यूएई का गोल्डेन वीज़ाः किसे मिलेगा, क्या हैं फ़ायदे?

  • 11 जुलाई 2019
दुबई इमेज कॉपीरइट Getty Images

पिछले कुछ समय से यूएई यानी संयुक्त अरब अमीरात में बसे कई भारतीयों को गोल्डेन कार्ड वीज़ा मिलने की ख़बरें आ रही हैं.

जैसे अभी ख़बर चल रही है कि शारजाह में भारतीय कारोबारी लालू सैमुएल को ये वीज़ा जारी किया गया. वो किंग्सटन होल्डिंग्स नाम की कंपनी के मालिक हैं जिसकी गिनती मध्य पूर्व की सबसे बड़ी मैन्युफ़ैक्चरिंग कंपनियों में होती है.

वैसे ही दुबई स्थित व्यवसायी पी ए इब्राहीम हाजी को भी गोल्डेन कार्ड दिया गया जो कि मालाबार ग्रुप नामक गहने बनाने वाली कंपनी के को-चेयरमैन हैं.

मगर मई से लेकर अब तक लगातार यूएई के अलग अलग हिस्सों में बसे कई भारतीय कारोबारियों को गोल्डेन वीज़ा मिल चुके हैं.

जैसे दुबई स्थित ज्वेल ट्रेडिंग कंपनी के मालिक शेखर पटनी, रीगल ग्रुप ऑफ़ कंपनीज़ के वासु श्रॉफ़, ख़ुशी ग्रुप ऑफ़ कंपनीज़ के ख़ुशी खाटवानी, डैन्यूब ग्रुप के रिज़वान सजन, अबू धाबी के व्यवसायी एम एस यूसुफ़ अली जैसे भारतीय कारोबारियों को गोल्डन वीज़ा मिलने की ख़बरें मीडिया में आईं.

गोल्डेन वीज़ा है क्या?

गोल्डेन वीज़ा 10 साल का एक दीर्घ अवधि का वीज़ा है जिसका एलान इस साल किया गया.

यूएई के उपराष्ट्रपति और दुबई के शासक शेख़ मोहम्मद बिन राशिद अल मकतूम ने 21 मई को गोल्डेन कार्ड योजना का एलान करते हुए लिखा था, हमने निवेशकों, योग्य डॉक्टरों, इंजीनियरों, वैज्ञानिकों और कलाकारों को पर्मानेंट रेसिडेंसी देने के लिए गोल्डेन कार्ड स्कीम लॉन्च किया है.

बताया गया कि इसका मक़सद यूएई में पूँजी या निवेश करने वालों, अंतरराष्ट्रीय महत्व की बड़ी कंपनियों के मालिकों, महत्वपूर्ण क्षेत्रों के पेशेवर लोगों, विज्ञान के क्षेत्र में काम करनेवाले शोधकर्ताओं और प्रतिभाशाली छात्रों को यूएई के विकास में भागीदार बनाने के लिए आकर्षित करना है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption दुबई के शासक शेख़ मोहम्मद बिन राशिद अल मकतूम

गोल्डेन वीज़ा से फ़ायदे

गोल्डन कार्ड वीज़ा धारकों को कई सुविधाएँ मिलेंगी जिनमें सबसे अहम ये है कि वे बिना किसी अन्य व्यक्ति या कंपनी की सहायता के यूएई में अपने पति या पत्नी और बच्चों के साथ रह सकेंगे.

इससे पहले इसके लिए किसी स्पॉन्सर की ज़रूरत होती थी.

साथ ही ये वीज़ाधारक तीन कर्मचारियों को स्पॉन्सर कर सकेंगे. साथ ही वे अपनी कंपनी में किसी वरिष्ठ कर्मचारी के लिए रेसिडेंसी वीज़ा भी हासिल कर सकेंगे.

आवेदन के पहले दौर में 70 से ज़्यादा देशों के 6,800 लोगों को लाभ होगा.

यूएई के अधिकारियों ने पिछले महीने के अंत में एक प्रेस कॉन्फ़्रेंस में बताया था कि इन लगभग सात हज़ार आवेदनों में से कम-से-कम 400 लोगों को गोल्डेन वीज़ा दिया भी जा चुका है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption संयुक्त अरब अमीरात में लगभग 30 फ़ीसदी आबादी भारतीय प्रवासियों की है

10 साल बाद करवाना होगा रिन्यू

यूएई के रेसिडेंसी और विदेशियों के मामलों को देखने वाले विभाग जीडीआरएफ़ए के महानिदेशक मेजर जनरल मोहम्मद अल मारी ने प्रेस कॉन्फ़्रेंस में ये भी स्पष्ट किया था कि गोल्डेन कार्ड वीज़ा की अवधि 10 साल की होगी जिसके बाद उसे रिन्यू करवाना होगा.

संयुक्त अरब अमीरात में भारतीय प्रवासियों की आबादी सबसे बड़ी प्रवासी आबादी बताई जाती है. देश के 90 लाख की आबादी में लगभग 30 फ़ीसदी आबादी भारतीय प्रवासियों की है.

भारतीय दूतावास की वेबसाइट पर दी गई जानकारी के अनुसार यूएई में रहनेवाले ज़्यादातर भारतीय लोग नौकरीशुदा हैं मगर इनमें लगभग 10 फ़ीसदी लोग कामगार लोगों पर निर्भर उनके परिवार के सदस्य हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूबपर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे

संबंधित समाचार