म्यांमार में प्रदर्शनकारियों की मौत के बाद आर्मी जनरलों ने की पार्टी

म्यांमार

इमेज स्रोत, Reuters

म्यांमार में शनिवार को 'आर्म्ड फोर्सेज़ डे' के मौके पर सेना की चेतावनी के बावजूद सड़कों पर उतरे प्रदर्शनकारियों में 90 से अधिक लोग गोलियां लगने की वजह से मारे गए, लेकिन इसके बावजूद सैन्य प्रमुख मिन आंग लाइंग और उनके जनरलों ने रात में भव्य पार्टी की.

इमेज स्रोत, TWITTER

कुछ ख़बरों में कहा गया है कि रविवार सुबह जब मृतकों का अंतिम संस्कार किया जा रहा था, सेना ने उसमें दख़ल देने की कोशिश की.

इमेज स्रोत, Reuters

शनिवार को सेना के दमन के बावजूद रविवार को विरोध-प्रदर्शनों का सिलसिला थमा नहीं है.

इमेज स्रोत, EPA

म्यांमार में इस साल फरवरी में सैन्य तख़्तापलट के बाद शनिवार 27 मार्च का दिन प्रदर्शनकारियों के लिए सबसे अधिक हिंसक साबित हुआ. फरवरी से अब तक प्रदर्शन के दौरान 400 से अधिक लोग मारे जा चुके हैं.

इमेज स्रोत, EPA

रविवार को कई देशों के रक्षा प्रमुखों ने एक संयुक्त बयान जारी करके म्यांमार की हिंसक सैन्य कार्रवाई की भर्त्सना की है.

इस बयान में कहा गया है कि "कोई भी पेशेवर फौज आचरण के मामले में अतंरराष्ट्रीय मानकों का पालन करती है और उसकी ज़िम्मेदारी अपने देश के लोगों को नुकसान पहुंचाने की नहीं बल्कि बचाने की होती है."

इमेज स्रोत, Getty Images

इमेज कैप्शन,

सैन्य प्रमुख मिन आंग लाइंग

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटरेश ने कहा है कि म्यांमार में हुई हिंसा से उन्हें 'गहरा सदमा' लगा है.

ब्रिटेन के विदेश मंत्री डोमिनिक राब ने इसे 'गिरावट का नया स्तर' बताया है.

संयुक्त राष्ट्र के विशेष दूत टॉम एंड्रूस ने इस सिलसिले में एक अंतराष्ट्रीय आपात सम्मेलन बुलाने की मांग की है.

म्यांमार की आलोचना करने वाले देशों में अमेरिका, जापान और ऑस्ट्रेलिया शामिल हैं, लेकिन चीन और रूस म्यांमार की आलोचना में शामिल नहीं हुए हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)