प्रिंस हैरी और मेगन की इच्छा को मिला ब्रिटिश महारानी का साथ

  • 13 जनवरी 2020
इमेज कॉपीरइट GETTY IMAGES

ब्रिटेन की महारानी एलिज़बेथ ने अपने पोते प्रिंस हैरी के उस फ़ैसले को रजामंदी दे दी है जिसमें उन्होंने कहा था कि वे अपनी पत्नी मेगन के साथ शाही परिवार की भूमिका से अलग स्वतंत्र रूप से कनाडा और ब्रिटेन में समय बिताना चाहते हैं.

ब्रिटेन की महारानी ने कहा है कि वे प्रिंस हैरी और उनकी पत्नी मेगन के इच्छा का पूरी तरह से समर्थन करती हैं लेकिन बेहतर होगा कि दोनों शाही परिवार के पूर्णकालिक सदस्य भी बने रहें.

उन्होंने उम्मीद जताई है कि आने वाले दिनों में इस बारे में अंतिम फ़ैसला लिया जाएगा.

दरअसल, बीते बुधवार को एक अप्रत्याशित बयान के ज़रिए जिसे प्रिंस हैरी ने अपने इंस्टाग्राम पेज पर भी पोस्ट किया था दोनों ने शाही परिवार से अलग स्वतंत्र रूप से रहने की इच्छा जताई थी.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
प्रिंस हैरी और मेगन के शाही ज़िंदगी छोड़ने का मतलब क्या?

बयान में उन्होंने कहा कि ''हमलोग शाही परिवार के वरिष्ठ सदस्य की हैसियत से हटना चाहते हैं और अपने आर्थिक रूप से आज़ाद होने के लिए काम करना चाहते हैं. लेकिन इसके साथ ही महारानी को हमारा समर्थन जारी रहेगा.''

उन्होंने कहा कि वो दोनों अब ब्रिटेन और उत्तरी अमरीका दोनों जगह में रहेंगे. बयान में उनका कहना था, ''इस भौगोलिक संतुलन से हमें अपने बेटे को शाही तौर तरीक़ों के साथ जिसमें उनका जन्म हुआ था, पालने में मदद मिलेगी. इससे हमें ये स्पेस भी मिलेगा जिससे हम जीवन के नए अध्याय पर केंद्रित हो सकेंगे और अपनी नई चैरिटेबल संस्था को लॉन्च करने का भी मौक़ा मिलेगा."

उनके इस बयान के बाद ही शाही परिवार के वरिष्ठ सदस्य प्रिंस हैरी और मेगन से लगातार बात कर रहे हैं.

महारानी की ओर से जारी बयान में कहा गया है बातचीत की प्रक्रिया में प्रिंस ऑफ़ वेल्स यानी प्रिंस चार्ल्स और ड्यूक ऑफ़ कैंम्ब्रिज यानी प्रिंस विलियम भी शामिल हैं और ये बातचीत बेहद सकारात्मक रही है.

महारानी ने कहा है, "मैं और मेरा परिवार पूरी तरह से हैरी और मेगन की इच्छा के साथ हैं जो एक युवा जोड़े के तौर पर नई जिंदगी को हासिल करना चाहते हैं."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार