कोरोना वायरस: यूरोप में इन देशों के लोग आ सकेंगे लेकिन अमरीकियों को नहीं इजाज़त

  • 28 जून 2020
इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption पर्यटन पर निर्भर ग्रीस ने धमकी दी है कि वो ग़ैर-यूरोपीय नागरिकों के आने को लेकर 'एकतरफ़ा' कार्रवाई कर सकता है.

यूरोपीय संघ के कई सदस्यों ने देश में कौन लोग आ सकते हैं और कौन नहीं, इसको लेकर 'सुरक्षित' ग़ैर-यूरोपीय देशों की एक सूची जारी की है.

इस सूची में शामिल देशों के लोग एक जुलाई से यूरोपीय संघ और शेंगन इलाक़े में आ सकेंगे.

इस सूची में अमरीका को जगह नहीं दी गई है जबकि ऑस्ट्रेलिया और कनाडा के लोग यूरोप के इन देशों में आ सकेंगे.

चीन के लोगों को उस शर्त में आने की अनुमति दी जाएगी अगर वो भी अपने लोगों को यूरोपीय संघ में आने की अनुमति देता है.

ब्रिटेन के लोगों को आने की इजाज़त होगी या नहीं, इस बारे में यूरोपीय संघ अलग से घोषणा करेगा.

अंतिम फ़ैसला देश का होगा

यूरोपीय संघ में आने के लिए जिन ग़ैर-यूरोपीय देशों की सूची बनाई गई है, उसके तहत उन देशों की संक्रमण दर, कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग प्रोग्राम और स्वास्थ्य डाटा को देखा गया है.

हालांकि, 'सुरक्षित' सूची में शामिल इन देशों को सभी मापदंड पूरे नहीं करने थे. इस सूची को केवल एक सलाह के तौर पर जारी किया गया है.

ऐसा इसलिए किया गया है क्योंकि कोविड-19 महामारी के दौर में सीमा के नियंत्रण का फ़ैसला सभी देशों का अपना है. लेकिन जर्मनी का मानना है कि यूरोपीय संघ को इस महामारी में मिलकर काम करने की ज़रूरत है.

इमेज कॉपीरइट EPA/DAVID BORRAT

ग़ौरतलब है कि एक जुलाई से जर्मनी यूरोपीय संघ की अध्यक्षता संभालने जा रहा है. अब तक ये सूची एक एडवायज़री के तौर पर ही जारी की गई है.

यूरोपीय संघ का कोई भी देश इस सूची में शामिल देशों के लोगों को अपने यहां आने देने के लिए बाध्य नहीं है लेकिन उनसे यह भी उम्मीद है कि वो अपने देश में उन देश के लोगों को आने की अनुमति नहीं देंगे जो इस सूची में नहीं हैं.

इस सूची को एक जुलाई से पहले प्रकाशित किया जाएगा और उसके बाद यह लगातार अपडेट होती रहेगी.

पूरी दुनिया में इस समय कोरोना वायरस संक्रमित मरीज़ों की संख्या 1 करोड़ पार कर गई है. इसमें से सबसे अधिक संक्रमित मरीज़ अमरीका में हैं.

अमरीका में इस समय 25 लाख से अधिक संक्रमण के मामले हैं जबकि वहां 1.25 लाख से अधिक लोगों की मौत हुई है.

पूरी दुनिया में कोविड-19 बीमारी के कारण तक़रीबन 5 लाख लोगों की मौत हो चुकी है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार