कश्मीर पर भारत के फ़ैसले से चीन क्यों है नाराज़?

  • 10 सितंबर 2019
कश्मीर और लद्दाख को जोड़ने वाले हाईवे पर भारतीय सैनिक इमेज कॉपीरइट Getty Images

भारत सरकार के कश्मीर का ख़ास दर्जा ख़त्म करने के फ़ैसले को लेकर चीन की भौहें तनी हुई हैं. बीते करीब चार हफ़्ते के दौरान अलग-अलग बयानों के जरिए चीन ने अपना विरोध जाहिर किया है.

बीती पांच अगस्त को भारतीय जनता पार्टी की अगुवाई वाली केंद्र सरकार ने तब के जम्मू कश्मीर राज्य को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 को ख़त्म कर दिया.

इसके बाद एक कानून पारित कर राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेशों में बांट दिया गया.

इनमें से एक केंद्र शासित प्रदेश लद्दाख है. चीन का इसके एक हिस्से पर नियंत्रण है और वो इस पूरे इलाके पर दावा करता है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

चीन की प्रतिक्रिया क्या रही?

चीन के विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता ख्वा चूनयिंग ने भारत के फ़ैसले को लेकर कड़े शब्दों का इस्तेमाल किया.

उन्होंने कहा, "चीन-भारत सीमा के पश्चिमी सेक्टर में चीन के क्षेत्र पर भारतीय अधिग्रहण का चीन ने हमेशा विरोध किया है. हमारी इस पुख़्ता और निरंतर स्थिति में कोई बदलाव नहीं हुआ है."

ख्वा चूनयिंग ने आगे कहा, "अपने कानून में बदलाव करके भारत ने हाल में भी चीन की क्षेत्रीय संप्रभुता को अनदेखा करने का सिलसिला जारी रखा है. ये तरीका स्वीकार्य नहीं है और ये अमल में नहीं आएगा."

क्या मोदी ने पाकिस्तान के भीतर कश्मीर पर बहस बदल दी

इमेज कॉपीरइट Getty Images

इस बीच भारत में राष्ट्रवादी बयानों के साथ बीजेपी के वरिष्ठ नेताओं ने इस कदम का स्वागत किया. कुछ नेताओं ने उम्मीद जाहिर की कि क्षेत्र का जो हिस्सा चीन और पाकिस्तान के नियमंत्रण में है, वो भी भारत के पास आ जाएगा.

इन नेताओं इसमें चीन के नियंत्रण वाले लद्दाख के इलाके अक्साई चिन और पाकिस्तान प्रशासित कश्मीर को शामिल किया.

इंडिया टुडे मैगज़ीन ने केंद्रीय मंत्री और भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता गिरिराज सिंह के हवाले से लिखा, "200 प्रतिशत यकीन है कि पीओके और अक्साई चिन भी बहुत जल्दी देश के साथ मिल जाएंगे."

इमेज कॉपीरइट Getty Images

लद्दाख को लेकर चीन के विदेश मंत्री वांग यी ने कहा, "भारत सरकार की लद्दाख (जिसमें चीन का क्षेत्र शामिल है) को केंद्र शासित प्रदेश बनाने की घोषणा ने चीन की संप्रभुता को चुनौती दी है और सीमा क्षेत्र में शांति और स्थिरता बनाए रखने के लिए दो देशों के बीच हुए समझौते का उल्लंघन किया है. "

कश्मीर के मुद्दे पर ख्वा चूनयिंग ने कहा, "कश्मीर मुद्दे पर चीन की स्थिति साफ और एक जैसी है. अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी इसे लेकर सहमति है कि भारत और पाकिस्तान के बीच कश्मीर का मुद्दा अतीत से लंबित है."

इमेज कॉपीरइट Getty Images

लद्दाख पर चीन का दावा क्या है?

चीन कहता रहा है कि अक्साई चिन समेत लद्दाख इलाक़ा ऐसे सीमाई विवाद का हिस्सा है, जो अभी तय नहीं हुआ है.

फिलहाल, अक्साई चिन को चीन ने अपने शिनजियांग क्षेत्र में शामिल करता है और इसे बेहद अहम मानता है. वजह ये है कि इसके जरिए शिनजियांग और तिब्बत के बीच सैनिकों की आवाजाही हो सकती है.

चीन शिमला समझौते को मान्यता नहीं देता है. ये समझौता साल 1914 में तिब्बत और भारत के ब्रिटिश प्रशासन के बीच हुआ था. जिसमें लद्दाख के भारत का हिस्सा होने को मान्यता दी गई है.

चीन का कहना है कि ये संधि उस वक्त की चीन सरकार के साथ नहीं की गई थी और इसलिए ये अमान्य है.

वांग यी ने कहा, "भारत का कदम चीन को मान्य नहीं है और इससे इस क्षेत्र की संप्रभुता और प्रशासनिक अधिकार क्षेत्र को लेकर चीन की स्थिति में भी कोई बदलाव नहीं होगा."

इमेज कॉपीरइट Getty Images

सरकार के नियंत्रण वाले अख़बार ग्लोबल टाइम्स ने लिखा, "जब भारत के गृह मंत्री अमित शाह जोर से दावा करते हैं कि भारत उत्तर पश्चिम चीन के शिनजियांग वीगर स्वायत्त क्षेत्र पर शासन स्थापित करना चाहता है तो ये चीन के ख़िलाफ़ शत्रुता का भाव दिखाता है."

शंघाई इंस्टीट्यूट फॉर इंटरनेशनल स्टडीज़ के रिसर्च फेलो झाओ गानचेंग के हवाले से ग्लोबल टाइम्स ने लिखा, "अगर भारत अपने अतार्किक दावों को आगे बढ़ाता है और सैन्य कार्रवाई से हमें उकसाता है तो चीन मजबूती के साथ पलटवार करेगा."

इमेज कॉपीरइट TWITTER/DRSJAISHANKAR

भारत का क्या कहना है?

भारत के विदेश मंत्रालय ने चीन की आलोचनाओं का जवाब दिया है. विदेश मंत्रालय का कहना है, "नए केंद्र शासित प्रदेश लद्दाख का गठन भारत का आंतरिक मामला है."

भारत के गृह मंत्री अमित शाह ने संसद में कहा, "लद्दाख के लोगों की बहुत लंबे वक्त से मांग रही है, इस क्षेत्र को केंद्र शासित प्रदेश का दर्जा देने की, अब वो अपनी आकांक्षाओं को पूरा कर सकेंगे."

भारत ये भी कहता रहा है कि अक्साई चिन पर चीन का दावा अवैध है और ये शिमला समझौते का उल्लंघन है.

इस विवाद को चीन के करीबी सहयोगी और भारत के प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान ने और उलझा दिया है. पाकिस्तान ने साल 1963 में ट्रांस कराकोरम का एक हिस्सा चीन के सुपुर्द कर दिया था. ये क्षेत्र अक्साई चिन के करीब है. पाकिस्तान के कदम को भारत अवैध बताता है.

लंबे समय से इस मामले पर भारत का जो रुख है, उसे दोहराते हुए शाह ने संसद में कहा, "कश्मीर भारत का अविभाज्य हिस्सा है. इसे लेकर कोई संदेह नहीं है. जब मैं जम्मू कश्मीर की बात करता हूं तो पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर और अक्साई चिन भी इसमें आते हैं."

इमेज कॉपीरइट Getty Images

चीन ने क्या कदम उठाए हैं?

चीन ने जो कहा है, वो उस पर अमल भी कर रहा है. पाकिस्तान की गुजारिश पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की बंद कमरे में बैठक हुई. पाकिस्तान का कश्मीर को लेकर भारत के साथ विवाद है.

इस बैठक के कुछ ही दिन पहले विदेश मंत्री एस जयशंकर ने बीजिंग का दौरा किया था. ग्लोबल टाइम्स के मुताबिक उन्होंने समझौते वाली भाषा का इस्तेमाल करते हुए कहा था, "भारत के संविधान में संशोधन से संप्रभुता के नए दावे की स्थिति नहीं बनेगी. इससे (पाकिस्तान सीमा पर) कश्मीर क्षेत्र में नियंत्रण रेखा पर बदलाव नहीं आएगा और चीन-भारत सीमा पर कंट्रोल लाइन नहीं बदलेगी."

पाकिस्तान लंबे वक्त से कश्मीर विवाद के अंतरराष्ट्रीयकरण की कोशिश में लगा है. संयुक्त राष्ट्र की बैठक उसी दिशा में प्रयास दिखती है. भारत इस मुद्दे को अंतरराष्ट्रीय मामला बनाए जाने का विरोध करता है.

लेकिन इस बैठक में राय बंटी हुई रही. रिपोर्टों के मुताबिक रूस ने भारत का समर्थन किया. वहीं ब्रिटेन ने इस मांग में चीन का समर्थन किया कि बैठक के बाद एक सार्वजनिक बयान जारी किया जाए.

इमेज कॉपीरइट Reuters

चीन के अलावा संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के बाकी चार स्थायी सदस्यों ने भारत और पाकिस्तान से अपने विवादों को दोतरफा तरीके से सुलझाने के लिए कहा.

आखिरकार, ये बैठक बिना कोई बयान जारी किए हुए ख़त्म हो गई. हालांकि, चीन और पाकिस्तान ने बाद में अपनी ओर से बयान जारी किए. इसके बाद भारत ने भी बयान जारी किया और कहा कि चीन और पाकिस्तान के बयान सुरक्षा परिषद के विचारों को जाहिर नहीं करते हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

भारत के बयान का किसी और सदस्य देश ने खंडन नहीं किया. बाद के दिनों में ज़्यादातर देशों ने भारत और पाकिस्तान से कहा कि कश्मीर को लेकर वो अपने मतभेदों को दोतरफा तरीके से सुलझा लें.

जम्मू-कश्मीर पर चीन के बयान को हल्के में न ले भारत- नज़रिया

भारतीय विदेश मंत्री का चीन दौरा,क्या हुई बात?

अनुच्छेद 370 हटने से चीन पर क्या पड़ेगा असर

(बीबीसी मॉनिटरिंग दुनिया भर के टीवी, रेडियो, वेब और प्रिंट माध्यमों में प्रकाशित होने वाली ख़बरों पर रिपोर्टिंग और विश्लेषण करता है. आप बीबीसी मॉनिटरिंग की ख़बरें ट्विटर और फ़ेसबुक पर भी पढ़ सकते हैं.)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूबपर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे

संबंधित समाचार