ट्रंप ने दोबारा राष्ट्रपति बनने के लिए शुरू किया चुनावी अभियान

  • 19 जून 2019
ट्रंप इमेज कॉपीरइट Getty Images

अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने दोबारा राष्ट्रपति बनने के लिए चुनावी अभियान की औपचारिक शुरुआत कर दी है.

इसी सिलसिले में रिपब्लिकन राष्ट्रपति ट्रंप ने फ़्लोरिडा में समर्थकों की एक रैली को संबोधित किया. इस बार भी उनके प्रचार अभियान में ग़ैर-क़ानूनी प्रवासी का मुद्दा अहम है.

उन्होंने डेमोक्रेटिक पार्टी के सदस्यों पर निशाना साधा और कहा कि वो 'आपके देश को टुकड़े टुकड़े करने की' कोशिश कर रहे हैं.

इस रैली में मंच पर ट्रंप की पत्नी मेलानिया भी मौजूद थीं. उन्होंने कहा कि वो फिर से फर्स्ट लेडी बनने को उत्सुक' हैं.

इस मौक़े पर उपराष्ट्रपति माइक पेंस और प्रेस सेक्रेटरी सारा सैंडर्स भी मौजूद थे और उन्होंने भी लोगों को संबोधित किया.

ट्रंप ने कहा, "आज रात मैं आपके सामने राष्ट्रपति के रूप में दूसरे कार्यकाल के लिए आधिकारिक चुनाव प्रचार की शुरुआत कर रहा हूं. मैं आपसे वादा करता हूं कि आपको कभी भी शर्मिंदा नहीं होने दूंगा."

फ़्लोरिडा में कांटे की टक्कर है और वहां से 2016 में ट्रंप बहुत कम अंतर से जीते थे.

इमेज कॉपीरइट Reuters

मंगलवार की रात ओर्लांडो में राष्ट्रपति ने अपने समर्थकों से कहा, "हम अमरीका को फिर से महान बनाने जा रहे हैं."

समर्थकों में इतना उत्साह था कि कुछ समर्थक राष्ट्रपति की एक झलक पाने के लिए अल सुबह से ही रैली स्थल पर पहुंच गए थे.

हालांकि उनकी रैली के विरोध में पास ही एक विरोध प्रदर्शन भी आयोजित हुआ.

ट्रंप ने क्या कहा?

क़रीब 80 मिनट के अपने भाषण में ट्रंप 2016 के अपने पुराने चुनाव प्रचार की थीम पर ही भरोसा किया .

उन्होंने ग़ैरक़ानूनी प्रवासियों के ख़िलाफ़ कार्रवाई करने की बात दुहराई. एक दिन पहले ही उन्होंने ट्वीट किया था कि अमरीकी प्रवासी विभाग और कस्टम्स इनफ़ोर्समेंट विभाग जल्द ही देश से ग़ैरक़ानूनी प्रवासियों को बाहर करने की कार्रवाई शुरू करेंगे.

फ़्लोरिडा में उन्होंने कहा, "हमें भरोसा है कि हमारा देश क़ानून मानने वाले नागरिकों का देश हो न कि आपराधिक एलीयंस का."

उन्होंने डेमोक्रेट सदस्यों पर आरोप लगाया कि वे ग़ैरक़ानूनी प्रवासियों को वैधता देने की कोशिश कर रहे हैं ताकि वो अपना वोट बैंक बढ़ा सकें. उन्होंने कहा, "वे आपके देश को नष्ट करना चाहते हैं."

ट्रंप ने अपने विरोधियों को 'रेडिकल लेफ़्ट विंग मॉब' यानी रेडिकल वामपंथी भीड़ कहा, जो अमरीका में समाजवाद लाना चाहते हैं.

उन्होंने समर्थकों की भीड़ से कहा, "2020 में किसी भी डेमोक्रेट को वोट देने का मतलब है कि रेडिकल समाजवाद और अमरीकी सपने के सत्यानाश को वोट करना."

उन्होंने अर्थव्यवस्था में सुधार की तारीफ़ की और 2016 के आम चुनावों के दौरान अपने चुनाव अभियान और रूस के बीच साठगांठ को लेकर गठित म्युलर जांच की भी आलोचना की. मीडिया में इसे लेकर आने वाली कवरेज को ट्रंप ने फ़ेक न्यूज़ क़रार दिया.

डेमोक्रेट सदस्य हिलेरी क्लिंटन 2020 के राष्ट्रपति चुनावों की दौड़ में नहीं हैं फिर भी राष्ट्रपति ने समर्थकों से हिलेरी के ख़िलाफ़ नारे लगवाए- 'लॉक हर अप'.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption ट्रंप की रैली के ख़िलाफ़ कुछ लोगों ने विरोध प्रदर्शन किया.

डेमोक्रेटिक प्रतिद्वंद्वी बर्नी सैंडर्स ने ट्रंप के प्रचार अभियान के लॉन्च पर ट्वीट करते हुए कहा कि 'ट्रंप एक दूसरी दूनिया में जी रहे हैं.'

उन्होंने कहा, "हमारा सबसे महत्वपूर्ण काम है इस देश के हालिया इतिहास के सबसे ख़तरनाक़ राष्ट्रपति को हराना."

ट्रंप के भाषण से पहले क्या हुआ?

राष्ट्रपति की रैली से घंटों पहले आयोजन स्थल पर उनके हज़ारों समर्थक इकट्ठा हो गए थे.

कुछ लोग तो सोमवार की सुबह से ही ओर्लांडो के एमवे सेंटर के बाहर जमा हो गए. ट्रंप ने खुद दो दिन पहले दावा किया था कि उनकी सभा में हज़ारों लोग शामिल होंगे.

विरोध में हुए प्रदर्शन में गो फ़ंड मी प्रचार अभियान के दौरान सामने लाए गए बेबी ट्रंप के गुब्बारे भी मौजूद थे. ये गुब्बारे लंदन में ट्रंप की यात्रा के दौरान विरोध में आसमान में उड़ाए गए थे.

सोशल मीडिया पर आए वीडियो में साफ़ दिख रहा है कि ट्रंप के समर्थक विरोधी प्रदर्शनकारियों से भिड़ने की कोशिश कर रहे हैं और पुलिसकर्मी उन्हें रोकने की कोशिश कर रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption रैली से बहुत पहले ही ट्रंप समर्थक आयोजन स्थल पर पहुंच गए.

2020 में ट्रंप का मुख्य प्रतिद्वंद्वी कौन है.

राष्ट्रपति ट्रंप का मुक़ाबला करने के लिए डेमोक्रेटिक सदस्यों के बीच कई नाम हैं, लेकिन सबसे बड़ा सवाल है कि 2020 में कौन ट्रंप का मुक़ाबला करने उतरेगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार