पाकिस्तान में निमरिता कुमारी की मौत पर ग़ुस्सा

  • 17 सितंबर 2019
पाकिस्तान इमेज कॉपीरइट @AnikatKumar3

पाकिस्तान के सिंध प्रांत में मेडिकल छात्रा निमरिता कुमारी की संदिग्ध हालत में मौत का मामला काफ़ी गर्म है.

पाकिस्तान में ट्विटर पर जस्टिस फॉर निमरिता #JusticeForNimrita टॉप ट्रेंड कर रहा है. निमरिता कुमारी मेडिकल की फ़ाइनल इयर की स्टूडेंट थीं.

ट्विटर पर पाकिस्तान के कई लोग कह रहे हैं कि निमरिता के साथ रेप हुआ है और फिर हत्या कर दी गई. पाकिस्तान के पत्रकार कपिल देव ने लिखा है कि पुलिस इसकी जांच करे और बताए कि कैसे क्या हुआ.

बीबीसी संवाददाता शुमाइला ज़ाफरी ने निमरिता की मौत को लेकर लरकाना में रहमतपुर के एसएचओ असदुल्ला से बात की. एसएचओ ने बताया कि तीन बजे सुबह शव का पोस्टमॉर्टम किया और रिपोर्ट आने में थोड़ा वक़्त लगेगा.

रहमतुल्ला ने कहा, ''जांच के लिए एक उच्चस्तरीय टीम गठित की गई है. निमरिता का फ़ोन फोरेंसिक एनलिस्ट को सौंप दिया गया है. कमरा अंदर से बंद था और गर्दन के चारों तरफ़ निशान थे. कमरे सुरक्षाबलों ने अपनी निगरानी में रखा है. यह मामला दिन में 11 बजे का है. कॉलेज प्रशासन ने निम्रिता को अस्पताल में पहुंचाया था.''

निमरिता चंडका मेडिकल कॉलेज की स्टूडेंट थीं. पाकिस्तानी मीडिया में छपा है कि निमरिता चारपाई पर पड़ी मिलीं और उनकी गर्दन में रस्सी बंधी थी. पाकिस्तान के निमरिता का कमरा भीतर से बंद था. पुलिस का कहना है कि अभी यह कहना जल्दबाजी होगी कि यह आत्महत्या है या हत्या.

पाकिस्तानी पत्रकार कपिलदेव ने भी अपने ट्विटर अकाउंट से इस वीडियो को शेयर किया है. उन्होंने लिखा है, ''मृत मेडिकल छात्रा निमरिता के भाई डॉक्टर विशाल का मानना है कि उनकी बहन की हत्या हुई है. उनका मानना है कि निमरिता का यौन उत्पीड़न/ब्लैकमेल किया गया.''

अलीज़ा अंसारी ने लिखा है, ''एक और दिन और एक और इतनी बुरी घटना. मेडिकल कॉलेज की सिक्योरिटी कहां थी जब यह हत्या हुई. अभी तक बिलावल और कंपनी की तरफ़ से इस घटना पर कोई बयान क्यों नहीं आया?''

डॉक्टर सेफ़ुल्लाह ख़ान बिलावल भुट्टो को टैग करते हुए लिखते हैं, ''चंडका मेडिकल कॉलेज में एक फ़ाइनल इयर की छात्रा अपने हॉस्टल में मृत पाई गई है. कृपया इसकी जांच की जाए.''

बुशरा बिया ने लिखा है, ''सिंध के भीतरी इलाक़ों में यह सब क्या हो रहा है. इमरान ख़ान इस लड़की को इंसाफ़ दिलाइए.''

एक्सप्रेस ट्रिब्यून के अनुसार होस्टल की लड़कियों ने निमरिता का दरवाज़ा खटखटाया और कोई जवाब नहीं आया तो लोगों को शक हुआ. होस्टल के गार्ड ने दरवाज़ा तोड़ा तब अंदर जाया जा सका. लरकाना के डीआईजी इरफ़ान अली बलोच ने इसकी जांच की ज़िम्मेदारी एसएसपी मसूद अहमद बंगेश को दी है.

ये भी पढ़ेंः

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे

संबंधित समाचार