भारत-पाकिस्तान: देर भले हो गई है मगर अंधेर नहीं: वुसत की डायरी

  • 9 सितंबर 2019
भारत-पाकिस्तान इमेज कॉपीरइट Getty Images

जब हर तरफ़ वहशत डेरे डालने लगे तो अचानक से कोई उम्मीद आकर कांपता हुआ हाथ थाम लेती है. ये कहते हुए कि, 'मैं हूं ना.'

ऐसे में ये बात भी कितनी असाधारण लगती है कि लाखों में कोई एक या दो व्यक्ति थे जिन्होंने ब्यूरोक्रेट बनकर देश और जनता की ख़्वाब देखा होगा और फिर वो बड़े अफ़सर बन भी गए हों.

पर एक दिन ये सोचकर अपना सारा भविष्य एक त्यागपत्र में रख दें कि हमारा दिल नहीं मानता कि जो हमसे करने को कहा जा रहा है या देश को जिस दिशा में ले जाया जा रहा है, हम भी उसी बहाव में बहते चले जाएं.

इमेज कॉपीरइट Kannan Gopinathan/Facebook
Image caption इस्तीफ़ा देने वाली आईएएस अधिकारी कन्नन गोपीनाथन

'ये रही आपकी नौकरी, संभालिए.' मायूसी के हाले में से झांकती ये ख़बर भी कितनी अच्छी लगती है कि जंतर-मंतर पर छोटी सी भीड़ नारे लगा रही हो कि तुम देश के साथ जो कर रहे हो हमारे नाम पर, मत करो.

या सीमा पार किसी अख़बार में आग लगाने वाले कॉलमों के बीच छपा ये लेख भी कितना महत्वपूर्ण लगता है कि 'दो एटमी पावरों का जोश हमें सिर्फ़ नरक की ओर ही धकेल सकता है.'

जो माहौल बन चुका है, उसमें ये बात भी कितनी आशाजनक लगती है कि कश्मीर तो सुलटे या न सुलटे मगर करतारपुर कॉरिडोर की प्रक्रिया पटरी से किसी हाल में नहीं उतरनी चाहिए.

भारत से फ़िलहाल सारा व्यवहार बंद रहेगा मगर जीवन रक्षक दवाओं में इस्तेमाल होने वाला कच्चा माल पाकिस्तान लाने पर कोई पाबंदी नहीं होगी.

ये भी पढ़ें: भारत-पाकिस्तान तनाव का असर करतारपुर साहिब पर क्यों नहीं?

इमेज कॉपीरइट Getty Images

ऐसे समय में जब दोनों ओर मुंह से आग निकल रही हो, दहकते मीडिया पर 'तांडव नाच' की तैयारी दिखाई जा रही हो, कोई ऐसी गाली न बची हो जो न दी जा सके, कोई ऐसा आरोप जो अंतरराष्ट्रीय स्तर पर एक-दूसरे पर न लगाया जा रहा हो.

नीचा दिखाने वाले तरकश से तीरों की बारिश न हो रही हो, यहां तक कि चंद्रयान मिशन के चंद्रमा पर उतरने की असफलता को भी ट्विटर की सान पर चढ़ा दिया जाए और पाकिस्तान के साइंस और टेक्नॉलजी के वज़ीर फ़वाद चौधरी ये ट्वीट करें कि 'जो काम आता नहीं, उसका पंगा नहीं लेते डियर इंडिया'.

इमेज कॉपीरइट Twitter

इस पर गालम गलौज़ के छिड़ने वाले युद्ध के बीचोंबीच अगर चंद पाकिस्तानी ट्विटर या फ़ेसबुक पर लिखें कि भारत साइंस और टेक्नॉलॉजी में हमसे बहुत आगे है, या 'ग़म न करो, अगली कोशिश कामयाब होगी' या 'फ़वाद चौधरी को ये ट्वीट तब करना चाहिए था जब पाकिस्तान चांद पर न सही, अंतरिक्ष में ही कोई रॉकेट छोड़कर दिखाता'.

ये भी पढ़ें: चंद्रयान-2: फ़वाद चौधरी को ट्रोल कर रहे हैं पाकिस्तानी भी

इमेज कॉपीरइट @isro

कश्मीर की गर्मागर्मी में भी ये जवाबी ट्वीट बताते हैं कि देर भले हो गई हो मगर अंधेर नहीं हुआ है. रौशनी की अपनी दुनिया है. दुख है तो बस इतना कि आख़िर हमें आना इस पर ही पड़ता है, भले वक़्त बर्बाद किए बगैर आ जाओ या लंबा चक्कर काटकर तबाही के रास्ते आओ. आना तो पड़ेगा.

तो फिर अक्लमंदी क्या हुई? इसका जवाब भी क्या रॉकेट साइंस ही देगी?

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार