प्रिंस हैरी और मेगन के शाही परिवार से जुड़े इस फ़ैसले की वजह क्या है?

  • 9 जनवरी 2020
प्रिंस हैरी और उनकी पत्नी मेगन इमेज कॉपीरइट Getty Images

ब्रिटेन की महारानी एलिज़ाबेथ के पोते प्रिंस हैरी और उनकी पत्नी मेगन मर्केल ने कहा है कि दोनों शाही परिवार की वरिष्ठ सदस्यता से अलग हो रहे हैं. ड्यूक और डचेज़ ऑफ़ सक्सेस ने ये भी कहा कि वो ब्रिटेन और उत्तरी अमरीका में वक़्त बिताएंगे.

हैरी और मेगन का एक बच्चा आर्ची भी है. इस जोड़े का कहना है कि वो शाही परिवार में एक 'प्रगतिशील और नई भूमिका' बनाना चाहते हैं साथ ही 'आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर' भी होना चाहते हैं.

उनके इस फ़ैसले के पीछे क्या वजह है?

हैरी और मेगन का कहना है कि दोनों ने ये फ़ैसला कही महीनों की अंदरूनी बातचीत और विचार-विमर्श के बाद लिया है.

ड्यूक और डचेज़ ऑफ़ सक्सेस के इस फ़ैसले की एक झलक लोगों को पिछले साल अक्टूबर में ही मिल गई थी. उस वक़्त दोनों अफ़्रीका की यात्रा पर थे और उन पर एक टीवी डॉक्युमेंट्री फ़िल्माई गई थी.

इस डॉक्युमेंट्री में मेगन ने साफ़ कबूला था कि शाही जीवन उनके लिए 'मुश्किल' रहा है और उन्होंने हर वक़्त मीडिया की पैनी नज़रों में रहने की तैयारी नहीं की थी.

मेगन ने ये भी बताया था उनके ब्रितानी दोस्तों ने उन्हें चेताया था कि टैबलॉइड (अख़बार) उनकी ज़िंदगी तबाह कर सकते हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

पहले ही इशारा दे चुके थे हैरी और मेगन

ये डॉक्युमेंट्री उस वक़्त फ़िल्माई गई थी जब मेगन नई-नई मां बनी थीं. जब उनसे पूछा गया कि वो शाही परिवार की नई सदस्य होने के तनाव से कैसे निबट रही हैं तो उन्होंने कहा था, "मैंने काफ़ी पहले ही एच (हैरी) से कहा था कि सिर्फ़ जीना ही काफ़ी नहीं है. ज़िंदगी का मक़सद सिर्फ़ जीना नहीं होता. आपको आगे बढ़ना होता है."

इस डॉक्युमेंट्री में प्रिंस हैरी ने अपने मानसिक स्वास्थ्य और तनाव के बारे में भी बात की थी. उन्होंने कहा था कि उन्हें अपने मानसिक स्वास्थ्य का लगातार ध्यान रखना पड़ता है.

प्रिंस हैरी और मेगन के इस फ़ैसले के बारे में बीबीसी के शाही संवाददता जॉनी डायमंड का कहना है कि एक शाही जोड़े के तौर पर ऐसे 'बहुत से' काम थे जिसे हैरी और मेगन 'बिल्कुल बर्दाश्त' नहीं कर सके. साथ ही, प्रिंस हैरी 'मीडिया के कैमरों को पूरी तरह नापसंद करते थे और स्पष्ट तौर पर शाही कार्यक्रमों में ऊब जाते थे."

पिछले साल के आख़िर में प्रिंस हैरी ने बताया था कि वो और मेगन एक अख़बार के ख़िलाफ़ क़ानूनी कार्रवाई करने वाले थे. उनका कहना था कि अख़बार ने ग़ैरक़ानूनी तरीके से मेगन के एक निजी पत्र को प्रकाशित किया था. वहीं अख़बार का कहना था कि वो अपनी ख़बर पर क़ायम है.

उस समय हैरी ने ग़ुस्से में कहा था, "मैं अतीत में अपनी मां को खो चुका हूं और अब मैं अपनी पत्नी को उन्हीं ताक़तों का शिकार बनते देख रहा हूं."

अपनी मां प्रिंसेस डायना के 1997 में एक कार हादसे में हुई अचानक मौत का ज़िक्र करते हुए प्रिंस हैरी ने कहा, "मैंने देखा है कि कैसे मेरे किसी प्रिय शख़्स को इस कदर सामान की तरह पेश किया जाने लगा कि लोगों ने उससे ज़िंदा इंसान की तरह बर्ताव करना ही बंद कर दिया था."

ये भी पढ़ें: हैरी और मेगन नहीं रहना चाहते सीनियर रॉयल सदस्य

इमेज कॉपीरइट Sussexroyal/Instagram

इस बारे में बाक़ी शाही परिवार ने क्या कहा है?

बीबीसी को मिली जानकारी के मुताबिक़ बुधवार शाम को जब प्रिंस हैरी और मेगन ने अपना चौंकाने वाला बयान जारी किया, उससे पहले उन्होंने शाही परिवार के किसी सदस्य से सलाह-मशविरा नहीं किया था. यहां तक कि महारानी और प्रिंस ऑफ़ वेल्स से भी नहीं.

बकिंगम पैलेस की एक प्रवक्ता ने बीबीबी को बताया कि शाही परिवार प्रिंस हैरी और मेगन के फ़ैसले से 'निराश' है. प्रवक्ता ने कहा, "हैरी और मेगन से इस बारे में हो रही बातचीत शुरुआती चरण में थे. हम एक अलग रास्ता चुनने की उनकी इच्छा को समझते हैं लेकिन ये एक जटिल मुद्दा है और इसे सुलझाने में वक़्त लगेगा."

बीबीसी के शाही संवाददाता जॉनी डायमंड का कहना है कि परिवार के अन्य सदस्यों से सलाह मशविरा न किए जाने से बात बढ़ने की आशंका है.

बीबीसी संवाददाता के मुताबिक़ ये स्पष्ट तौर पर हैरी-मेगन और बाकी शाही परिवार के बीच एक बड़ी दरार है.

ये भी पढ़ें: प्रिंस हैरी और मेगन मार्कल की शाही शादी

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption मेगन मर्केल अपनी मां के साथ

बाक़ी लोगों की क्या प्रतिक्रिया है?

बकिंगम पैलेस के पूर्व प्रेस ऑफ़िसर डिक्की ऑर्बिटर ने प्रिंस हैरी के इस फ़ैसले की तुलना 1936 में एडवर्ड-8 के उस फ़ैसले से की जब उन्होंने दो बार तलाक़शुदा वैलिस सिंपसन से शादी करने के लिए शाही गद्दी छोड़ दी थी.

उन्होंने कहा, "हालांकि इससे पहले सिर्फ़ एक बार ही ऐसा हुआ है और हाल के दिनों में किसी ने ऐसा कोई क़दम नहीं उठाया है.''

मेगन ने बुधवार शाम को अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर अपने फ़ैसले से सम्बन्धित बयान शेयर किया था. इस पोस्ट को अब तक 1,427,266 से ज़्यादा लाइक्स मिल चुके हैं.

इस पोस्ट पर लोगों की अलग-अलग तरह की प्रतिक्रियाएं आईं. हालांकि ज़्यादा संख्या नकारात्मक प्रतिक्रियाओं की ही है.

एक इंस्टाग्राम यूज़र ने लिखा, "ये आप दोनों के लिए अच्छा है."

एक अन्य यूज़र ने लिखा, "इससे पता चलता है कि अमरीका के लोगों में राज परिवार का हिस्सा बनने की हिम्मत ही नहीं होती."

टीवी ब्रॉडकास्टर पियर्स मॉर्गन ने हैरी को शाही परिवार और उनके बड़े भाई प्रिंस विलियम से अलग करने के लिए मेगन को दोषी ठहराया.

पत्रकार और लेखिका कैटिलिन मोरेन ने ट्वीट किया, "हैरी और मेगन अब डॉलर कमा सकते हैं और बुरी तरह से अपरिभाषित शाही काम से मुक्त हो सकते हैं. पिछले साल के बाद इससे ज़्यादा समझदारी भरा फ़ैसला भला और क्या लिया जा सकता था?"

अमरीकी लेखिका और संस्कृति समीक्षक मिकी केंडल ने ट्वीट किया, "हैरी इस बारे में हमेशा बहुत स्पष्ट रहे हैं कि न तो वो ताज चाहते हैं और न ही कोई उपाधि. ये मेगन के उनके जीवन में आने से बहुत पहले की बात है.'' शाही गद्दी की क़तार में प्रिंस हैरी छठे स्थान पर हैं. इससे पहले प्रिंस चार्ल्स, प्रिंस विलियम और उनके तीन बच्चे हैं.''

एक अन्य अमरीकी लेखिका जैनेट मॉक ने मेगन की वापसी का स्वागत किया है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption अपनी शादी वाले दिन मां के साथ मेगन मर्केल

अब आगे क्या होगा?

शाही जोड़े का कहना है कि वो यूके और उत्तरी अमरीका में अपना वक़्त बिताएंगे, साथ ही एक नई 'चैरिटेबल संस्था' लॉन्च करेंगे.

ये चैरिटेबल संस्था कहां होगी और कब लॉन्च की जाएगी, दोनों ने इस बारे में अभी स्पष्ट जानकारी नहीं है.

पिछले साल क्रिसमस के बाद हैरी और मेगन ने शाही कामकाज़ से लंबा अवकाश लिया था और कनाडा के ब्रिटिश कोलंबिया में समय बिताया था.

प्रिंस हैरी और मेगन का पहला शाही दौरा सेंट्रल लंदन स्थित कनाडा के उच्चायोग का था जहां उन्होंने कनाडा में हुए स्वागत के लिए लोगों का शुक्रिया अदा किया था.

टोरंटो लाइफ़ मैग़जीन के अनुसार, "अमरीका में काम करने के दौरान टोरंटो मेगन के लिए दूसरे घर जैसा बन गया था. टोरंटो में उनके जेसिका और बेन मलरोनी जैसे क़रीबी दोस्तों का घर भी था."

माना जा रहा है कि हैरी और मेगन उनकी मां के यहां कैलिफ़ोर्निया में भी कुछ वक़्त बिताएंगे.

मेगन के पिता टॉमस मर्केल मेक्सिको में रहते हैं और मेगन का उनसे बहुत कम संपर्क रहता है.

हैरी और मेगन के नए काम के बारे में देखा जाए तो हाल के वर्षों में ड्यूक अफ़्रीका में संरक्षण पर ध्यान दे रहे हैं. साथ ही वो सुरक्षाबलों के घायल सदस्यों के लिए खेल भी आयोजित कर रहे हैं. मेगन का कामकाज़ भी बढ़ रहा है. वो नेशनल थियेटर और चैरिटी स्मार्ट वर्क्स में शामिल हुई हैं.

ये भी पढ़ें: शाही परिवार में आया नन्हा राजकुमार

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption शाही परिवार पर मीडिया की पैनी नज़र रहती है.

दोनों ने और क्या कहा है?

जोड़े ने अपनी वेबसाइट का वो हिस्सा भी अपडेट किया है जिसमें मीडिया के साथ उनके रिश्ते की बात की गई है.

हैरी और मेगन ने कहा है कि वो साल 2020 में मीडिया के साथ अपने काम करने के तरीके को बदलेंगे ताकि पत्रकारों को उनके कामकाज़ की विस्तृत जानकारी मिल सके.

ड्यूक और डचेज़ ऑफ़ सक्सेस ने ये भी कहा कि वो आने वाले वक़्त में छोटे मीडिया संस्थानों और युवा पत्रकारों से ज़्यादा बातचीत करेंगे.

दोनों मीडिया के लिए मौजूदा 'रोटा व्यवस्था' को भी ख़त्म करेंगे जिसके तहत पत्रकारों को शाही कार्यक्रमों में शामिल होने के लिए एक्सक्लूसिव पास दिए जाते हैं.

हैरी और मेगन ने अपनी वेबसाइट पर एक बयान में कहा है, "मौजूदा व्यवस्था नए डिजिटल ज़माने के साथ कदम मिलाकर नहीं चल पा रही है."

वेबसाइट पर 'मीडिया के बारे में हैरी और मेगन का क्या नज़रिया है?' शीर्षक के एक सेक्शन में कहा गया है कि वो दोनों 'ऐसे स्वतंत्र, मज़बूत और पारदर्शी मीडिया में यक़ीन करते हैं जो सही जानकारी दे, साथ ही विविधता और सहिष्णुता को भी बढ़ावा दे."

इस सेक्शन में कहा गया है, "हम समझते हैं कि शाही परिवार के सदस्यों के तौर पर उनकी भूमिका में लोगों और मीडिया की दिलचस्पी है इसलिए ईमानदार और सही मीडिया रिपोर्टिंग का स्वागत करते हैं. इसके साथ ही वो समाज के बाकी लोगों और परिवार की तरह अपनी निजता का भी ख़याल रखते हैं."

जोड़े ने कहा कि वो इंस्टाग्राम समेत बाक़ी सोशल मीडिया प्लेटफ़ॉर्म्स का इस्तेमाल करना जारी रखेंगे ताकि लोगों के साथ अपने महत्वपूर्ण व्यक्तिगत पलों को साझा कर सकें.

ये भी पढ़ें: दुनिया भर में क्यों टूट रहे हैं परिवार

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार