प्रिंसेज़ लतीफ़ा: महीनों से ग़ायब दुबई की राजकुमारी की तस्वीर आई सामने

बीच की महिला कथित तौर पर प्रिंसेस लतीफ़ा हैं

इमेज स्रोत, Instagram

इमेज कैप्शन,

इस तस्वीर के बीच की महिला कथित तौर पर प्रिंसेज़ लतीफ़ा हैं

इस सप्ताह दो इंस्टाग्राम अकाउंट पर पोस्ट की गई तस्वीरों में कथित तौर पर दुबई के शाह की बेटी प्रिंसेज़ लतीफ़ा को देखा गया है. बीते कई महीनों से प्रिंसेज़ लतीफ़ा को न तो देखा गया है और न ही उनके बारे में कोई जानकरी मिली है.

इस साल फरवरी में बीबीसी पैनोरामा ने प्रिंसेज़ लतीफ़ा का एक वीडियो प्रसारित किया था जिसमें उन्होंने कहा था कि उन्हें बंधक बनाकर रखा गया है और उनकी जान को ख़तरा है. ये वीडियो उन्होंने छिपकर बनाया था.

इस सप्ताह सोशल मीडिया पर पोस्ट की गई तस्वीर की सत्यता की बीबीसी पुष्टि नहीं करता और इस बारे में बीबीसी को और जानकारी भी नहीं मिली है.

लेकिन प्रिंसेज़ लतीफ़ा की एक मित्र ने पुष्टि की है कि तस्वीर में दिखने वाली महिला प्रिंसेज़ लतीफ़ा ही हैं.

बीबीसी मानता है कि प्रिंसेज़ लतीफ़ा की इस तस्वीर का सामने आना आकस्मिक या दुर्घटनावश नहीं हुआ है बल्कि इसका नाता अज्ञात घटनाओं से है.

फ्री लतीफ़ा कैंपेन के सह-संस्थापक डेविड हेग ने एक बयान जारी कर कहा है, "हम पुष्टि कर सकते हैं कि इस कैंपेन में कई सकारात्मक और महत्वपूर्ण प्रगति हुई है. अभी इस मुद्दे पर हम टिप्पणी नहीं करना चाहते लेकिन उचित समय आने पर हम बयान जारी करेंगे."

बीबीसी ने लंदन में मौजूद सऊदी अरब अमीरात के दूतावास से संपर्क करने की कोशिश की लेकिन ख़बर लिखे जाने तक उनसे कोई जवाब नहीं मिला है.

संयुक्त राष्ट्र ने इस ताज़ा तस्वीर पर किसी तरह की टिप्पणी देने से इनकार कर दिया है और कहा है कि उसे "प्रिंसेज़ लतीफ़ा के जीवित होने से जुड़े ठोस सबूत" का इंतज़ार है. संयुक्त राष्ट्र का कहना है कि सऊदी अरब अमीरात ने उसे इस बाबत जानकारी देने का वादा किया है.

इमेज स्रोत, Instagram

इमेज कैप्शन,

इंस्टाग्राम पोस्ट

तस्वीर में क्या दिखा?

इस तस्वीर में प्रिंसेज़ लतीफ़ा दुबई के एक शॉपिंग मॉल (मॉल ऑफ़ अमीरात, एमओई) में दो अन्य महिलाओं के साथ बैठी देखी जा सकती हैं.

प्रिंसेज़ लतीफ़ा की दोस्तों ने बीबीसी से कहा कि वो तस्वीर में दिख रही दोनों महिलाओँ को जानती हैं और प्रिंसेज़ लतीफ़ा की भी उनसे जान पहचान है.

ये तस्वीर इंस्टाग्राम पर अपलोड की गई थी, जिस कारण इसका मेटाडेटा नहीं निकाला जा सकता. मेटाडेटा से तस्वीर लेने का सही वक़्त और तारीख़ के साथ-साथ उसकी सही लोकेशन का भी पता चल सकता है.

इस तस्वीर को पलटा गया है (रीवर्स किया गया है). तस्वीर में पीछे "डेमन स्लेयर: मुगेन ट्रेन" नाम की एक फ़िल्म का विज्ञापन है. ये फ़िल्म दुबई में इस साल 13 मई को रिलीज़ हुई थी.

तस्वीर में प्रिंसेज़ लतीफ़ा के साथ बैठी दोनों महिलाओँ के इंस्टाग्राम अकाउंट पर इसी सप्ताह गुरुवार को ये तस्वीर अपलोड की गई थी. इनमें से एक ने तस्वीर के साथ लिखा, "दोस्तों के साथ मॉल एमओई में एक खूबसूरत शाम."

इमेज स्रोत, GETTY IMAGES / PRINCESS LATIFA

इमेज कैप्शन,

प्रिंसेज़ लतीफ़ा और उनके पिता शेख़ मुहम्मद बिन राशिद अल मकतूम

प्रिंसेज़ लतीफ़ा के स्वास्थ्य और तस्वीर के बारे में और जानकारी के लिए बीबीसी ने दोनों महिलाओं से संपर्क करने की कोशिश की लेकिन दोनों ने ही बीबीसी को कोई उत्तर नहीं दिया है.

ह्यूमन राइट्स वॉच एडवोकेसी ग्रूप के केनेथ रॉस ने बीबीसी को बताया, "अगर हम ये मान भी लें कि ये तस्वीर असली है तो इससे इस बात का सबूत तो मिलता है कि प्रिंसेज़ लतीफ़ा जीवित हैं लेकिन इससे उनके बंधक बनाकर रखे जाने या फिर आज़ादी के बारे में कोई जानकारी नहीं मिलती."

शाही परिवार ने भी अब तक इस तस्वीर पर कोई कमेंट नहीं किया है. इस साल फ़रवरी में बीबीसी को बताया गया था कि, "प्रिंसेज़ लतीफ़ा घर पर हैं और उनकी देखभाल की जा रही है."

यूएई ने एक बयान जारी कर कहा था कि, "उनकी सेहत का पूरा ध्यान रखा जा रहा है और उम्मीद है कि वो जल्द ही अपने सार्वजनिक जीवन में वापसी करेंगी."

इमेज स्रोत, PRINCESS LATIFA

प्रिंसेज़ लतीफ़ा के साथ क्या हुआ था?

प्रिंसेज़ लतीफ़ा दुबई के शासक शेख़ मुहम्मद बिन राशिद अल मकतूम की 25 संतानों में से एक हैं. फ़रवरी 2018 में लतीफ़ा ने देश से भागने की कोशिश की थी लेकिन उन्हें भारत की समुद्र सीमा में पकड़ लिया गया था.

भागने से ठीक पहले लतीफ़ा ने एक वीडियो रिकॉर्ड किया था जिसमें उन्होंने कहा था, "मुझे ड्राइव करने की इजाज़त नहीं है. मुझे ट्रैवल करने या दुबई छोड़ने की इजाज़त नहीं है."

उन्होंने कहा था, "मैं 2000 से देश से बाहर नहीं गई हूं. मैं केवल ट्रैवल करने, पढ़ने या कुछ भी सामान्य करने की इजाज़त दिए जाने की मांग करती रहती हूं. लेकिन, इन्हें ख़ारिज कर दिया गया. मैं निकलना चाहती हूं."

वीडियो कैप्शन,

COVER STORY: कहानी दुबई की ‘क़ैद’ राजकुमारी की

लेकिन देश छोड़ने की उनकी कोशिश नाकाम साबित हुई. उन्हें भारत की समुद्र सीमा के पास कमांडोज़ ने पकड़ लिया और उन्हें दुबई वापस भेज दिया गया.

इस घटना के बाद प्रिंसेज़ लतीफ़ा के पिता ने कहा था कि उनके लिए ये अभियान किसी "बचाव अभियान" से कम नहीं था.

इसके बाद फ़रवरी 2021 में बीबीसी पैनोरामा ने प्रिंसेज़ लतीफ़ा के छिप कर बनाए वीडियो प्रसारित किये थे. इन वीडियो में लतीफ़ा ने कहा था कि दुबई लौटने के बाद से उन्हें क़ैद कर रखा गया है.

उन्होंने कहा था कि उन्हें कड़ी पुलिस सुरक्षा के बीच बिना खिड़की वाले एक महल में अकेले बंद कर के रखा गया है, जिसके दरवाज़े बंद रहते हैं. यहां न उन्हें मेडिकल सुविधाएं मिल रही है और न ही क़ानूनी सुविधा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)