चीन में जासूसी के लिए टेस्ला कारों के इस्तेमाल के आरोप पर क्या बोले एलन मस्क

टेस्ला

इमेज स्रोत, EPA

अमेरिका की इलेक्ट्रिक कार निर्माता कंपनी टेस्ला के सीईओ एलन मस्क ने कहा है कि 'अगर उनकी गाड़ियों का इस्तेमाल चीन में जासूसी करने के लिए किया जाता है, तो वे अपनी कंपनी बंद कर देंगे.'

एलन मस्क ने ये बयान उन रिपोर्टों के जवाब में दिया है, जिनमें कहा गया था कि 'चीन की सेना ने अपने बेड़े में टेस्ला कारों के इस्तेमाल पर प्रतिबंध लगा दिया है.'

चीन की सेना ने सुरक्षा को लेकर यह चिंता ज़ाहिर की थी कि 'टेस्ला कारों में लगे कैमरे कहीं चोरी से डेटा एकत्र तो नहीं करने लगेंगे.'

इलेक्ट्रिक कार निर्माता कंपनी टेस्ला के लिए अमेरिका के बाद चीन ही सबसे बड़ा बाज़ार है.

चीन में टेस्ला को लेकर शुरू हुई इस तरह की चर्चा पर टिप्पणी करने के लिए एलन मस्क को मजबूर होना पड़ा.

इमेज स्रोत, Reuters

अमेरिकी कंपनियों की उपस्थिति

उन्होंने कहा, "व्यापार करते समय, अगर कोई कंपनी विदेशी ज़मीन पर जासूसी जैसे काम में संलिप्त पायी जाती है, तो कंपनी के लिए इसके नकारात्मक प्रभाव बेहद ख़राब होंगे."

चीनी व्यापारियों के एक कार्यक्रम में बोलते हुए एलन मस्क ने ये बात कही.

उन्होंने कहा, "जानकारियों को हम जितना सहेजकर रख पायेंगे, उसका फ़ायदा हमें ही मिलेगा. और अगर हमारी कारें चीन या किसी अन्य देश में जासूसी करते पायी गईं, तो हमें कंपनी को बंद करना होगा."

लंबे समय से चीन में काम कर रहीं बड़ी अमेरिकी कंपनियों की उपस्थिति को लेकर खींचतान जारी है.

इमेज स्रोत, Reuters

सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाएं

छोड़कर पॉडकास्ट आगे बढ़ें
पॉडकास्ट
बात सरहद पार

दो देश,दो शख़्सियतें और ढेर सारी बातें. आज़ादी और बँटवारे के 75 साल. सीमा पार संवाद.

बात सरहद पार

समाप्त

चीन और अमेरिका, दुनिया की दो सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाएं हैं और मौजूदा समय में दोनों देशों के संबंध अब तक की सबसे तनावपूर्ण परिस्थिति में हैं.

इसी सप्ताह, दोनों देशों के वरिष्ठ अधिकारियों के बीच एक उच्च स्तरीय वार्ता हुई थी, जिसमें दोनों पक्षों के बीच काफ़ी नोकझोंक हुई. जो बाइडन के राष्ट्रपति बनने के बाद, अमेरिका और चीन के बीच यह पहली उच्च स्तरीय वार्ता थी.

एलन मस्क ने बेहतर व्यापारिक परिस्थितियों के लिए 'दोनों देशों के बीच अधिक पारस्परिक विश्वास पैदा करने का आग्रह' किया.

टेस्ला एक अमेरिकी कंपनी है जिसका मुख्यालय केलिफ़ॉर्निया में है.

पिछले साल, पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने चीनी कंपनी टिक-टॉक को बैन करने की धमकी दी थी. उन्होंने भी सुरक्षा को लेकर चिंता जताई थी. उनकी दलील थी कि कंपनी अमेरिकी नागरिकों का डेटा चीन की सरकार को दे रही है.

इमेज स्रोत, Reuters

मस्क ने अपने बयान के अंत में कहा, "अगर जासूसी की भी जायेगी, तो उससे दूसरा देश क्या सीख पायेगा और क्या यह वास्तव में मायने रखता है?"

एलन मस्क को साल 2018 में चीन के शंघाई शहर में एक कारखाना लगाने की अनुमति मिली थी. वे पहले विदेशी वाहन निर्माता हैं जिन्हें चीन में पूर्ण स्वामित्व वाले संयंत्र (कारखाने) को चलाने का अधिकार मिला.

चीन इस वक़्त दुनिया का सबसे बड़ा कार बाज़ार है और चीन की सरकार इलेक्ट्रिक वाहनों को अपनाने के प्रचार में भारी ख़र्च कर रही है जिससे टेस्ला जैसी कंपनियों का काफ़ी फ़ायदा हुआ है.

आंकड़ों के अनुसार, साल 2020 में टेस्ला को 721 मिलियन डॉलर का लाभ हुआ था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)