पाकिस्तानः हत्या से पहले निमरिता के साथ हुआ था रेप, पोस्टमार्टम रिपोर्ट

  • 8 नवंबर 2019
पाकिस्तान में हिंदू छात्रा की हत्या से पहले रेप इमेज कॉपीरइट Reuters

पाकिस्तान में सिंध प्रांत के शहर लरकाना में संदिग्ध परिस्थितियों में मृत पाई गईं निमरिता कौर की ऑटोप्सी रिपोर्ट में उनकी हत्या और इससे पहले उनके साथ बलात्कार होने की पुष्टि हुई है.

एक डेंटल कॉलेज में बीडीएस की पढ़ाई कर रहीं निमरिता का शव 16 सितंबर को उनके छात्रावास में मिला था.

शुरुआती शव परीक्षण में उनकी हत्या का अंदेशा जताया गया था. अब उनकी ऑटोप्सी की अंतिम रिपोर्ट आई है जिसमें हत्या की पुष्टि हो गई है. साथ ही इसमें यह भी बताया गया है कि हत्या से पहले रेप किया गया था.

शव परीक्षण की अंतिम रिपोर्ट लरकाना के चंदका मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल ने जारी की है.

निमरिता के शव का पोस्टमॉर्टम करने वाली चंदका मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल (लरकाना) की महिला मेडिकलऑफिसर डॉ. अमृता ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि उनकी मौत का कारण दम घुटना था, गला घोंटने या लटकाए जाने से ऐसे निशान बन सकते हैं.

इसके साथ ही शुरुआती डीएनए रिपोर्ट के अनुसार उनके जननांग में पुरुष डीएनए पाया गया है. साथ ही उनके कपड़ों पर वीर्य के धब्बे भी पाए गए हैं.

निमरिता डेंटल कॉलेज में बैचलर ऑफ़ डेंटल सर्जरी (बीडीएस) के अंतिम वर्ष की छात्रा थीं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

अब फॉरेंसिक विशेषज्ञ की रिपोर्ट का इंतजार

पाकिस्तान के अख़बार डॉन को पुलिस सर्जन डॉ. क़रार अहमद अब्बासी ने बताया कि छात्रा के साथ रेप के बाद गला दबा कर उनकी हत्या की गई थी. शुरुआती जांच में छात्रा निमरिता की मौत का कारण भी गला घोंटना बताया गया था. उनके गले पर निशान मौजूद थे.

पुलिस सर्जन डॉ. अब्बासी ने यह भी कहा कि पोस्टमॉर्टम से यह स्पष्ट है कि दम घुटने से उनकी मौत हुई थी लेकिन यह पुलिस जांच से ही स्पष्ट हो सकेगा कि निमरिता की मौत गला घोटने से हुई या फंदे पर लटकाए जाने से.

उन्होंने कहा कि पोस्टमॉर्टम में निमरिता के गले पर जो निशान थे उन्हें पतला बताया गया है, इससे यह साफ़ है कि यह दुपट्टा की वजह से नहीं था बल्कि रस्सी या उस जैसी किसी अन्य चीज़ से हुआ था.

डॉ. अब्बासी ने कहा कि पुरुष डीएनए के मिलने से निमरिता के साथ रेप की पुष्टि हुई है. उन्होंने कहा कि सिंध के फॉरेंसिक विशेषज्ञों की एक टीम गठित की गई है ताकि घटनास्थल की जांच से शव परीक्षण की रिपोर्ट का मिलान किया जा सके.

निमरिता की हत्या के दिन क्या हुआ?

16 सितंबर को निमरिता का शव उनके छात्रावास के कमरे में पाया गया था. पुलिस ने शुरू में अनुमान लगाया था कि निमरिता ने खुदकुशी की है. हालांकि, उनके परिवार के सदस्यों और हिंदू समुदाय के नेताओं ने कहा कि उनकी हत्या की गई है और उच्चस्तरीय जांच की मांग की.

कराची के एक मेडिकल कॉलेज में सलाहकार निमरिता के भाई डॉ. विशाल ने मीडिया से कहा कि उनके गले पर पड़े निशान यह स्पष्ट करते हैं कि उन्होंने आत्महत्या नहीं की है. उन्होंने तब कहा था कि गले के निशान से ऐसा लगता है कि ये केबल के तार से पड़े हैं.

इस मामले के बाद कई जगह विरोध प्रदर्शन भी किए गए.

17 सितंबर को लरकाना पुलिस ने डेंटल कॉलेज के दो छात्रों को हिरासत में लिया. पुलिस के मुताबिक ये दोनों निमरिता के सहपाठी हैं.

एक दिन बाद सिंध सरकार में सेक्शन ऑफिसर एज़ाज अली भट्टी ने ज़िला एवं सत्र न्यायाधीश को चिट्ठी लिखकर सेशन कोर्ट से इस मामले में न्यायिक जांच का अनुरोध किया. उन्होंने लरकाना के डिप्टी कमिश्नर और एसएसपी को चिट्ठी लिखी जिसमें उनसे न्यायिक जांच में पूरा सहयोग करने को कहा गया.

हालांकि जांच के आदेश को लेकर शुरुआती उलझन के बाद जब सिंध हाई कोर्ट ने आदेश जारी किया तो जज ने इस मामले में न्यायिक जांच शुरू की.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे

संबंधित समाचार