कोरोना वायरस: चीन के हूबे में अब लोगों के घर से बाहर निकलने पर रोक

  • 16 फरवरी 2020
आदमी इमेज कॉपीरइट Getty Images

कोरोना वायरस के ख़िलाफ़ जारी जंग के दौरान चीन ने एक बड़ा क़दम उठाते हुए चीन ने हूबे प्रांत में लोगों की गतिविधियों पर कड़े प्रतिबंध लगा दिए हैं.

छह करोड़ लोगों को कोई आपातकालीन स्थिति होने पर ही घरों से बाहर निकलने को कहा गया है.

इसके अलावा निजी कारों के इस्तेमाल पर अनिश्चितकालीन प्रतिबंध लगा दिया गया है.

कोरोना वायरस के कारण सबसे अधिक हूबे और वुहान शहर प्रभावित हुए हैं जिनमें अब तक 1,665 लोगों की जानें जा चुकी हैं.

हालांकि, चीन ने घोषणा की है कि लगातार तीसरे दिन कोरोना वायरस के नए मामलों में गिरावट दर्ज की गई है और वो इसे फैलने से रोक रहा है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

क्या-क्या हैं प्रतिबंध

चीन ने हर किसी के घर से निकलने पर प्रतिबंध लगा दिया है साथ ही एक घर से तीन दिन में केवल एक ही आदमी को खाने का और ज़रूरी सामानों को लाने की छूट दी गई है.

वहीं, दवाई, होटलों, खाने की दुकानों और स्वास्थ्य सेवाओं के अलावा सभी दुकानें बंद करने के आदेश दिए गए हैं.

सामान की डिलिवरी करने के अलावा सभी तरह की कारों पर प्रतिबंध लगा दिया गया है.

राजनधानी बीजिंग में आने वाले लोगों को 14 दिन तक चिकित्सा निगरानी में एकांत में रहने के लिए कहा गया है, ऐसा न करने पर सज़ा का प्रावधान है.

चीन के केंद्रीय बैंक ने वायरस फैलने से रोकने के लिए इस्तेमाल किए हुए नोटों को कीटाणुरहित करने का फ़ैसला लिया है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

कितने नए मामले आए

रविवार को प्रशासन ने बताया कि 2009 नए मामले आए हैं जो शनिवार को 2641 थे. इससे पहले 5090 नए मामले आए थे.

चीन में अब तक 68,500 लोग कोरोना वायरस से संक्रमित हो चुके हैं.

नए मामलों में आ रही कमी पर चीन के राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग के प्रवक्ता मी फ़ेंग ने कहा है कि यह आंकड़ा इस वायरस को काबू में करने की चीन की कोशिशों को दिखाता है.

साथ ही आयोग के रोज़ाना के बुलेटिन में देशभर में 142 नई मौतों के बारे में बताया गया है जिनमें सबसे अधिक मौतें हूबे प्रांत में हुई हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे

संबंधित समाचार