काबुल धमाकों के बारे में अब तक जो कुछ हमें पता है

काबुल धमाके

इमेज स्रोत, WAKIL KOHSAR/AFP via Getty Images

अफ़ग़ानिस्तान की राजधानी काबुल में गुरुवार की शाम दो धमाके हुए. पहला धमाका अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट के एबी गेट के बाहर हुआ वहीं दूसरा धमाका एबी गेट से थोड़ी दूरी पर स्थित बैरन होटल पर या उसके पास किया गया.

धमाकों में कम से कम 60 लोगों के मरने की ख़बर है. कम से कम 140 लोग ज़ख़्मी हुए हैं.

पेंटागन ने पुष्टि की है कि मारे गए लोगों में अमेरिकी सेना के लोग शामिल थे. मरनेवालों में 11 यूएस मरीन्स और एक नौसेना के मेडिकल सेवा के कर्मचारी हैं.

कथित इस्लामिक स्टेट समूह ने हमले की ज़िम्मेदारी ली है. उन्होंने कहा है कि सोशल मीडिया के ज़रिए उन्होंने इस धमाके को अंजाम दिया है.

ये धमाके पश्चिमी सरकारों की उस चेतावनी के बाद हुए जिसमें उन्होंने अपने नागरिकों को एयरपोर्ट से दूर रहने की सलाह दी थी. चेतावनी में कहा गया था कि अफ़ग़ानिस्तान में सक्रिय इस्लामिक स्टेट समूह से जुड़े आईएस-के के चरमपंथियों से ख़तरा है.

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन को इस घटना की पूरी जानकारी दी गई है. अमेरिका स्थिति पर नज़र बनाए हुए है. वहीं ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन धमाकों के सिलसिले में आपातकालीन बैठक करेंगे.

अमेरिका में बीबीसी संवाददाता बारबरा पेलेट अशर ने बताया कि अमेरिकी मीडिया रिपोर्ट कर रहा है कि अफ़ग़ानिस्तान के धमाके में कई अमेरिकी घायल हुए हैं.

इमेज स्रोत, WAKIL KOHSAR/AFP via Getty Images

विदेश मामलों और राष्ट्रीय सुरक्षा रणनीति समितियों की सदस्य एलिसिया केर्न्स ने कहा कि "बैरन होटल के पास हमले में कई लोग घायल हुआ हैं, वहां ब्रिटेन उन लोगों के नाम को अंतिम रूप दे रहा था जिन्हें वहां से बाहर निकाला जाना है."

उनकी सहयोगी नुस घनी ने कहा कि जब धमाका हुआ तब वे काबुल हवाई अड्डे के बाहर खड़े किसी शख़्स से बात कर रही थीं.

बाद में उन्होंने बताया कि जिस शख़्स से वो बात कर रही थीं वो ठीक हैं और किसी सुरक्षित जगह पर चले गए हैं.

इमेज स्रोत, Haroon Sabawoon/Anadolu Agency via Getty Images

पहला धमाका

एबी गेट पर जहां पहला धमाका हुआ वहां ब्रितानी सैनिक जमा थे. एक अमेरिकी अधिकारी ने समाचार एजेंसी रॉयटर्स को बताया है कि ये एक आत्मघाती धमाका था. इस दौरान ज़मीन पर गोलियां चलने की ख़बरें भी आ रही थीं.

इसके कुछ समय बाद तालिबान से जुड़े एक अधिकारी ने बताया है कि गुरुवार शाम हुए धमाके में कम से कम 60 लोगों की मौत हुई है.

इस अधिकारी ने बताया है कि मरने वालों में महिलाएं और बच्चे शामिल हैं. इसके साथ ही कई लोग घायल हुए हैं जिनमें तालिबानी लड़ाके भी शामिल हैं.

इमेज स्रोत, Anadolu Agency via getty images

फ़्रांस के अफ़ग़ानिस्तान में राजदूत डेविड मार्टिनन ने और विस्फ़ोट के ख़तरों को देखते हुए हवाई अड्डे के प्रवेश द्वारों से लोगों को दूर जाने की अपील की है.

उन्होंने ट्विटर पर लिखा, "हमारे सभी अफ़ग़ान मित्रों के लिए, यदि आप हवाई अड्डे के द्वार के पास हैं तो तत्काल दूर चले जाएं और कवर ले- दूसरा धमाका संभव है."

फ़्रांस के राजदूत ने इस धमाके में मारे गए लोगों के प्रति अपनी संवेदनाएं प्रकट की. साथ ही उन्होंने बताया कि फ़्रांस का कोई सैनिक, पुलिस अधिकारी या राजनयिक एबी गेट पर तैनात नहीं किया गया था.

फ़्रांस अब तक अफ़ग़ानिस्तान से 2,000 अफ़ग़ान और 115 फ्ऱांस के नागरिकों को निकाल चुका है. उसका आखिरी विमान शुक्रवार की शाम काबुल से उड़ान भरेगा.

दूसरा धमाका

इसके कुछ ही देर बाद दूसरे धमाके की ख़बर भी आई.

पेंटागन के प्रवक्ता जॉन किर्बी ने इसकी पुष्टि करते हुए ट्वीट किया कि, "हम इस बात की भी पुष्टि कर सकते हैं कि एबी गेट से थोड़ी दूरी पर स्थित बैरन होटल पर या उसके पास एक अन्य धमाके को अंजाम दिया गया है. हम आगे जानकारी देते रहेंगे."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)