रोहिंग्या गांवों का नामोनिशान मिटा रही म्यांमार सरकार
प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

रोहिंग्या गांवों का नामोनिशान मिटा रही म्यांमार सरकार

  • 11 सितंबर 2019

दो साल पहले म्यांमार में हुई सैन्य कार्रवाई के बाद सात लाख से ज़्यादा रोहिंग्या मुसलमान देश छोड़कर बांग्लादेश का रुख़ करने को मजबूर हुए थे और वहाँ अब वो ठसाठस भरे कैंपों में रह रहे हैं. अब उन्हें वापस म्यांमार लाने की दूसरी बार कोशिश की गई जो नाकाम हुई क्योंकि रोहिंग्या शरणार्थी वापस लौटने के लिए तैयार नहीं हैं.

पर म्यांमार सरकार का कहना है कि वो उन्हें वापस लाने के लिए प्रतिबद्ध है. बीबीसी संवाददाता जोनाथन हेड को कुछ ऐसे सबूत मिले हैं जो इस ओर इशारा कर रहे हैं कि म्यांमार की सरकार रोहिंग्या मुसलमानों के गांवों का नामोनिशान मिटा रही है.