यौन उत्पीड़न का आरोप लगाने वाली मेरे टाइप की नहीं: डोनल्ड ट्रंप

  • 26 जून 2019
ट्रंप और कैरोल इमेज कॉपीरइट REUTERS AND GETTY

अमरीका के राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने ख़ुद पर लगे यौन उत्पीड़न के आरोपों को एक बार फिर ख़ारिज किया है.

हाल ही में 75 साल की कॉलमिस्ट ए. जॉन कैरल ने आरोप लगाया था कि 1990 में ट्रंप ने न्यूयॉर्क के एक डिपार्टमेंट स्टोर में उनका यौन उत्पीड़न किया था. ट्रंप ने कहा कि वो 'पूरी तरह झूठ बोल रही हैं.'

ट्रंप ने कहा, "मैं सम्मान के साथ अपनी बात कहना चाहता हूं. पहला, वो मेरी टाइप की नहीं है. दूसरा, जो वो कह रही हैं वैसा कभी नहीं हुआ. ठीक है?"

शुक्रवार को न्यूयॉर्क मैगज़ीन के ज़रिये कैरल ने अमरीकी राष्ट्रपति पर आरोप लगाया था.

राष्ट्रपति की सफ़ाई पर सीएनएन से बात करते हुए कैरल ने कहा, "अच्छा है कि मैं उनके टाइप की नहीं हूं."

इमेज कॉपीरइट Getty Images

इससे पहले कुछ इंटरव्यूज़ में कैरल कह चुकी हैं कि वह ट्रंप के ख़िलाफ़ अदालत में जाने पर भी विचार करेंगे.

क्या हैं आरोप

कैरल का कहना हा कि 1995 के आख़िर या 1996 की शुरुआत में मैनहैटन के बर्गडॉर्फ गुडमैन स्टोर में यह घटना हुई थी.

कैरल के मुताबिक, डोनल्ड ट्रंप ने उनसे एक दूसरी महिला के लिए अंतर्वस्त्र चुनने में मदद मांगी और मज़ाकिया लहजे में उनसे पूछा कि क्या वे उन्हें पहनकर भी दिखा सकती हैं.

कैरल का आरोप है कि ट्रायल रूम में ट्रंप उन पर झपट पड़े, उन्हें दीवार से लगाकर ख़ुद को उन पर थोप दिया.

कैरल का कहना है कि काफी संघर्ष के बाद उन्होंने ट्रंप को धक्का देकर ख़ुद से अलग किया.

ये भी पढ़ें:

कैरल समेत अब तक 16 महिलाएं ट्रंप पर यौन शोषण के आरोप लगा चुकी हैं.

न्यूयॉर्क टाईम्स की दो महिला पत्रकारों ने भी कहा था कि डोनल्ड ट्रंप ने उन्हें ग़लत तरीके से छुआ था.

पीपल्स मैगज़ीन की एक रिपोर्टर का आरोप है कि ज़बरदस्ती उनका चुंबन लिया गया, जबकि एक अन्य महिला ने कहा था कि ट्रंप ने उनके नितंबों को छुआ था.

2016 में वाशिंगटन पोस्ट ने 46 साल की क्रिस्टीना एंडरसन के हवाले से लिखा था कि डोनल्ड ट्रंप ने साल 1990 में न्यूयार्क के एक क्लब में उनके साथ यौन दुर्व्यवहार किया था.

41 साल की समर ज़ेरवोस ने आरोप लगाया था कि 2007 में ट्रंप ने उन्हें नौकरी के सिलसिले में मिलने बुलाकर यौन दुर्व्यवहार किया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे

संबंधित समाचार