कोरोना: चीन या अमरीका, इस महामारी से उबरने में दुनिया का कौन थामेगा हाथ?

  • जुबैर अहमद
  • बीबीसी संवाददाता
अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग

इमेज स्रोत, DIMITAR DILKOFF

आजकल वैज्ञानिकों के बीच एक आम राय बनती हुई दिख रही है कि हम महामारियों के दौर में पहुंच चुके हैं. कुछ महामारियों के नाम लें तो इस समय दुनिया कोरोना, इबोला, और एच1एन1 का सामना कर रही है.

और अर्थशास्त्री भी मानते हैं कि कोरोना वायरस सबसे ज़्यादा ख़तरनाक और प्रभावी वायरस है जिसने वैश्विक अर्थव्यवस्था को चरमराकर रख दिया है. इस वजह से लाखों लोग एक बार फिर ग़रीबी की स्थिति में पहुंच चुके हैं.

विश्व बैंक के एक आकलन के अनुसार इस साल वैश्विक अर्थव्यवस्था में 5.2 फीसदी तक सिकुड़ जाएगी और "गिरावट कुछ इस तरह नज़र आएगी जैसे बीते 150 साल में नज़र नहीं आई."

इस रिपोर्ट के मुताबिक़, कोरोना वायरस विकासशील देशों में दशकों से जारी प्रगति को बेकार कर रही है और विकसित दुनिया को मंदी में भेज रही. सहयोग और सामूहिक प्रयास कमज़ोर होते दिख रहे हैं. इसकी जगह पर देश आंतरिक उत्पादन क्षमताओं को मजबूत करके आर्थिक संकट का सामना करने की कोशिश कर रहे हैं.

कुछ विशेषज्ञ ये भी चिंता जता रहे हैं कि वर्तमान दुनिया में जिस वैश्विक राजनीतिक ढांचे में हम जी रहे हैं, वह ध्वस्त होने की कगार पर खड़ा है. इन्हीं चिंताओं से ये सवाल पैदा हुआ है कि कौन-सा देश महामारी से ग्रसित वैश्विक अर्थव्यवस्था का नेतृत्व करके उसे इससे बाहर निकालेगा.

विशेषज्ञों के मुताबिक़, इसके ज़्यादा विकल्प मौजूद नहीं हैं. अमरीका और चीन दो ऐसे नाम हैं जो लोगों के ज़ेहन में सबसे पहले आते हैं. अमरीका दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है और चीन दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है. भारतीय विश्लेषक मानते हैं कि कोरोना संकट ने एक ऐसी रिक्तता पैदा की है जिसकी वजह से भारत वैश्विक आर्थिक उद्धार में एक सीमित भूमिका निभा सकता है.

लेकिन क्या दुनिया की पांचवी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था अपनी आर्थिक समस्याओं के साथ ऐसी कोई भूमिका निभा पाएगी? यूरोपीय संघ एक मजबूत आर्थिक गुट है लेकिन ब्रेक्सिट ने इसकी सामूहिक नींव हिलाकर रख दी है. ऐसे में सवाल उठता है कि कौन दुनिया का नेतृत्व करने के लिए कितना तैयार है.

इमेज स्रोत, NICHOLAS KAMM

इमेज कैप्शन,

अमरीकी अटॉर्नी जनरल विलियम बार

क्या अमरीका दुनिया का नेतृत्व कर सकता है?

छोड़कर पॉडकास्ट आगे बढ़ें
पॉडकास्ट
बात सरहद पार

दो देश,दो शख़्सियतें और ढेर सारी बातें. आज़ादी और बँटवारे के 75 साल. सीमा पार संवाद.

बात सरहद पार

समाप्त

द्वितीय विश्व युद्ध में यूरोप और जापान को उबारने में अमरीका ने एक अहम भूमिका निभाई थी. लेकिन इसकी नंबर वन पोजिशन इस समय संकट में है. कई विशेषज्ञ कहते हैं कि अमरीका ने इस स्थिति को स्वयं न्योता दिया है क्योंकि अमरीका ने बीते कुछ सालों में दुनिया का नेतृत्व करने की अपनी ज़िम्मेदारियों को निभाना बंद कर दिया है.

लेकिन अर्थशास्त्री विवेक कौल मानते हैं कि राष्ट्रपति ट्रंप का चीन के ख़िलाफ़ ट्रेड वॉर और इस महामारी को लेकर चीन पर आरोप लगाना इस साल नवंबर में होने वाले चुनाव को ध्यान में रखकर अपनाए जा रहे चुनावी हथकंडों से ज़्यादा कुछ नहीं है.

हालांकि, राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप अपनी 'अमरीका फर्स्ट' नीति के तहत अमरीकी कंपनियों पर दबाव बना रहे हैं कि वे चीन से अपना व्यापार समेट कर अमरीका में व्यापार करें ताकि अमरीका एक मैन्युफैक्चरिंग हब बन सके और लाखों नौकरियां पैदा हो सकें. वहीं, दूसरी ओर उन्होंने अपने देश को विश्व स्वास्थ्य संगठन और जलवायु परिवर्तन से जुड़े समझौतों से बाहर कर लिया है. वह मुक्त व्यापार और भौगोलिकीकरण के आत्म-मुग्ध विरोधी हैं.

आजकल चीन और अमरीका के बीच व्यावसाय फिर से खोलने की चर्चा जारी है. लेकिन असल बात ये है कि अमरीका को चीन की उतनी ही ज़रूरत है जितनी चीन को अमरीका की ज़रूरत है.

विवेक कौल कहते हैं कि चीन और अमरीका के लिए अपने रास्ते अलग करना आने वाले सालों में भी संभव नहीं होगा क्योंकि दोनों देशों की अर्थव्यवस्थाएं एक दूसरे में काफ़ी गुथी हुई हैं.

वह कहते हैं, "चीन और अमरीका का पूरा संबंध 'क्विड प्रो को' आदान-प्रदान पर टिका हुआ है. चीन अमरीका को उच्च गुणवत्ता का सामान निर्यात करता है जो कि अमरीकी उपभोक्ताओं के लिए मुफ़ीद साबित होता है. वे डॉलर्स में भुगतान करते हैं. ये डॉलर स्थानीय करेंसी में तब्दील होकर पीपल्स बैंक ऑफ़ चाइना में जमा कर दिए जाते हैं. इसके बाद बैंक इस पैसे से अमरीकी बॉन्ड खरीदता है जिससे अमरीकी सरकार बेहद कम ब्याज़ दरों पर पैसा हासिल कर पाती है. ऐसे में अगर आप इस समीकरण में से कोई भी चीज़ निकाल देते हैं तो ये पूरा समीकरण खराब हो जाएगा."

विवेक कौल का दावा अमरीका और चीन के बीच द्विपक्षीय व्यापार के आंकड़ों में सही साबित होता है. अमरीकी वाणिज्य मंत्रालय की हालिया रिपोर्ट के मुताबिक़ 2018 में अमरीका और चीन के बीच $731.1 अरब का व्यापार हुआ था. इसमें $179 अरब का एक्सपोर्ट था और इम्पोर्ट $557.9 अरब था. और राष्ट्रपति ट्रंप के अमरीकी कंपनियों की चीन पर निर्भरता कम करने के तमाम प्रयासों के बावजूद 2020 के पहले चार महीनों में दोनों देशों की कंपनियों के बीच व्यापार कुछ कम हुआ है. लेकिन इन दोनों मुल्कों के अभी भी दुनिया में सबसे मजबूत व्यापारिक रिश्ते हैं.

राष्ट्रपति ट्रंप भले ही चीन को नियंत्रित करना चाहते हों लेकिन चीन अब अमरीका को पहले जितना भाव नहीं देता है. हाल ही में ट्रंप के एक सहयोगी ने एक लेख के माध्यम से राष्ट्रपति ट्रंप की पहली चीन यात्रा की ओर ध्यान खींचा.

इस लेख में लिखा था, "स्टेट काउंसिल के प्रीमियर ली केकियांग और चीनी सरकार के मुखिया ने अपनी राय कुछ इस तरह रखी कि चीन अपना औद्योगिक और तकनीकी बेस स्थापित कर चुका है, ऐसे में अब चीन को अमरीका की ज़रूरत नहीं है. उन्होंने अनुचित व्यापारिक और आर्थिक गतिविधियों को लेकर अमरीका की चिंताओं को अनदेखा करते हुए संकेत दिया कि भविष्य की वैश्विक अर्थव्यवस्था में अमरीका की भूमिका सिर्फ चीन को कच्चा माल, कृषि से जुड़े उत्पाद, और चीन में बन रहे विश्व स्तर के इंडस्ट्रियल और कंज़्यूमर प्रॉडक्ट्स के लिए ऊर्जा देना रह गई है."

इमेज स्रोत, Getty Images

चीन में कितनी क्षमता है

कई अमरीकी विशेषज्ञों को लग रहा है कि चीन जल्द ही अमरीका से आगे निकल जाएगा.

कोरोना वायरस के संबंध में चीन में सबसे पहले लॉकडाउन लगा और सबसे पहले लॉकडाउन हट गया. इसके बाद अब चीन का आर्थिक तंत्र एक बार फिर सक्रिय हो चुका है. जबकि अमरीका अभी भी कोरोना वायरस से जूझ रहा है.

दिल्ली के फॉर स्कूल ऑफ़ मैनेज़मेंट में चीनी विशेषज्ञ डॉ. फैसल अहमद मानते हैं कि चीन दुनिया को इस आर्थिक संकट से बाहर निकलने में नेतृत्व देगा.

वह कहते हैं, "चीन निश्चित रूप से इस भूमिका को निभाने जा रहा है. चीन एक ऐसा देश है जिसे अमरीका अपना शत्रु और यूरोपीय संघ प्रतिद्वंदी कहता है. लेकिन आईएमएफ़ का अनुमान है कि साल 2021 में चीनी अर्थव्यवस्था 9.2 फीसदी से वृद्धि कर रही होगी."

लेकिन बेंगलुरु में रहने वाले चीनी व्यवसायी जियांगलॉन्ग हू कहते हैं कि चीन में बुद्धिजीवी और व्यावयायिक समुदाय कोविड के बाद की दुनिया में वर्ल्ड ऑर्डर को लेकर काफ़ी चिंतित हैं.

लेकिन चीन के पास अभी चिंतित होने की काफ़ी वजहें हैं क्योंकि वह कोरोना वायरस के प्रसार में अपने कथित योगदान की वजह से अपयश का शिकार हो रहा है.

हू कहते हैं, "कुछ वरिष्ठ कूटनीतिज्ञ ये भी मान रहे हैं कि इस महामारी की वजह से शेष दुनिया चीन को लेकर अविश्वास से भर गई है."

इसी समय पर चीनी सरकार अमरीका और यूरोप में कोरोना वायरस का प्रसार रोकने में कथित अव्यवस्थाओं को देख रहा है. ऐसे में वह अंतरराष्ट्रीय संस्थाओं में अपनी ताकत और आर्थिक क्षमता के आधार पर अपनी भूमिका को बढ़ाने का प्रयास कर रहा है.

वॉशिंगटन में बीबीसी चीनी सेवा के संवाददाता झाओयिन फेंग ने बीते कुछ दिनों में अनुभव किया है कि कुछ दिनों से चीनी दूत और मंत्री चीनी पक्ष रखते हुए सोशल मीडिया पर कुछ ज़्यादा ही आक्रामक हो गए हैं जबकि पहले ऐसा नहीं था.

लेकिन सवाल ये उठता है कि क्या चीन में नतीजे लाने की क्षमता है? झियानलॉन्ग हू कहते हैं फिलहाल चीन की प्राथमिकता देशों के साथ द्विपक्षीय वित्तीय संबंधों को बेहतर करना है.

वह कहते हैं, "मुझे लगता है कि इस समय प्राथमिकता ये नहीं है कि अंतरराष्ट्रीय संस्थाओं में इसकी भूमिका को बढ़ाकर अमरीका की जगह ली जाए. इसकी जगह चीनी सरकार अमरीकी-चीनी संबंधों को बेहतर बनाना चाहती है. वह अन्य ताकतों जैसे जर्मनी और जापान से भी संबंध बरकरार रखना चाहते हैं. कम शब्दों में कहें तो चीन का उद्देश्य अंतरराष्ट्रीय संस्थाओं में अपनी हैसियत का विस्तार करने की जगह अन्य बड़ी ताकतों के साथ द्विपक्षीय व्यावसायिक रिश्ते संतुलित करना है."

इमेज स्रोत, REUTERS/Thomas Peter/Pool

झाओयिन फेंग कहती हैं कि चीन की इच्छा विश्व का नेतृत्व करने की है लेकिन इसकी अपनी आंतरिक समस्याएं हैं. वो कहती हैं कि यहां व्यापक आर्थिक असमानताएं है, साथ ही गरीबी है और कामगारों की कम पगार भी एक बड़ी समस्या है.

हालांकि डॉ फैसल अहमद इस बात को मानते हैं कि दुनिया की अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने में चीन महत्वपूर्ण भूमिका अदा कर सकता है.

वो कहते हैं कि "इस वैश्विक महामारी के बाद अर्थव्यव्स्था को तीन स्तरों पर मदद चाहिए होगी, जो चीन आसानी से कर सकता है. ये हैं -

(1) एक मजबूत सप्लाई चेन - बड़े पैमाने पर संचालन और लागत में होने वाले लाभ के कारण कई कंपनियों के चीन से बाहर जाने के बाद भी इस मामले में चीन महत्वपूर्ण बना रहेगा.

(2) इन्फ्रास्ट्रक्चर में तुरंत और बड़े पैमाने पर निवेश - फिलहाल जो स्थिति है उसमें चीन ये करने में इच्छुक है भले ही गरीब देशों में उसकी महत्वाकांक्षी बेल्ट एंड रोड परियोजना हो या फिर चीन समर्थित एशियन इन्फ्रास्ट्रक्चर इंवेस्टमेंट बैंक के ज़रिए बड़े निवेश में कर्ज के दर मदद करना हो.

(3) आर्टिफ़िशियल इंटेलिजेंस इकोसिस्टम - जिसकी मदद से उत्पादन, हेल्थकेयर और दूसरे क्षेत्रों में लागत कम की जी सके."

चीन विज्ञान, तकनीक पर ध्यान केंद्रित कर और हज़ारों पेटेन्ट और बौद्धिक संपदा अधिकार हासिल कर के दुनिया की नंबर वन अर्थव्यवस्था बनना चाहता है जो कल उसके बहुत काम आ सकती है. किसी दौर में ये अमरीकी अर्थव्यवस्था की ताकत हुआ करती थी.

लेकिन झाओयिन फेंग और झियानलॉन्ग हू मानते हैं कि तकनीक और विज्ञान के मामले में चीन की शक्ति को अधिक कर बताया जाता है.

इमेज स्रोत, NOEL CELIS/AFP via Getty Images

मिशन 'मेड इन चाइना 2025'

लेकिन आप मानें न मानें राष्ट्रपति शी जिनपिंग की अध्यक्षता में चीन तकनीक और विज्ञान के मामले में खुद को स्वतंत्र शक्ति के रूप में विकसित कर रहा है और 'मेड इन चाइना 2025' के नारे के साथ आगे बढ़ रहा है.

अपने इस उद्देश्य़ को हासिल करने के लिए चीन हाई-टेक कंपनियों को खड़ा कर रहा है और वहां की कई निजी कंपनियां रिसर्च और पेटेन्ट रजिस्ट्रेशन में करोड़ों डॉलर खर्च कर रही हैं. कथित तौर पर वो विदेशी कंपनियों को अपने बड़े मार्केट में अपनी किस्मत आजमाने का मौक़ा तो देता है लेकिन इसके बदले उनकी तकनीक देने के लिए बाध्य करता है. चीन इसे व्यापार का उचित तरीका मानता है लेकिन अमरीका इसे बौद्धिक संपदा की चोरी. साइबर चोरी और जबरन कराया गया टेक्नोलॉजी ट्रांसफर करार देता है.

न्यूयॉर्क स्थित विदेशी मामलों की अमरीकी थिंक टैंक काउंसिल ने हाल में कहा था कि चीन के मिशन 'मेड इन चाइना 2025' से अमरीका को दूर रहने की ज़रूरत है.

थिंक टैंक का कहना है कि इस तरह कोशिशों ने "अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को चीनी सामान पर लगने वाले आयात करों को बढ़ाने और चीनी सरकार समर्थिक तकनीकी कंपनियों को ब्लॉक करने के लिए उत्साहित किया है. वहीं दूसरे देशों ने अपने निवेश पर लगाम लगने की कोशिश की है और वो इस पर डिबेट कर रहे हैं कि चीन के व्यवहार को लेकर क्या किया जाए."

फिलहाल तेज़ी से पैर पसारते कोरोना वायरस के कारण चीन पश्चिमी देशों के निशाने पर है और उनकी नाराज़गी झेल रहा है. राष्ट्रपति ट्रंप ने चीन पर कोरोना वायरस से जुड़ी जानकारी छिपाने और इस कारण इसे दुनिया भर में फैलने से न रोकने का आरोप लगाया है. अकेले अमरीका में कोरोना महामारी के कारण एक लाख से अधिक मौतें हो चुकी हैं, लाखों लोगों की नौकरियां गई हैं और यहां की ट्रिलियन डॉलर अर्थव्यवस्था को करारा झटका लगा है.

इमेज स्रोत, EPA/Sebastiao Moreira

चीन अब तक यही कहता रहा है कि उसने जनवरी 4 को अमरीका को इस वायरस के बारे में जानकारी दे दी थी. लेकिन चीन के सफाई देने के बावजूद कई देश ये मान रहे हैं कि इस घातक वायरस के लिए चीन ही ज़िम्मेदार है.

कई तो इस दावे से इत्तेफाक रखते हैं कि चीन के एक लैब में ये वायरस बनाया गया है. हालांकि वैज्ञानिक इस दावे से इनकार करते हैं लेकिन आम व्यक्ति भी इस दलील में यकीन कर रहा है और चीन को ज़िम्मेदार ठहरा रहा है.

कई ट्रंप समर्थित अमरीकी थिंक टैंक और बुद्धिजीवी चीन को कोरोना वायरस का 'निर्यातक' मान रहे हैं.

एक नामी कंजर्वेटिव पत्रिका नेशनल रिव्यू ने बीते सप्ताह लिखा, "कोविड-19 मेड इन चीन था. ये वायरस चीनी कम्युनिस्ट पार्टी सीपीपी की करतूत थी."

क्या ये भारत के लिए एक मौक़ा है?

कोरोना लॉकडाउन के दौरान भारत की सबसे बड़ी कंपनी रिलायंस जियो में कई विदेशी कंपनियों ने करीब 87,000 करोड़ रुपये का निवेश किया. ये निवेश दो बातें बताते हैं - पहला ये कि भारत अब भी विदेशी निवेशकों का पसंदीदा देश बना हुआ है, दूसरा कोरोना वायरस की महामारी के बाद से दौर में डिजिटल प्लेटफ़ॉर्म और तकनीक ही भारतीय अर्थव्यवस्था को आगे ले कर जाएगी.

विवेक कौल कहते हैं कि इस बात को लेकर भी स्पष्टता नहीं है कि वैश्विक अर्थव्यवस्था को फिर से पटरी पर लौटा लाने में भारत क्या भूमिका अदा कर सकता है.

हालांकि वो मानते हैं कि भारत कुछ कदम तो उठा ही सकता है, "एक काम जो हम कर सकते हैं और राजनेता भी इस बार में पहले कह चुके हैं कि हम भारतीय कंपनियों को चीन से निकलने के लिए बढ़ावा दे सकते हैं, ताकि वो भारत में आकर काम शुरु कर सकें."

वो कहते हैं, "लेकिन लोग ये बात नहीं समझ रहे कि बीते चार सालों से चीन से कंपनियां बाहर जा रही हैं क्योंकि वहां अब लेबर उतना सस्ता नहीं रह गया है. ये कंपनियां बांग्लादेश और वियतनाम का रुख़ कर रही हैं. अगर हमें आने वाले नए दौर में नई भूमिका के बारे में सोचना है तो हमें अपना इंफ्रास्ट्रक्चर मज़बूत करना होगा ताकि कंपनियां यहां काम करने के लिए उत्साहित अनुभव करें. जीडीपी में निवेश गिर रहा है. इससे कारोबिरियों और कंपनियों को ये संदेश जाता है कि भारतीय लोग भी देश में निवेश नहीं कर रहे हैं. ऐसे में आप ये उम्मीद कैसे कर सकते हैं कि विदेशी कंपनियां यहां निवेश करेंगी."

इमेज स्रोत, EPA

पीएम मोदी ने आत्मनिर्भर भारत का जो नया मंत्र दिया है वो कि विदेशी कंपनियों को बंद करने और स्थानीय कंपनियों को बढ़ावा देने को प्राथमिकता देने की ओर इशारा करता है.

और तो और अमरीका और चीन के बीच जारी विवाद के कारण भी भारत की स्थिति अजीब हो गई है. चीन और अमरीका के साथ भारत का व्यापार करीब 100 अरब डॉलर का है.

चीन भारत का पड़ोसी है जिसके साथ फिलहाल भारत सीमा विवाद में उलझा हुआ है. इस बात की काफी संभावना है कि चीन के ख़िलाफ़ भारत अमरीका से हाथ मिला ले. लेकिन चीन को लेकर भारत की अपनी अलग और स्वतंत्र विदेश नीति है जो जल्द नहीं बदलने वाली.

चीन और भारत के बीच सीमा विवाद पहले भी होते रहे हैं. तो क्या ऐसे में भारत को अपनी सीमाओं पर दीवार खड़ी कर देनी चाहिए? या फिर अपनी स्थिति और स्पष्ट करनी चाहिए?

जानकार कहते हैं कि भारत को सिंगापुर मॉडल अपनाना चाहिए जो दोनों मुल्कों के साथ सौहार्दपूर्ण संबंध रखने में सफल हुआ है.

और कौन-कौन कर सकते हैं दुनिया का नेतृत्व?

यूरोपीय संघ वैश्विक सहयोग और सहभागिता में यकीन करने वाला अब तक का सबसे बड़ा आर्थिक और राजनीतिक समूह है. लेकिन ब्रेक्सिट ने इसके सामने नई चुनौतियां खड़ी कर गई हैं.

इसके अलावा अगर इस समूह को कोराना महामारी के निकलने में विश्व का नेतृत्व करने का मौक़ा दिया जाए तो इसके पास न तो ज़रूरी आर्थिक ताकत होगी और न ही राजनीतिक इच्छाशक्ति. अगर जर्मनी और फ्रांस एक साथ आ जाएं तो भी उसके नेता विश्व का नेतृत्व करने की क्षमता रखते हैं और खुद अमरीका भी इस बात से इनकार नहीं कर सकता.

लेकिन वैश्विक अर्थव्यवस्था का नेतृत्व इसे सौंपा जाए इसके लिए इस बात पर भी ग़ौर करना होगा कि हाल के समय में कई मोर्चों पर यह समूह विफल रहा है.

कई देशों का मानना है कि इतने बड़े पैमाने पर हुई तबाही से उबरने के लिए वैश्विक सहभागिता ही सबसे बेहतर रास्ता है.

अर्थशास्त्री विवेक कौल भी इस बात को मानते हैं. वो कहते हैं, "जो सहभागिता बने उसका नेतृत्व अमरीका को ही करना चहिए क्योंकि चीन और दूसरों के मुक़ाबले इसके अब भी कई फायदे हो सकते हैं."

सवाल और जवाब

कोरोना वायरस के बारे में सब कुछ

आपके सवाल

  • कोरोना वायरस क्या है? लीड्स के कैटलिन से सबसे ज्यादा पूछे जाने वाले

    कोरोना वायरस एक संक्रामक बीमारी है जिसका पता दिसंबर 2019 में चीन में चला. इसका संक्षिप्त नाम कोविड-19 है

    सैकड़ों तरह के कोरोना वायरस होते हैं. इनमें से ज्यादातर सुअरों, ऊंटों, चमगादड़ों और बिल्लियों समेत अन्य जानवरों में पाए जाते हैं. लेकिन कोविड-19 जैसे कम ही वायरस हैं जो मनुष्यों को प्रभावित करते हैं

    कुछ कोरोना वायरस मामूली से हल्की बीमारियां पैदा करते हैं. इनमें सामान्य जुकाम शामिल है. कोविड-19 उन वायरसों में शामिल है जिनकी वजह से निमोनिया जैसी ज्यादा गंभीर बीमारियां पैदा होती हैं.

    ज्यादातर संक्रमित लोगों में बुखार, हाथों-पैरों में दर्द और कफ़ जैसे हल्के लक्षण दिखाई देते हैं. ये लोग बिना किसी खास इलाज के ठीक हो जाते हैं.

    कोरोना वायरस के अहम लक्षणः ज्यादा तेज बुखार, कफ़, सांस लेने में तकलीफ़

    लेकिन, कुछ उम्रदराज़ लोगों और पहले से ह्दय रोग, डायबिटीज़ या कैंसर जैसी बीमारियों से लड़ रहे लोगों में इससे गंभीर रूप से बीमार होने का ख़तरा रहता है.

  • एक बार आप कोरोना से उबर गए तो क्या आपको फिर से यह नहीं हो सकता? बाइसेस्टर से डेनिस मिशेल सबसे ज्यादा पूछे गए सवाल

    जब लोग एक संक्रमण से उबर जाते हैं तो उनके शरीर में इस बात की समझ पैदा हो जाती है कि अगर उन्हें यह दोबारा हुआ तो इससे कैसे लड़ाई लड़नी है.

    यह इम्युनिटी हमेशा नहीं रहती है या पूरी तरह से प्रभावी नहीं होती है. बाद में इसमें कमी आ सकती है.

    ऐसा माना जा रहा है कि अगर आप एक बार कोरोना वायरस से रिकवर हो चुके हैं तो आपकी इम्युनिटी बढ़ जाएगी. हालांकि, यह नहीं पता कि यह इम्युनिटी कब तक चलेगी.

    यह नया वायरस उन सात कोरोना वायरस में से एक है जो मनुष्यों को संक्रमित करते हैं.
  • कोरोना वायरस का इनक्यूबेशन पीरियड क्या है? जिलियन गिब्स

    वैज्ञानिकों का कहना है कि औसतन पांच दिनों में लक्षण दिखाई देने लगते हैं. लेकिन, कुछ लोगों में इससे पहले भी लक्षण दिख सकते हैं.

    कोविड-19 के कुछ लक्षणों में तेज बुख़ार, कफ़ और सांस लेने में दिक्कत होना शामिल है.

    वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन (डब्ल्यूएचओ) का कहना है कि इसका इनक्यूबेशन पीरियड 14 दिन तक का हो सकता है. लेकिन कुछ शोधार्थियों का कहना है कि यह 24 दिन तक जा सकता है.

    इनक्यूबेशन पीरियड को जानना और समझना बेहद जरूरी है. इससे डॉक्टरों और स्वास्थ्य अधिकारियों को वायरस को फैलने से रोकने के लिए कारगर तरीके लाने में मदद मिलती है.

  • क्या कोरोना वायरस फ़्लू से ज्यादा संक्रमणकारी है? सिडनी से मेरी फिट्ज़पैट्रिक

    दोनों वायरस बेहद संक्रामक हैं.

    ऐसा माना जाता है कि कोरोना वायरस से पीड़ित एक शख्स औसतन दो या तीन और लोगों को संक्रमित करता है. जबकि फ़्लू वाला व्यक्ति एक और शख्स को इससे संक्रमित करता है.

    फ़्लू और कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए कुछ आसान कदम उठाए जा सकते हैं.

    • बार-बार अपने हाथ साबुन और पानी से धोएं
    • जब तक आपके हाथ साफ न हों अपने चेहरे को छूने से बचें
    • खांसते और छींकते समय टिश्यू का इस्तेमाल करें और उसे तुरंत सीधे डस्टबिन में डाल दें.
  • आप कितने दिनों से बीमार हैं? मेडस्टोन से नीता

    हर पांच में से चार लोगों में कोविड-19 फ़्लू की तरह की एक मामूली बीमारी होती है.

    इसके लक्षणों में बुख़ार और सूखी खांसी शामिल है. आप कुछ दिनों से बीमार होते हैं, लेकिन लक्षण दिखने के हफ्ते भर में आप ठीक हो सकते हैं.

    अगर वायरस फ़ेफ़ड़ों में ठीक से बैठ गया तो यह सांस लेने में दिक्कत और निमोनिया पैदा कर सकता है. हर सात में से एक शख्स को अस्पताल में इलाज की जरूरत पड़ सकती है.

End of कोरोना वायरस के बारे में सब कुछ

मेरी स्वास्थ्य स्थितियां

आपके सवाल

  • अस्थमा वाले मरीजों के लिए कोरोना वायरस कितना ख़तरनाक है? फ़ल्किर्क से लेस्ले-एन

    अस्थमा यूके की सलाह है कि आप अपना रोज़ाना का इनहेलर लेते रहें. इससे कोरोना वायरस समेत किसी भी रेस्पिरेटरी वायरस के चलते होने वाले अस्थमा अटैक से आपको बचने में मदद मिलेगी.

    अगर आपको अपने अस्थमा के बढ़ने का डर है तो अपने साथ रिलीवर इनहेलर रखें. अगर आपका अस्थमा बिगड़ता है तो आपको कोरोना वायरस होने का ख़तरा है.

  • क्या ऐसे विकलांग लोग जिन्हें दूसरी कोई बीमारी नहीं है, उन्हें कोरोना वायरस होने का डर है? स्टॉकपोर्ट से अबीगेल आयरलैंड

    ह्दय और फ़ेफ़ड़ों की बीमारी या डायबिटीज जैसी पहले से मौजूद बीमारियों से जूझ रहे लोग और उम्रदराज़ लोगों में कोरोना वायरस ज्यादा गंभीर हो सकता है.

    ऐसे विकलांग लोग जो कि किसी दूसरी बीमारी से पीड़ित नहीं हैं और जिनको कोई रेस्पिरेटरी दिक्कत नहीं है, उनके कोरोना वायरस से कोई अतिरिक्त ख़तरा हो, इसके कोई प्रमाण नहीं मिले हैं.

  • जिन्हें निमोनिया रह चुका है क्या उनमें कोरोना वायरस के हल्के लक्षण दिखाई देते हैं? कनाडा के मोंट्रियल से मार्जे

    कम संख्या में कोविड-19 निमोनिया बन सकता है. ऐसा उन लोगों के साथ ज्यादा होता है जिन्हें पहले से फ़ेफ़ड़ों की बीमारी हो.

    लेकिन, चूंकि यह एक नया वायरस है, किसी में भी इसकी इम्युनिटी नहीं है. चाहे उन्हें पहले निमोनिया हो या सार्स जैसा दूसरा कोरोना वायरस रह चुका हो.

    कोरोना वायरस की वजह से वायरल निमोनिया हो सकता है जिसके लिए अस्पताल में इलाज की जरूरत पड़ सकती है.
End of मेरी स्वास्थ्य स्थितियां

अपने आप को और दूसरों को बचाना

आपके सवाल

  • कोरोना वायरस से लड़ने के लिए सरकारें इतने कड़े कदम क्यों उठा रही हैं जबकि फ़्लू इससे कहीं ज्यादा घातक जान पड़ता है? हार्लो से लोरैन स्मिथ

    शहरों को क्वारंटीन करना और लोगों को घरों पर ही रहने के लिए बोलना सख्त कदम लग सकते हैं, लेकिन अगर ऐसा नहीं किया जाएगा तो वायरस पूरी रफ्तार से फैल जाएगा.

    क्वारंटीन उपायों को लागू कराते पुलिस अफ़सर

    फ़्लू की तरह इस नए वायरस की कोई वैक्सीन नहीं है. इस वजह से उम्रदराज़ लोगों और पहले से बीमारियों के शिकार लोगों के लिए यह ज्यादा बड़ा ख़तरा हो सकता है.

  • क्या खुद को और दूसरों को वायरस से बचाने के लिए मुझे मास्क पहनना चाहिए? मैनचेस्टर से एन हार्डमैन

    पूरी दुनिया में सरकारें मास्क पहनने की सलाह में लगातार संशोधन कर रही हैं. लेकिन, डब्ल्यूएचओ ऐसे लोगों को मास्क पहनने की सलाह दे रहा है जिन्हें कोरोना वायरस के लक्षण (लगातार तेज तापमान, कफ़ या छींकें आना) दिख रहे हैं या जो कोविड-19 के कनफ़र्म या संदिग्ध लोगों की देखभाल कर रहे हैं.

    मास्क से आप खुद को और दूसरों को संक्रमण से बचाते हैं, लेकिन ऐसा तभी होगा जब इन्हें सही तरीके से इस्तेमाल किया जाए और इन्हें अपने हाथ बार-बार धोने और घर के बाहर कम से कम निकलने जैसे अन्य उपायों के साथ इस्तेमाल किया जाए.

    फ़ेस मास्क पहनने की सलाह को लेकर अलग-अलग चिंताएं हैं. कुछ देश यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि उनके यहां स्वास्थकर्मियों के लिए इनकी कमी न पड़ जाए, जबकि दूसरे देशों की चिंता यह है कि मास्क पहने से लोगों में अपने सुरक्षित होने की झूठी तसल्ली न पैदा हो जाए. अगर आप मास्क पहन रहे हैं तो आपके अपने चेहरे को छूने के आसार भी बढ़ जाते हैं.

    यह सुनिश्चित कीजिए कि आप अपने इलाके में अनिवार्य नियमों से वाकिफ़ हों. जैसे कि कुछ जगहों पर अगर आप घर से बाहर जाे रहे हैं तो आपको मास्क पहनना जरूरी है. भारत, अर्जेंटीना, चीन, इटली और मोरक्को जैसे देशों के कई हिस्सों में यह अनिवार्य है.

  • अगर मैं ऐसे शख्स के साथ रह रहा हूं जो सेल्फ-आइसोलेशन में है तो मुझे क्या करना चाहिए? लंदन से ग्राहम राइट

    अगर आप किसी ऐसे शख्स के साथ रह रहे हैं जो कि सेल्फ-आइसोलेशन में है तो आपको उससे न्यूनतम संपर्क रखना चाहिए और अगर मुमकिन हो तो एक कमरे में साथ न रहें.

    सेल्फ-आइसोलेशन में रह रहे शख्स को एक हवादार कमरे में रहना चाहिए जिसमें एक खिड़की हो जिसे खोला जा सके. ऐसे शख्स को घर के दूसरे लोगों से दूर रहना चाहिए.

End of अपने आप को और दूसरों को बचाना

मैं और मेरा परिवार

आपके सवाल

  • मैं पांच महीने की गर्भवती महिला हूं. अगर मैं संक्रमित हो जाती हूं तो मेरे बच्चे पर इसका क्या असर होगा? बीबीसी वेबसाइट के एक पाठक का सवाल

    गर्भवती महिलाओं पर कोविड-19 के असर को समझने के लिए वैज्ञानिक रिसर्च कर रहे हैं, लेकिन अभी बारे में बेहद सीमित जानकारी मौजूद है.

    यह नहीं पता कि वायरस से संक्रमित कोई गर्भवती महिला प्रेग्नेंसी या डिलीवरी के दौरान इसे अपने भ्रूण या बच्चे को पास कर सकती है. लेकिन अभी तक यह वायरस एमनियोटिक फ्लूइड या ब्रेस्टमिल्क में नहीं पाया गया है.

    गर्भवती महिलाओंं के बारे में अभी ऐसा कोई सुबूत नहीं है कि वे आम लोगों के मुकाबले गंभीर रूप से बीमार होने के ज्यादा जोखिम में हैं. हालांकि, अपने शरीर और इम्यून सिस्टम में बदलाव होने के चलते गर्भवती महिलाएं कुछ रेस्पिरेटरी इंफेक्शंस से बुरी तरह से प्रभावित हो सकती हैं.

  • मैं अपने पांच महीने के बच्चे को ब्रेस्टफीड कराती हूं. अगर मैं कोरोना से संक्रमित हो जाती हूं तो मुझे क्या करना चाहिए? मीव मैकगोल्डरिक

    अपने ब्रेस्ट मिल्क के जरिए माएं अपने बच्चों को संक्रमण से बचाव मुहैया करा सकती हैं.

    अगर आपका शरीर संक्रमण से लड़ने के लिए एंटीबॉडीज़ पैदा कर रहा है तो इन्हें ब्रेस्टफीडिंग के दौरान पास किया जा सकता है.

    ब्रेस्टफीड कराने वाली माओं को भी जोखिम से बचने के लिए दूसरों की तरह से ही सलाह का पालन करना चाहिए. अपने चेहरे को छींकते या खांसते वक्त ढक लें. इस्तेमाल किए गए टिश्यू को फेंक दें और हाथों को बार-बार धोएं. अपनी आंखों, नाक या चेहरे को बिना धोए हाथों से न छुएं.

  • बच्चों के लिए क्या जोखिम है? लंदन से लुइस

    चीन और दूसरे देशों के आंकड़ों के मुताबिक, आमतौर पर बच्चे कोरोना वायरस से अपेक्षाकृत अप्रभावित दिखे हैं.

    ऐसा शायद इस वजह है क्योंकि वे संक्रमण से लड़ने की ताकत रखते हैं या उनमें कोई लक्षण नहीं दिखते हैं या उनमें सर्दी जैसे मामूली लक्षण दिखते हैं.

    हालांकि, पहले से अस्थमा जैसी फ़ेफ़ड़ों की बीमारी से जूझ रहे बच्चों को ज्यादा सतर्क रहना चाहिए.

End of मैं और मेरा परिवार

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)