कश्मीर के विशेष दर्जे को ख़त्म करने के एक साल बाद मोदी पर क्या बोले इमरान: पाक उर्दू प्रेस रिव्यू

  • इक़बाल अहमद
  • बीबीसी संवाददाता
इमरान ख़ान

इमेज स्रोत, REUTERS/SAIYNA BASHIR/FILE PHOTO

पाकिस्तान से छपने वाले उर्दू अख़बारों में इस हफ़्ते कोरोना के अलावा भारत प्रशासित कश्मीर से जुड़ी ख़बरें सुर्ख़ियों में थीं.

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान ख़ान ने कहा है कि भारत प्रशासित कश्मीर आज़ाद होकर रहेगा.

अख़बार जंग के अनुसार इमरान ख़ान ने पाकिस्तान प्रशासित कश्मीर की एसेम्बली को संबोधित करते हुए कहा, "कश्मीर के विशेष दर्जे को ख़त्म करके मोदी फँस चुके हैं. कश्मीर आज़ाद होकर रहेगा. भारत समझता था कि वो एक बड़ा बाज़ार है इसलिए दुनिया ख़ामोश बैठी रहेगी. लेकिन हमने कश्मीर का मसला अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भरपूर तरीक़े से उठाया जिसके कारण भारत अपने मंसूबे में कामयाब नहीं हो सका."

पाँच अगस्त 2019 को नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार ने भारतीय संविधान की धारा 370 के तहत कश्मीर को मिलने वाले विशेष राज्य के दर्जे को ख़त्म कर दिया था और जम्मू-कश्मीर राज्य को विभाजित कर दो केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर और लद्दाख बना दिया था.

भारत सरकार के इस फ़ैसले के एक साल पूरा होने पर पाकिस्तान ने भारतीय कश्मीर में रहने वाले लोगों के समर्थन में कई तरह के प्रोग्राम आयोजित किए. इमरान ख़ान ने पाक-प्रशासित कश्मीर की एसेम्बली को संबोधित करने से पहले राजधानी मुज़फ़्फ़राबाद में एक रैली का नेतृत्व किया.

भारत प्रशासित कश्मीर में रह रहे लोगों से समर्थन जताने के लिए पाकिस्तान ने पाँच अगस्त को 'कश्मीर शोषण दिवस' मनाया.

पाँच अगस्त को सुबह 10 बजे पूरे पाकिस्तान में सायरन बजा और एक मिनट का मौन रखा गया. उसके बाद पाकिस्तान के राष्ट्रपति आरिफ़ अलवी ने एक मार्च की अगुवाई की.

पाँच अगस्त से कश्मीर हाईवे का नाम भी श्रीनगर हाईवे कर दिया गया.

इमेज स्रोत, Getty Images

छोड़कर पॉडकास्ट आगे बढ़ें
पॉडकास्ट
दिन भर

वो राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय ख़बरें जो दिनभर सुर्खियां बनीं.

ड्रामा क्वीन

समाप्त

उधर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की विशेष बैठक में भारत प्रशासित कश्मीर की स्थिति पर चिंता व्यक्त की गई. अख़बार एक्सप्रेस के अनुसार पाकिस्तान ने भारत प्रशासित कश्मीर के मुद्दे पर सुरक्षा परिषद की बैठक की माँग की थी, जिसका चीन ने समर्थन किया था. इस मौक़े पर चीन ने कहा कि पिछले साल भारत ने भारतीय कश्मीर का विशेष दर्जा ख़त्म किया जो कि ग़ैर-क़ानूनी था और इससे क्षेत्र में तनाव बढ़ा है और एक साल के बाद भी तनाव कम नहीं हुआ है.

पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद क़ुरैशी ने अमरीकी विदेश मंत्री माइक पॉम्पियो से फ़ोन पर बातचीत की है.

अख़बार नवा-ए-वक़्त के अनुसार पाकिस्तानी विदेश मंत्री ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में कश्मीर पर हुई बैठक में शामिल होने के लिए अमरीकी विदेश मंत्री का शुक्रिया अदा किया.

पाकिस्तानी विदेश मंत्री ने कहा कि, "हमें पूरी उम्मीद है कि कश्मीरियों पर हो रहे ज़ुल्म की तरफ़ अंतरराष्ट्रीय बिरादरी की तवज्जो से कश्मीर मसले का हल संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्तावों और कश्मीरियों की इच्छा के अनुरूप हल करने में मदद मिलेगी."

क़ुरैशीन ने कहा, "भारत के ज़ोरदार विरोध के बावजूद पाँच दशकों के बाद सुरक्षा परिषद में कश्मीर मसले का तीसरी बार बहस होना हमारी अहम कूटनीतिक जीत है."

मलेशिया के पूर्व प्रधानमंत्री का मिला साथ

उधर मलेशिया के पूर्व प्रधानमंत्री महातिर मोहम्मद ने कहा है कि कश्मीर पर स्टैंड लेने के कारण अगर भारत से संबंध प्रभावित होते हैं तो ये कोई बड़ी क़ीमत नहीं होगी.

अख़बार एक्सप्रेस के अनुसार क्वालालम्पूर में भारत प्रशासित कश्मीर के लोगों के समर्थन में आयोजित एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए महातिर मोहम्मद ने कहा, "हमें इंसानियत के लिए खड़ा होना होगा. मुझे मालूम है मेरे बयान की क्या प्रतिक्रिया होगी लेकिन फिर भी ख़ामोश रहने का सवाल ही पैदा नहीं होता है."

इस मौक़े पर उन्होंने कहा कि पिछले साल सितंबर में सुरक्षा परिषद में उनके बयान के कारण मलेशिया से भारत आने वाले पाम तेल का कारोबार प्रभावित हुआ, जिसका उन्हें अफ़सोस है लेकिन "मैं नहीं समझता कि इतनी खुली नाइंसाफ़ी के ख़िलाफ़ आवाज़ उठाने की ये कोई ज़्यादा क़ीमत है."

इमरान ख़ान ने एक ट्वीट कर महातिर मोहम्मद का शुक्रिया अदा किया.

लेकिन विपक्षी पार्टी मुस्लिम लीग( नवाज़ गुट) के अध्यक्ष शहबाज़ शरीफ़ ने इमरान ख़ान पर हमला करते हुए कहा, "कश्मीर जादू-टोने या लंबी-लंबी छोड़ने से आज़ाद नहीं होगा."

पाकिस्तान प्रशासित कश्मीर की एसेम्बली को संबोधित करते हुए शहबाज़ शरीफ़ ने कहा कि इस पूरे क्षेत्र में शांति तभी बहाल होगी जब कश्मीरियों को उनका हक़ मिलेगा.

शहबाज़ शरीफ़ का कहना था, "हमारा जीना मरना कश्मीरियों के साथ है. भारत ने पाँच अगस्त को ग़ैर-क़ानूनी क़दम उठाकर दुनिया को चुनौती दी है. लेकिन जिस तरह पाकिस्तान परमाणु शक्ति बना उसी तरह कश्मीर भी पाकिस्तान बनेगा. क़ुर्बानी के बग़ैर कुछ हासिल नहीं हो सकता. भारत प्रशासित कश्मीर को नक़्शे में शामिल करने के बाद अब उस पर अमल करने की ज़रूरत है."

इमेज स्रोत, Paolo Miranda

अख़बार दुनिया के अनुसार पाकिस्तान में ईद उल-अज़हा त्यौहार के बाद कोरोना संक्रमण के मामले में मामूली बढ़ोत्तरी देखी गई लेकिन पूरे देश में कोरोना वायरस से संक्रमण नियंत्रण में है.

अख़बार के अनुसार पाकिस्तान में अब एक्टिव कोरोना संक्रमित लोगों की तादाद सिर्फ़ 18,494 रह गई है और सिर्फ़ 163 मरीज़ वेंटिलेटर पर हैं.

पाकिस्तान में अब तक 6052 लोग कोरोना से मारे जा चुक हैं.

लेकिन केंद्रीय योजना मंत्री असद उमर ने कहा है कि पाकिस्तानी स्वतंत्रता दिवस (14 अगस्ट) और मोहर्रम के दौरान बहुत एहितायत बरतने की ज़रूरत है.

अख़बार दुनिया के अनुसार केंद्रीय मंत्री ने कहा कि कोरोना का ख़तरा अभी मौजूद हैं और गाइडलाइन पर अगर सख़्ती से पालन नहीं किया गया तो दोबारा तेज़ी से फैल सकता है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)