साल 2020 की वो तस्वीरें जिसने दुनिया को किया हैरान

पेश हैं इस साल की कुछ बेहतरीन तस्वीरें जिन्हें दुनिया भर की न्यूज़ एजेंसियों के फ़ोटोग्राफ़रों ने खींचा है.

ब्रशटेल पोसम
इमेज कैप्शन,

एक ब्रशटेल पोसम (ऑस्ट्रेलियाई जीव) के पंजे की जाँच करता एक वॉलेंटियर. यह तस्वीर ऑस्ट्रेलिया के मेरिम्बुला में खींची गई. जुलाई 2019 से मार्च 2020 के बीच ऑस्ट्रेलिया के जंगलों में आग लगी रही थी. इसकी वजह से ऑस्ट्रेलिया का लाखों हेक्टेयर जंगल तबाह हो गया और लगभग तीन अरब जानवरों को विस्थापित होने के लिए मजबूर होना पड़ा.

इमेज कैप्शन,

न्यूयॉर्क की आपराधिक अदालत में पहुँचते फ़िल्म निर्माता हार्वे वाइंस्टाइन. उनपर यौन शोषण और रेप जैसे गंभीर आरोप लगे हैं. एक समय था, जब हार्वे वाइंस्टाइन हॉलीवुड के सबसे शक्तिशाली और चर्चित फ़िल्म निर्माता के तौर पर जाने जाते थे. लेकिन अदालत ने उन्हें दोषी पाया और उन्हें 23 साल जेल की सज़ा दी गई.

इमेज कैप्शन,

तस्वीर इटली की है. फ़रवरी 2020 में यह तस्वीर खींची गई, जिसमें आप इतालवी एल्पाइन रेस्क्यू सर्विस के सदस्यों को जमे हुए माल्गा वॉटरफ़ॉल पर चढ़ने की कोशिश करते देख सकते हैं.

इमेज कैप्शन,

चीन के वुहान शहर में कोविड-19 के मरीज़ों की निगरानी करते स्वास्थ्यकर्मी. यह तस्वीर भी फ़रवरी 2020 की है. माना जाता है कि चीन के वुहान शहर में स्थित एक माँस बाज़ार से ही कोरोना संक्रमण की शुरुआत हुई थी, जिसके बाद यह संक्रमण एक महामारी के रूप में पूरे विश्व में फैल गया.

इमेज कैप्शन,

बेल्जियम में कोरोना वायरस महामारी के दौरान ड्यूटी से ब्रेक लेकर थोड़ा आराम करती एक नर्स.

इमेज कैप्शन,

इंडोनेशिया के जकार्ता शहर में कोरोना संक्रमण से मरे एक व्यक्ति के लिए ताबूत लेकर आते कुछ लोग. अप्रैल के अंत में, जॉन्स हॉप्किंस यूनिवर्सिटी ने अपनी रिपोर्ट में कोविड-19 के कारण दो लाख से ज़्यादा लोगों के गुज़रने की बात कही थी.

इमेज कैप्शन,

एक माँ और बेटी, एक-दूसरे को गले लगाकर मिलती हुईं. कोविड से जुड़े प्रतिबंधों के कारण प्लास्टिक की ऐसी पारदर्शी चादरों का इस्तेमाल इस साल काफ़ी हुआ. यह तस्वीर अमेरिका के न्यूयॉर्क शहर की है. लेकिन दुनिया के तमाम देशों ने कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए देशव्यापी लॉकडाउन लगाया और सोशल डिस्टेन्सिंग के नियम बनाये.

इमेज कैप्शन,

कीनिया में टिड्डी दल को खदेड़ता एक शख़्स. इस साल टिड्डी दल ने ना सिर्फ़ पूर्वी अफ़्रीका में, बल्कि दक्षिण एशियाई देशों में भी अपनी मौजूदगी से किसानों को परेशान किया. टिड्डी दल के आने से फसल का काफ़ी नुक़सान होता है.

इमेज कैप्शन,

घुटने पर बैठकर, जॉर्ज फ़्लॉय्ड की प्रतिमा को श्रद्धांजलि देता एक युवक. यह तस्वीर अमेरिका के ह्यूस्टन शहर की है. अमेरिका के एक गोरे पुलिसवाले ने जॉर्ज की गर्दन पर तब तक अपना घुटना जमाये रखा था, जब तक उनकी साँस नहीं रुक गई. रिपोर्टों के अनुसार, मौत से पहले क़रीब नौ मिनट तक जॉर्ज उस पुलिस वाले से उन्हें छोड़ने की गुज़ारिश करते रहे थे. जॉर्ज की मौत के बाद पूरे अमेरिका में बड़े स्तर के प्रदर्शन हुए थे.

इमेज कैप्शन,

लेबनान की फ़ौज का एक सदस्य बेरूत धमाके में तबाह हुए गोदाम के बाहर गश्त करता हुआ. बेरूत के एक गोदाम में तीन हज़ार टन से अधिक अमोनियम नाइट्रेट था जो इस साल एक बड़े धमाके की वजह बना. 4 अगस्त को हुए इस धमाके में 200 से ज़्यादा लोगों की मौत हो गई थी और पाँच हज़ार से ज़्यादा लोग घायल हुए थे.

इमेज कैप्शन,

सितंबर में, जंगल की आग का धुआँ सेन फ़्रांसिस्को के आकाश पर छा गया था. कैलिफ़ोर्निया राज्य में हज़ारों एकड़ जंगल इस साल आग की वजह से तबाह हो गया. जंगल में लगी आग की वजह से कम से कम आठ लोगों की मौत भी हुई.

इमेज कैप्शन,

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का चुनाव अभियान इस साल काफ़ी चर्चित रहा. यह तस्वीर फ़्लोरिडा में हुई उनकी एक चुनावी-सभा का है. चुनाव से क़रीब एक महीना पहले डोनाल्ड ट्रंप ने घोषणा की थी कि वो और उनकी पत्नी मेलानिया ट्रंप कोरोना संक्रमित पाये गए हैं.

इमेज कैप्शन,

क्लास में जाने से पहले बुख़ार की जाँच करवातीं पेशावर (पाकिस्तान) की छात्राएं. लॉकडाउन समाप्त होने के कुछ दिन बाद पाकिस्तान सरकार ने यह निर्देश दिये थे कि स्कूलों को कुछ सावधानियों के साथ दोबारा खोला जा सकता है.

इमेज कैप्शन,

दक्षिण कोरिया के हनाम में स्थित घास के एक मैदान में सेल्फ़ी लेतीं लड़कियाँ. अक्तूबर के महीने में ये मैदान गुलाबी घास से भर जाते हैं.

इमेज कैप्शन,

डेमोक्रेटिक पार्टी के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार जो बाइडन कुछ इस तरह हैरान हुए, जब 2020 के राष्ट्रपति चुनाव में उन्हें स्पष्ट बहुमत से भी काफ़ी ज़्यादा सीटें मिलीं. यह तस्वीर विलमिंगटन में हुई एक सभा से पहले की है. डेमोक्रेटिक पार्टी को इस चुनाव में 306 इलेक्टोरल कॉलेज वोट्स मिले.

इमेज कैप्शन,

फ़िलीपींस में इस साल आये तूफ़ान वामको के बाद अपने घर की सफ़ाई करता एक शख़्स. नवंबर में आया यह तूफ़ान इस साल फ़िलीपींस में आया 21वाँ तूफ़ान था. इन तूफ़ानों में दर्जनों लोगों की जान गई.

इमेज कैप्शन,

मैक्सिको शहर में एक पुलिसकर्मी के हेलमेट को रंग लगाती एक प्रदर्शनकारी महिला. इस प्रदर्शन में महिलाओं ने लिंग-आधारित हिंसा के ख़िलाफ़ आवाज़ उठायी थी.

इमेज कैप्शन,

इथियोपिया के टिग्रे क्षेत्र के शरणार्थी सूडान के शिविरों में भेजे जाने का इंतज़ार करते हुए. 4 नवंबर से लेकर अब तक, इथियोपियाई सरकार और टिग्रे पीपल्स लिब्रेशन फ़्रंट के बीच जारी टकराव के कारण सैकड़ों लोग मारे जा चुके हैं और पचास हज़ार से ज़्यादा लोग जान बचाने के लिए सूडान भाग गये हैं.

सभी तस्वीरें कॉपीराइट के अधीन हैं.