भारत में हिंसक प्रदर्शनों पर पाकिस्तानी अख़बारों ने क्या कहा?: पाक उर्दू प्रेस रिव्यू

  • 22 दिसंबर 2019
विरोध प्रदर्शन इमेज कॉपीरइट Getty Images

पाकिस्तान से छपने वाले उर्दू अख़बारों में इस हफ़्ते कुआलालंपुर समिट, जनरल परवेज़ मुशर्रफ़ की सज़ा, और भारत प्रशासित कश्मीर और भारत में सीएए-एनआरसी के ख़िलाफ़ विरोध प्रदर्शन से जुड़ी ख़बरें सुर्ख़ियों में रहीं.

सबसे पहले बात भारत में नागरिकता संशोधन क़ानून (सीएए) और एनआरसी के ख़िलाफ़ हो रहे देश-व्यापी विरोध प्रदर्शनों की.

भारत में नागरिकता संशोधन क़ानून के ख़िलाफ़ कई शहरों में विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं. कई जगहों पर प्रदर्शन हिंसक हुए हैं और उत्तर प्रदेश में अब तक कम से कम 15 लोग पुलिस की गोली से मारे जा चुके हैं. मंगलुरु में भी दो लोगों की मौत हो चुकी है. पाकिस्तानी मीडिया में इस ख़बर के बारे में ख़ूब चर्चा हो रही है.

एक्सप्रेस अख़बार ने लिखा है, ''विवादित नागरिकता क़ानून के ख़िलाफ़ भारत में भारी विरोध प्रदर्शन, पुलिस फ़ायरिंग में छह की मौत.''

अख़बार लिखता है कि जानी मानी लेखिका अरुंधति रॉय ने भी दिल्ली के जंतर मंतर पर हुए विरोध प्रदर्शन में हिस्सा लिया. अख़बार के अनुसार अरुणधति ने कहा कि मोदी सरकार पूरे भारत को कश्मीर बनाने की कोशिश कर रही है.

अख़बार जंग ने लिखा है कि 'नागिरकता क़ानून के ख़िलाफ़ लाखों भारतीय सड़कों पर उतर गए हैं'. अख़बार दुनिया ने लिखा है कि 'भारत में प्रदर्शनकारियों का समंदर.'

इमेज कॉपीरइट Shuraih niazi/bbc

श्रीनगर की जामा मस्जिद में जुमे की नमाज़

भारत प्रशासित कश्मीर के विशेष दर्जे को ख़त्म करने के पाँच महीने बाद श्रीनगर की जामा मस्जिद में जुमे की नमाज़ हुई. ये ख़बर पाकिस्तान के सारे अख़बारों में प्रमुखता से छपी.

अख़बार नवा-ए-वक़्त ने सुर्ख़ी लगाई है, ''श्रीनगर जामा मस्जिद में पाँच महीने बाद नमाज़-ए-जुमा, लेकिन दूसरी मस्जिदों में अभी भी ताले लगे हैं.''

अख़बार लिखता है कश्मीर की छह सौ साल पुरानी ऐतिहासिक श्रीनगर जामा मस्जिद पाँच महीने तक बंद रहने के बाद जुमे को नमाज़ के लिए खोल दी गई. अख़बार के अनुसार मस्जिद में नमाज़ पढ़ने वाले एक नौजवान शाहिद का कहना था, ''आज 19 हफ़्तों बाद जामा मस्जिद में अज़ान हुई है. हम समझते हैं कि आज हमारी ईद है.''

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption श्रीनगर की जामा मस्जिद में जुमे की नमाज़ अदा करते लोग

कुआलालंपुर समिट में इमरान का ना जाना

मलेशिया में हुए कुआलालंपुर समिट से जुड़ी ख़बरें भी सुर्ख़ियों में रहीं. इसी साल सितंबर महीने में न्यूयॉर्क में मलेशियाई पीएम महातिर मोहम्मद, तुर्की के राष्ट्रपति अर्दोआन और पाकिस्तानी पीएम इमरान ख़ान के बीच इस समिट को लेकर सहमति बनी थी.

इसके बाद पिछले महीने 29 नवंबर को मलेशिया के उप-विदेश मंत्री मर्ज़ुकी बिन हाजी याह्या ने इमरान ख़ान को फ़ोन कर इसमें शामिल होने के लिए आमंत्रित किया था. इमरान ख़ान ने इस आमंत्रण को स्वीकार भी कर लिया था. लेकिन आख़िरी वक़्त में इमरान ख़ान ने समिट में जाने से मना कर दिया. इसको लेकर कई तरह की बातें हो रही हैं.

अख़बार जंग ने सुर्ख़ी लगाई है, ''न धमकी दी, न समिट में जाने से रोका: सऊदी अरब''.

दरअसल इस तरह की बात कही जा रही है कि सऊदी अरब और संयुक्त अरब अमीरात ने इमरान ख़ान पर दबाव डाला था कि वो इस समिट में शरीक न हों.

अख़बार जंग के अनुसार इस्लामाबाद स्थित सऊदी दूतावास ने एक बयान जारी कर कहा कि सऊदी अरब पाकिस्तानी मीडिया में चलने वाली इन ख़बरों को सख़्ती से ख़ारिज करता है जिनमें कहा जा रहा है कि सऊदी अरब ने पाकिस्तान को मलेशिया में होने वाले समिट में शामिल न होने के लिए मजबूर किया है.

ये बात इसलिए अहम है क्योंकि तुर्की के राष्ट्रपति अर्दोआन ने ठीक एक दिन पहले कहा था कि पाकिस्तान अपनी मजबूरी के कारण शामिल नहीं हो सका.

अख़बार एक्सप्रेस के अनुसार अर्दोआन ने कहा कि सऊदी अरब ने पाकिस्तान को धमकी दी थी कि अगर वो कुआलालंपुर समिट में शामिल होगा तो सऊदी अरब पाकिस्तान के बैंक में रखे अपने पैसे निकाल लेगा और सऊदी अरब में काम कर रहे 40 लाख पाकिस्तानियों को वहां से निकाल देगा और उनकी जगह बांग्लादेश के लोगों को अपने यहाँ नौकरी देगा.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

'इमरान की राजनयिक ग़लतियां'

अख़बार जंग के संपादकीय पेज पर इस मामले में एक लेख भी है जिसमें इमरान ख़ान की जमकर आलोचना की गई है. पत्रकार सलीम साफ़ी के इस लेख का शीर्षक है, 'राजनयिक ग़लतियां'.

इस लेख में इमरान ख़ान की अब तक की सात राजनयिक ग़लतियों का ज़िक्र किया गया है. सलीम साफ़ी लिखते हैं कि जिस फ़ोरम की स्थापना सिर्फ़ दो महीने पहले पाकिस्तानी प्रधानमंत्री के सलाह के बाद चार मित्र राष्ट्रों ने की थी और जिसके पहले समिट के एजेंडे में भारत प्रशासित कश्मीर को भी शामिल कर दिया गया था, उसमें शामिल होने से पाकिस्तान आख़िरी वक़्त में मुकर गया.

लेखक के अनुसार कश्मीर के मामले में पूरी दुनिया में चीन के अलावा तुर्की, मलेशिया और ईरान ही तीन ऐसे देश हैं जो पाकिस्तान और कश्मीर के समर्थन में खुलकर सामने आए थे. लेख में कहा गया है कि पहली बार दुनिया को ये संदेश गया है कि पाकिस्तान अपनी विदेश नीति में स्वतंत्र नहीं है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

परवेज़ मुशर्रफ की फांसी

पाकिस्तान की एक विशेष अदालत ने पूर्व राष्ट्रपति और सेना के पूर्व अध्यक्ष जनरल परवेज़ मुशर्रफ़ को देशद्रोही क़रार देते हुए फांसी की सज़ा सुनाई है.

इस फ़ैसले के बाद पाकिस्तानी सेना और न्यायपालिका एक दूसरे के आमने-सामने खड़े हो गए हैं. फ़ैसले के बाद अपनी पहली प्रतिक्रिया में सेना के प्रवक्ता मेजर जनरल आसिफ़ ग़फ़ूर ने कहा था कि 40 साल तक देश की सेवा करने वाला व्यक्ति कभी देश का ग़द्दार नहीं हो सकता.

लेकिन पाकिस्तानी बार काउंसिल ने सेना के इस बयान को ख़ारिज करते हुए कहा कि सेना को लगता है कि देश की सारी संस्थाएं उसके मातहम काम करती हैं.

अख़बार नवा-ए-वक़्त के अनुसार पाकिस्तान के मुख्य न्यायाधीश जस्टिस आसिफ़ सईद खोसा ने कहा है कि मुशर्रफ़ केस में फ़ैसले को लेकर न्यायपालिका को बदनाम करने की साज़िश रची जा रही है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

रिटायरमेंट के समय अपने सम्मान में दिए गए फ़ेयरवेल में उन्होंने कहा कि उनपर ये आरोप लगाया जा रहा है कि जनरल परवेज़ मुशर्रफ़ मामले में उन्होंने स्पेशल कोर्ट के फ़ैसले को प्रभावित किया है.

जस्टिस खोसा के अनुसार ये बेबुनियाद आरोप न केवल उनको बल्कि पूरी न्यायपालिका को बदनाम करने की साज़िश है. उन्होंने कहा कि सच का बोलबाला होगा. उन्होंने कहा कि न्यायपालिका को पहले भी बदनाम करने की कोशिश की गई है लेकिन अदालत ने उन चुनौतियों का डटकर मुक़ाबला किया है और संविधान की रक्षा की है.

ये भी पढ़ेंः

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार