हुआ मामला बन गया.

हालांकि, स्थानीय लोगों का मानना है कि इमारत बेहद कमज़ोर हो चुकी है यही कारण है कि इसे गिराया जा रहा है.

बाथनवाला के रहने वाले समर अब्बास कहते हैं, "यह सदियों पुरानी जर्जर हो चुकी इमारत है, जो ख़ुद-ब-ख़ुद गिरने लगी है. कुछ बार तो ऐसा हुआ कि जब इसके कुछ हिस्से गिरे तो इस गली से गुज़र रहे स्थानीय निवासियों को उससे नुक़सान पहुंचा. तब स्थानीय लोगों ने इसे धीरे-धीरे गिराने का फ़ैसला किया और जो परिवार यहां रहता है वो ऐसा ही कर रहा है."

शेर मुहम्मद का मानना है कि मीडिया में जो तस्वीरें आईं उसे विभाजन से पहले यहां रहने वाले परिवार ने बनाया था. यह गुरुद्वारा नहीं है, न ही कोई अन्य धार्मिक इमारत.

हालांकि अब इस महल को सील कर दिया गया है और शेर मुहम्मद बेघर हो गए हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे