चिली में विरोध प्रदर्शन हुआ तेज़, तीन की मौत

  • 21 अक्तूबर 2019
चिली प्रदर्शन इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption राजधानी सैंटियागो में सुरक्षा बलों के साथ प्रदर्शनकारियों का संघर्ष

चि​ली में विरोध प्रदर्शन की दूसरी रात सैंटियागो में एक सुपर मार्केट के अंदर आग लगने से तीन लोगों की मौत हो गई.

सैंटियागो के रीजनल गर्वनर कार्ला रुबिलकर ने बताया कि दो लोगों की घटनास्थल पर ही मौत हो गई जबकि एक अन्य ने अस्पताल में दम तोड़ दिया. उन्होंने बताया कि स्टोर में लूटपाट की गई है.

चिली में मेट्रो किराए में वृद्धि के बाद जगह-जगह विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं. राष्ट्रपति सेबेस्टियन पिनेरा ने फिलहाल के लिए बढ़े हुए किराए पर रोक लगा दी है.

हालांकि, इसके बाद भी अशांति की स्थिति बनी हुई है. सरकार की तरफ आपात स्थिति की घोषणा कर दी गई है साथ ही रात के वक़्त कर्फ्यू भी लगाया गया है. जिन जगहों में प्रदर्शन हो रहे हैं वहां सैनिकों और टैंकों की तैनाती की गई है.

चिली को लैटिन अमरीका के सबसे स्थिर देशों में गिना जाता है. यहां किराए में वृद्धि की वजह से हो रहे प्रदर्शन को आम जनता के बीच असंतोष के रूप में देखा जा रहा है.

चिली में अमीर और ग़रीब के बीच बहुत ज़्यादा अंतर है. इसके साथ ही यहां आर्थिक सुधारों की मांग भी उठती रही है. फिलहाल चिली में हो रहे प्रदर्शन बीते कई दशकों के सबसे बड़े विरोध प्रदर्शन हैं.

सैंटियागो में साल 1990 के बाद पहली बार अब सैनिकों की तैनाती की गई है. उस वक़्त अगस्टो पिनोशे की तानाशाही के बाद चिली में जब लोकतंत्र की बहाली हुई थी.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption सेना की तैनाती के बावजूद शनिवार को प्रदर्शन जारी रहा

विरोध प्रदर्शन का दूसरा दिन

हिंसक प्रदर्शनों के दूसरे दिन, प्रदर्शनकारियों ने बैरिकेड लगाए और बसों में आग लगा दी. पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को रोकने के लिए आंसू गैस लाठीचार्ज का प्रयोग किया.

पुलिस ने बताया कि 300 से अधिक लोगों को हिरासत में लिया गया. इसके अलावा 156 पुलिसकर्मी और 11 आम नागरिक घायल हुए हैं.

राष्ट्रपति सेबेस्टियन पिनेरा ने टेलीविजन पर कहा कि उन्होंने देश के नागरिकों की आवाज़ विनम्रता से सुनी, जीवन यापन पर बढ़ रही लागत को लेकर लोगों में असंतोष है. प्रदर्शनों को लेकर पिनेरा की प्रतिक्रिया की आलोचना हुई है.

आपात स्थिति के तहत सैंटियागो में सुरक्षा प्रभारी जनरल जेवियर इटुरियागा डेल कैम्पो ने बताया कि शहर और उसके बाहरी इलाकों में रात 10 बजे से सुबह 7 बजे के बीच कर्फ्यू लगाया जाएगा.

15 दिन के लिए घोषित आपातकाल के दौरान सड़कों पर पुलिस की मदद के लिए सेना तैनात की गई है. इस दौरान प्रशासन ने लोगों की गतिविधियों और उनके एकत्र होने के अधिकार को प्रतिबंधित कर दिया है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

शनिवार देर शाम वालपारासो और कनसेपसियन प्रांत के मेयरों ने भी अपने-अपने इलाके में आपातकाल घोषित कर दिया था.

इससे पहले कई जगहों से सांस्कृतिक एवं खेल कार्यक्रमों को रद्द कर दिया गया और दुकानें बंद कर दी गईं. शहर में चलने वाली भूमिगत मेट्रो सेवा भी सोमवार तक बंद रहेगी. इसके 136 में से 41 स्टोशनों पर तोड़-फोड़ की ख़बर मिली है..

एल मरक्यूरिको अख़बार के मुताबिक वालपारासो, इक्विकी, कनसेपसियन, रैनकागुआ, पुंटा एरिना, एंटोफेगास्टा, क्विलोटा और टाल्का इलाकों में भी विरोध प्रदर्शन हुए हैं.

इस बीच राष्ट्रपति सेबेस्टियन पिनेरा की शुक्रवार शाम की एक तस्वीर सामने आई है जिसमें वह एक महंगे इटालियन रेस्टोरेंट में नजर आ रहे हैं.

जिस वक़्त सैंटियागो में पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच झड़प चल रही है, इस दौरान राष्ट्रपति की इस तस्वीर के सामने आने पर उनकी सोशल मीडिया पर काफी आलोचना हुई है.

आलोचकों ने कहा है कि तस्वीर दर्शाती है कि एक नेता का चिली की आम जनता के संपर्क में नहीं है. बताया जा रहा है कि यह तस्वीर राष्ट्रपति के पोते के जन्मदिन पर की गई पार्टी के दौरान की है.

यह भी पढ़ेंः

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे

संबंधित समाचार