जॉर्ज फ़्लॉयड: काले लोगों के साथ किन तीन तरीक़ों से होता है दुर्व्यवहार

  • रिएलिटी चेक टीम
  • बीबीसी न्यूज़
जॉर्ज फ़्लॉयड

इमेज स्रोत, Getty Images

एक काले नागरिक जॉर्ज फ्लॉयड की पुलिस हिरासत में मौत के बाद अमरीका के कई शहरों में हिंसा भड़की हुई है.

हम यहाँ पर अमरीका में अपराध और न्याय से जुड़े कुछ आंकड़ों पर एक नज़र दौड़ाते हैं और साथ में यह भी देखने की कोशिश करते हैं कि अफ्रीकी-अमरीकी लोगों के मामले में यह आंकड़े क्या दिखाते हैं.

1. अफ्रीकी-अमरीकी लोगों को पुलिस की गोली का शिकार बनने की संभावना ज़्यादा

मौजूद आंकड़े इस बात की ओर इशारा करते हैं कि पुलिस की गोली से मारे जाने के मामले में अफ्रीकी-अमरीकी लोगों की तादाद उनकी अमरीका में कुल आबादी के अनुपात में अधिक है.

आधिकारिक आकड़ों के मुताबिक़, 2019 में अफ्रीकी-अमरीकी लोगों को संख्या अमरीका की कुल आबादी का 14 फ़ीसदी है. 23 फ़ीसदी से ज्यादा मामलों में अफ्रीकी-अमरीकी पुलिस की गोली का शिकार बनते हैं और संख्या के हिसाब से यह क़रीब 1000 मामलों से थोड़ा ज्यादा होता है.

2017 से लगातार यह आकड़ें बने हुए हैं जबकि पुलिस की गोली से मारे जाने वाले गोरे लोगों की संख्या में तब से गिरावट आई है.

वीडियो कैप्शन,

कोरोना संकट से सबसे ज़्यादा प्रभावित अमरीका पिछले कुछ दिनों से एक और संकट से जूझ रहा है.

2. ड्रग्स के मामले में गिरफ़्तार होने वालों में अफ्रीकी-अमरीकी लोगों की दर सबसे ज़्यादा

गोरे लोगों की तुलना में ड्रग्स के मामल में गिरफ़्तार होने वाले अफ्रीकी-अमरीकियों की दर कहीं ज्यादा है जबकि सर्वे में यह बात सामने आई है कि दोनों ही समुदायों में ड्रग्स का इस्तेमाल समान स्तर पर ही होता है.

2018 में करीब प्रति एक लाख अफ्रीकी-अमरीकियों पर 750 लोग ड्रग्स के मामले में गिरफ़्तार हुए थे जबकि इसकी तुलना में गोरे अमरीकी सिर्फ़ 350 ही थे.

राष्ट्रीय स्तर पर किए गए पिछले सर्वे यह बात सामने आई थी कि गोरे लोग उसी स्तर पर ड्रग्स का सेवन करते हैं जितने की अफ्रीकी-अमरीकी लोग. लेकिन गिरफ़्तारी के मामले में अफ्रीकी-अमरीकियों की दर अधिक है.

अमरीकी सिविल लिबर्टीज यूनियन के अध्ययन में पाया गया है कि मारिजुआना रखने के आरोप में अफ्रीकी-अमरीकी लोग 3.7 गुना गोरे की तुलना में अधिक गिरफ्तार हुए हैं भले ही मारिजुआना के सेवन के मामले में दोनों लगभग बराबर ही थे.

वीडियो कैप्शन,

एक हत्या जिस पर पूरा अमरीका जल रहा है

3. अफ्रीकी-अमरीकी लोगों को जेल अधिक

हाल में जारी आकड़ों के मुताबिक अफ्रीकी-अमरीकी लोग गोरे लोगों की तुलना में पांच गुना अधिक जेल की हवा खाते हैं जबकि हिस्पैनिक-अमरीकियों की तुलना में दो गुना ज्यादा.

2018 में अफ्रीकी-अमरीकी अमरीका की आबादी का क़रीब महज़ 13 फ़ीसदी थे लेकिन देश में जेल में क़ैद जितने लोग हैं, उसमें एक तिहाई हिस्सा इन्हीं का है.

गोरे अमरीकी जेल में क़ैद कुल संख्या के तीस फ़ीसदी है लेकिन देश की आबादी में उनका हिस्सा भी 60 फ़ीसदी से ज्यादा है.

प्रति एक लाख अफ्रीकी-अमरिकियों की आबादी पर 1000 से ज्यादा लोग जेलों में बंद है जबकि प्रति एक लाख गोरे कि आबादी पर सिर्फ़ करीब 200 क़ैदी ही हैं.

अमरीका में कैदियों की आबादी का निर्धारण उन कैदियों की संख्या मिलाकर होता है जो एक साल से ज्यादा वक्त से राज्य या फिर केंद्रीय जेलों में बंद हैं.

पिछले दशक में अफ्रीकी-अमरीकियों कैदियों की संख्या में गिरावट तो आई है लेकिन यह अभी भी किसी दूसरी नस्ल की तुलना में अधिक है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)