इमरान ख़ान: RSS मुसलमानों का नरसंहार करे उससे पहले अंतरराष्ट्रीय जगत को जग जाना चाहिए

  • 26 दिसंबर 2019
इमरान ख़ान इमेज कॉपीरइट Getty Images

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान ख़ान ने राष्ट्रीय सेवक संघ (आरएसएस) पर एक बार फिर हमला किया है.

भारत में इस समय सरकार सत्तारुढ़ बीजेपी की है. ये पार्टी संघ परिवार का एक हिस्सा है, यानी दोनों की विचारधारा एक है.

इससे पहले गुरुवार को तेलंगाना में आरएसएस ने एक मार्च निकाला था.

सुचित्र विजयन नाम के एक व्यक्ति ने आरएसएस के उस मार्च की वीडियो क्लिप को ट्वीटर पर शेयर किया था.

इमरान ख़ान ने सुचित्र विजयन के ट्वीट को रीट्वीट करते हुए लिखा है, "आरएसएस के कारण मुसलमानों का नरसंहार हो उससे पहले अंतरराष्ट्रीय जगत को जग जाना चाहिए. मुसलमानों के नरसंहार के सामने दुनिया के दूसरे नरसंहार बहुत छोटे साबित होंगे. किसी धर्म विशेष से नफ़रत के आधार पर जब कभी भी हिटलर के ब्राउन शर्ट्स या आरएसएस जैसे मिलिशिया संगठन बनते हैं, उनका अंत हमेशा नरसंहार पर होता है."

इमरान ख़ान पहले भी आरएसएस पर हमला करते रहे हैं.

इमरान ख़ान जब भी भारत की मौजूदा नरेंद्र मोदी की सरकार पर हमला करते हैं वो इसमें आरएसएस को ज़रूर शामिल करते हैं साथ ही वो भारत की बीजेपी सरकार की तुलना जर्मन की नाज़ी सरकार से करते हैं.

इसी साल अगस्त 30 को इमरान ख़ान ने एक ट्वीट में कहा था कि "कश्मीर के लोगों के दूत के तौर पर मैं कश्मीरियों पर फासिस्ट मोदी सरकार की ज्यादतियों और मानवाधिकार उल्लंघनों के बारे में अंतरराष्ट्रीय समुदाय को बताता रहूंगा. पश्चिमी दुनिया को नहीं पता है कि आरएसएस का एजेंडा जर्मन के नाज़ीवाद से प्रेरित है."

पाँच अगस्त को भारत सरकार ने जम्मू-कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाले संवैधानिक प्रावधान धारा 370 को ख़त्म करने का फ़ैसला किया था.

इसके साथ ही जम्मू-कश्मीर राज्य को दो केंद्र प्रशासित राज्यों में विभाजित करने का फ़ैसला किया था.

मोदी सरकार के इस फ़ैसले का विरोध करने के लिए भी इमरान ख़ान ने आरएसएस को निशाना बनाया था.

संयुक्त राष्ट्र महासभा की बैठक में भी इमरान ख़ान ने अपने भाषण में आरएसएस पर हमला किया था.

इमरान आरएसएस की तुलना जर्मनी के तानाशाह हिटलर से कई बार कर चुके हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार