पीस ग्रुप के 27 सदस्यों का 'तालिबान ने किया अपहरण'

  • 26 दिसंबर 2019
शांति मार्च इमेज कॉपीरइट Getty Images

पश्चिमी अफ़गानिस्तान की यात्रा पर निकले एक पीस ग्रुप के सत्ताइस सदस्यों का तालिबान ने अपहरण कर लिया है.

स्थानीय अधिकारियों और कार्यकर्ताओं के मुताबिक़ इन लोगों का अपहरण उस वक़्त हुआ जब ये एक शांति मार्च के तहत पश्चिमी अफ़गानिस्तान की यात्रा पर थे.

पीपल्स पीस मूवमेंट ने शांति और युद्ध विराम की मांग करते हुए क़रीब दो सप्ताह पहले हेरात प्रांत से अपनी यात्रा शुरू की थी. लेकिन फाराह प्रांत में प्रवेश के बाद से ही उनका कोई अता-पता नहीं मिल पा रहा है.

तालिबान की ओर से इस पर अभी कोई टिप्पणी नहीं की गई है.

एक ओर जहां तालिबान अमरीका के साथ शांति वार्ता आगे बढ़ा रहा है, वहीं दूसरी ओर अफ़गानी और अंतरराष्ट्रीय सैन्य बलों पर हमले की भी ख़बरें बीच-बीच में आती रहती है.

फाराह प्रांत के डिप्टी गवर्नर मसूद बख़्तावर ने कहा कि छह कारों में यात्रा कर रहे इन कार्यकर्ताओं को तालिबान ने एक मुख्य सड़क पर रोक दिया था जिसके बाद उन्हें एक अज्ञात जगह पर ले जाया गया है.

इस मूवमेंट ने साल 2018 में हेलमंड प्रांत से अपनी यात्रा शुरू की थी. ये शांति यात्रा दक्षिण प्रांत में एक स्टेडियम में कार बम धमाके में हुई 17 लोगों की मौत और 50 से ज़्यादा लोगों के ज़ख्मी होने के बाद शुरू हुई थी.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
अफ़गानिस्तान संघर्ष में हो रही मौतों पर बीबीसी की ख़ास पड़ताल

उस समय से लेकर अब तक ये समूह देश के अलग-अलग हिस्सों में यात्रा कर रहा है. समूह ने कुछ ऐसे इलाक़ों में भी यात्रा की हैं जो तालिबान के कब्ज़े में हैं.

इससे पहले तालिबान ने आरोप लगाया था कि अफ़ग़ान सरकार इस पीस मूवमेंट को आर्थिक मदद दे रही है. हालांकि मूवमेंट इस बात से इनकार करती रही है.

अफ़ग़ान में साल 2001 से जारी युद्ध में अब तक तीन हज़ार से अधिक अंतरराष्ट्रीय सैन्यकर्मी और दसियों हज़ार अफ़गान नागरिक और सुरक्षाबलों के जवान मारे जा चुके हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे

संबंधित समाचार