आम लोग भी देखेंगे मिस्र का ये पिरामिड

  • 16 जुलाई 2019
इमेज कॉपीरइट EPA

मिस्र के डाशूर का लेयर्ड पिरामिड या रॉम्बोइडल पिरामिड कहा जाने वाला ये पिरामिड 2600 ईसा पूर्व में सम्राट स्नेफ्रू ने बनवाया था, जिसे 54 डिग्री कोण के साथ डिज़ाइन किया गया है.

इमेज कॉपीरइट EPA

मिस्र में लेयर्ड पिरामिड के निर्माण को विकास का एक अनूठा उदाहरण कहा जाता है. ये ऐसी मिट्टी से बना है जो स्थिर नहीं रह सकती है.

इमेज कॉपीरइट EPA

ये पिरामिड मुलायम और पानी के बहाव में आने वाली मिट्टी पर बनाया गया था जिस पर उसके टिके रहने और उसे दोबारा बनाए जाने की समस्याएं हुई. पिरामिड को 45 मीटर से 43 डिग्री कोण की शक्ल देकर कम किया गया और इस समस्या का समाधान निकाला गया.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

डाशूर के पुरातत्व संबंधी परिसर में रेड पिरामिड (दाएं) और लेयर्ड पिरामिड (बाएं से दूसरा) स्थित है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

लेयर्ड पिरामिड का कोणीय आकार रेड पिरामिड के उलट है जबकि दोनों ही डाशूर में मौजूद हैं.

इमेज कॉपीरइट Reuters

पर्यटक पिरामिड की 79 मीटर तक एक संकीर्ण सुरंग में जा सकते हैं, जिसकी गहराई में दो कैमरे भी लगे हैं.

इमेज कॉपीरइट AFP/Getty Images

पिछले साल पिरामिड में से खुदाई के दौरान निकली ममी, मुखौटों और औज़ारों को पुरातत्वविज्ञान ने प्रदर्शन के लिए रखा हुआ है.

इमेज कॉपीरइट AFP/Getty Images

मिस्र में पैसा कमाने के लिए पर्यटन एक महत्वपूर्ण ज़रिया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार