पाकिस्तानः बच्चों के साथ रास्ते में फँसी महिला से गैंगरेप पर आक्रोश

सांकेतिक तस्वीर

पाकिस्तान में देर रात अपने बच्चों के साथ रास्ते में फँसी एक महिला के साथ कुछ लुटेरों ने सामूहिक बलात्कार किया. पुलिस ने इस मामले में 12 लोगों को हिरासत में लिया है.

सोमवार-मंगलवार की रात हुई इस घटना को लेकर बुधवार को पाकिस्तान में मीडिया और सोशल मीडिया में महिलाओं के साथ होने वाले यौन अपराधों को लेकर भारी आक्रोश दिखाई दिया और पुलिस की काफ़ी आलोचना हुई.

घटना के एक दिन पहले ही पंजाब प्रांत के पुलिस प्रमुख बने आईजी ईनाम ग़नी ने कहा कि जाँच के बाद अभी तक 12 संदिग्ध लोगों को गिरफ़्तार किया गया है.

उन्होंने बीबीसी को बताया कि 20 टीमें इस मामले को देख रही हैं और उन्होंने जियोफ़ेंसिंग का इस्तेमाल कर संदिग्ध अपराधियों के गाँव की पहचान कर ली है.

पुलिस सूत्रों के अनुसार अपराधियों ने कार का शीशा तोड़ा और तब उनके ख़ून के कुछ छींटे कार के दरवाज़े पर लग गए जिसके सहारे संदिग्ध लोगों का डीएनए टेस्ट किया जा रहा है.

इमेज स्रोत, Twitter@Shabazgill

मदद का इंतज़ार कर रही थी महिला

बलात्कार की शिकार महिला के रिश्तेदार की ओर से दर्ज करवाई गई एफ़आईआर के अनुसार महिला अपने बच्चों के साथ ख़ुद कार चलाकर लाहौर से गुजरांवाला जा रही थी.

लाहौर-सियालकोट मोटरवे पर एक टोल प्लाज़ा पार करते ही गाड़ी या तो पेट्रोल ख़त्म होने या किसी और वजह से रुक गई.

इसके बाद उन्होंने अपने एक संबंधी को फ़ोन किया जिन्होंने उनसे पुलिस हेल्पलाइन पर फ़ोन करने के लिए कहा और वो ख़ुद भी मदद के लिए निकल पड़े.

वो वहाँ इंतज़ार कर रही थीं तभी दो लुटेरे आए जिन्होंने कार का शीशा तोड़ा और फिर पिस्तौल दिखाकर उन्हें उनके बच्चों के साथ पास के एक खेत में ले गए जहाँ महिला के साथ गैंग-रेप किया गया.

लुटेरों ने उनके पैसे, गहने और अन्य सामान भी छीन लिए.

शिकायतकर्ता ने बताया कि जब वो घटनास्थल पर पहुँचा तो कार की खिड़की का शीशा टूटा था और उसपर खून के छींटे लगे थे. उसने थोड़ी देर बाद महिला और बच्चों को पास के जंगल से आते देखा.

इमेज स्रोत, Reuters

इमेज कैप्शन,

प्रतीकात्मक तस्वीर

पूरे पाकिस्तान में आक्रोश

पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ़ की बेटी मरियम नवाज़ ने घटना पर ट्वीट करते हुए लिखा है, "मोटरवे पर गैंगरेप की इस घटना से मेरा दिल रो रहा है. इस बर्बर अपराध में लिप्त सभी लोगों को सज़ा मिलनी चाहिए और इसकी एक नज़ीर बननी चाहिए. ये मामूली बात नहीं है. याद रखें, सामाजिक मूल्यों में गिरावट और दमन के ख़िलाफ़ लड़ना हम सब की ज़िम्मेदारी है."

ट्विटर पर एक और यूज़र सोहा ने लिखा है, "पाकिस्तान में एक-के-बाद-एक दो घटनाएँ. पहले कराची में 5 साल की बच्ची के साथ बलात्कार के बाद उसे जला दिया गया और अब लाहौर में मोटरवे पर उसके बच्चों के सामने महिला का गैंगरेप किया गया."

वहीं राडा नाम की एक यूज़र ने लिखा, ''इंसानियत के लिए एक ख़ौफ़नाक दिन. भारत में 86 साल की दादी के साथ रेप और भारत में 5 साल की बच्ची का बलात्कार और हत्या. मुझे डर लगता है और ग़ुस्सा आता है. क्या ये महिला होने की कीमत है?"

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)