सीरिया में तुर्की की कार्रवाई जारी, हज़ारों लोगों का पलायन

  • 11 अक्तूबर 2019
पलायन इमेज कॉपीरइट AFP

उत्तरी सीरिया में कुर्द लड़ाकों के नियंत्रण वाले इलाकों में तुर्की की सैन्य कार्रवाई दूसरे दिन भी जारी है, जहां से भीषण लड़ाई की ख़बरें मिल रही हैं.

तुर्की का कहना है कि उसने कुर्दों के कई ठिकानों पर नियंत्रण कर लिया है और बड़ी संख्या में कुर्द लड़ाके मारे भी गए हैं.

हमले के बीच हज़ारों लोगों का पलायन हो रहा है और कुर्दों का दावा है कि कई आम नागिरक मारे गए हैं.

तुर्की का कहना है कि वो कुर्द लड़ाकों को हटाकर एक 'सेफ़-ज़ोन' तैयार करना चाहता है, जहां लाखों सीरियाई शरणार्थी भी रहते हैं.

तुर्की ने इस कार्रवाई की योजना पहले से बनाकर रखी थी, लेकिन इस पर अमल तब किया जब अमरीकी राष्ट्रपति ट्रंप ने इलाक़े से अमरीकी सैनिकों को वापस बुला लिया.

'पीठ में छुरा घोपा गया'

इमेज कॉपीरइट Reuters

इलाक़े में कुर्दों के नेतृत्व वाली सीरियाई डेमोक्रेटिक फोर्स (एसडीएफ), इस्लामिक स्टेट के ख़िलाफ़ लड़ाई में अमरीका की अहम सहयोगी रही है.

लेकिन तुर्की इन कुर्द लड़ाकों को चरमपंथी मानता है.

अमरीका में ऐसे कई लोग हैं जो ये मानते हैं कि राष्ट्रपति ट्रंप ने सीरिया से अपने सैनिकों को वापस बुलाकर तुर्की को इस कार्रवाई के लिए एक तरह से हरी झंडी दिखाई थी.

एसडीएफ का मानना है कि उन्हें 'पीठ में छुरा घोपा गया' है. राष्ट्रपति ट्रंप ने गुरुवार को ट्वीट करके कहा था कि वो सीरिया के अंतहीन युद्ध को ख़त्म करने की कोशिश कर रहे हैं.

साथ ही उन्होंने ये भी कहा था कि तुर्की ने यदि अपनी हद पार की तो उसे कड़े वित्तीय संकटों का सामना करना पड़ेगा.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

तुर्की की इस कार्रवाई की अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भर्त्सना हुई है. संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद भी इस पर चर्चा करने वाला है.

अंतरराष्ट्रीय समुदाय को उन संदिग्ध इस्लामिक स्टेट के क़ैदियों की चिंता है जिनकी संख्या हज़ारों में है, जो कुर्दों के नेतृत्व वाले बलों की निगरानी में बंद हैं.

तुर्की के राष्ट्रपति अर्दोआन ने ये कहते हुए अपनी कार्रवाई का बचाव किया है कि इसे यदि क़ब्जा कहा गया तो वो उस इलाके में मौजूद सीरियाई शरणार्थियों को यूरोप भेज देंगे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार