अमरीका: फूड फेस्टिवल में गोलीबारी, दो बच्चों समेत तीन की मौत की पुष्टि

  • 30 जुलाई 2019
गोलीबारी में मारा गया बच्चा इमेज कॉपीरइट Romero family

अमरीका के कैलिफोर्निया के एक फूड फेस्टिवल में रविवार देर शाम हुई गोलीबारी में दो बच्चों समेत तीन लोगों की मौत की पुष्टि हुई है.

पुलिस के मुताबिक मारे गए लोगों में एक छह साल का बच्चा और एक 13 साल की लड़की शामिल है. इस हमले में 15 अन्य लोग घायल हुए जिनका अस्पतालों में इलाज चल रहा है.

रिपोर्टों के मुताबिक रविवार देर शाम हुई गोलीबारी का हमलावर पुलिस की कार्रवाई में मारा गया. पुलिस इस बात की भी जांच कर रही है कि कहीं इस गोलीबारी में कोई अन्य संदिग्ध तो शामिल नहीं था जो अब भी पुलिस की पकड़ से दूर हो.

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption हमले के बाद मौके से डरकर भागते लोगों के वीडियो सोशल मीडिया में पोस्ट किए गए हैं.

राइफ़ल से अंधाधुंध गोलियां चलाईं

पुलिस ने मारे गए हमलावर की पहचान 19 वर्षीय सैन्टिनो विलियम लेगान के तौर पर की है. हमलावर ने 'गिलरॉय गार्लिक फेस्टिवल' में स्थानीय समय के मुताबिक रविवार देर शाम गोलीबारी की.

पुलिस के मुताबिक मारे गए संदिग्ध के पास असॉल्ट राइफ़ल थी जो उसने अवैध तरीके से इसी महीने नेवाडा से खरीदी थी.

स्थानीय मीडिया ने गोलीबारी में मारे गए छह साल के बच्चे की पहचान स्टीफन रोमेरो के तौर पर की है. स्टीफन की मां और दादी भी गोलीबारी में घायल हुए हैं.

हालांकि, पुलिस ने अभी तक मारे गए गए लोगों में किसी के नाम की आधिकारिक पुष्टि नहीं की है.

पुलिस के मुताबिक गोलीबारी में करीब 20 साल का एक युवक भी मारा गया है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

अधिकारियों ने संभाली स्थिति

गिलरॉय पुलिस प्रमुख स्कॉट स्मिथी ने सोमवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि मौके पर तैनात पुलिस अधिकारियों ने एक मिनट के अंदर ही जवाबी कार्रवाई की थी.

उन्होंने बताया कि पुलिस अधिकारियों की कार्रवाई में हमलावर घायल हो गया और गोलीबारी रुक गई.

पुलिस प्रमुख स्मिथी ने बताया, "मैं आपको बता नहीं सकता कि मुझे अधिकारियों पर कितना गर्व है. वहां एक छोटी सी जगह में हज़ारों की संख्या में लोग थे और आप जानते हैं कि कम ही वक़्त में वहां बेहद खराब स्थिति हो सकती थी."

एफ़बीआई के प्रभारी अधिकारी क्रेग फेयर ने पत्रकारों को बताया कि प्राथमिकता के आधार पर इस बात की जांच की जा रही है कि हमलावर का मक़सद क्या था. क्या वो किसी विचारधार से प्रेरित था और क्या वो किसी समूह से जुड़ा हुआ था?

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption हमले के बाद मीडिया को जानकारी देती एक चश्मदीद.

'यकीन करना मुश्किल'

पुलिस के मुताबिक हमलावर आयोजन की जगह पर लगी बाड़ पार करके वहां दाखिल हुआ था. इस सालाना महोत्सव में हर साल करीब एक लाख लोग हिस्सा लेते हैं.

अमरीका के राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने भी ट्वीट कर लोगों को सुरक्षित रहने की सलाह दी है.

हमले में मारे गए स्टीफ़न के पिता अल्बर्टो रोमेरो ने मर्क्यूरी न्यूज़ को बताया कि वो अपनी नौ साल की बेटी के साथ घर पर ही थे और उन्हें अपनी पत्नी के फोन से घटना की जानकारी मिली

उन्होंने बताया,"जो हुआ, मुझे उस पर यकीन नहीं हो रहा था. मुझे लगा कि वो झूठ बोल रही हैं. या शायद में कोई सपना देख रहा हूं."

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption फ़ाइल फ़ोटो

2019 में आठ हज़ार से ज़्यादा मौत

ऐसी घटनाओं पर नज़र रखने वाली अमरीकी वेबसाइट 'गन वॉइलेंस आर्काइव' के मुताबिक इस साल अमरीका में मास शूटिंग(सामूहिक गोलीबारी) की ये 246वीं घटना है. 2019 में गोलीबारी की घटनाओं में 8,434 लोग मारे जा चुके हैं.

अमरीका में खुले में गोलीबारी करने के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं. स्कूल हो या खाली मैदान, हर जगह से गोलीबारी की ख़बरें आती हैं.

यहां लोगों के पास बंदूक़ होना आम है.अमरीका में लोगों के पास बंदूक़ होना मौलिक आधिकार की तरह ही है. ऐसा इसलिए है कि जब अमरीका का संविधान तैयार हुआ तब इसमें बंदूक़ ख़रीदने और रखने की बात लिखी गई थी.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption फ़ाइल फ़ोटो

अमरीका में सिर्फ़ तीन तरह के लोग बंदूक़ नहीं खरीद सकते हैं:

  • जो मानसिक रूप से स्वस्थ्य न हों
  • जिन पर आपराधिक मामला दर्ज हो
  • जो अमरीका के नागरिक न हों

इनके अलावा हर बालिग व्यक्ति बंदूक़ रख सकता है. बंदूक़ खरीदने और रखने का ये नियम 1791 में बना था.

अमरीका में गोलीबारी की बढ़ती घटनाओं के लिए ऐसे नियम को भी एक बड़ा कारण बताया जाता है.

ये भी पढ़ें:

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूबपर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार