तालिबान नेता मुल्ला अब्दुल ग़नी बरादर कहाँ ग़ायब हो गए हैं?

  • ख़ुदा-ए-नूर नासिर
  • बीबीसी, इस्लामाबाद
मुल्ला अब्दुल ग़नी बरादर

इमेज स्रोत, SEFA KARACAN/ANADOLU AGENCY VIA GETTY IMAGES

दोहा में सोमवार को तालिबान के राजनीतिक दफ़्तर के प्रवक्ता डॉक्टर मोहम्मद नईम की ओर से तालिबान सरकार के उप-प्रधानमंत्री और राजनीतिक दफ़्तर के प्रमुख मुल्ला अब्दुल ग़नी बरादर के ग़ायब होने को लेकर एक व्हाट्सऐप ऑडियो संदेश जारी किया गया.

इस ऑडियो संदेश में मुल्ला अब्दुल ग़नी बरादर ने कहा, ''कई दिनों से सोशल मीडिया पर ये ख़बरें फैल रही हैं. मैं इन्हीं दिनों में सफ़र में था और कहीं गया हुआ था. अलहम्दुलिल्लाह.. मैं और हमारे तमाम साथी ठीक हैं. अक़्सर अधिकतर मीडिया हमारे ख़िलाफ़ ऐसे ही शर्मनाक झूठ बोलती है.''

इससे पहले 12 सितंबर को मुल्ला अब्दुल ग़नी बरादर के एक प्रवक्ता मूसा कलीम की ओर से एक पत्र जारी हुआ था जिसमें कहा गया था, ''जैसे कि व्हाट्सऐप और फ़ेसबुक पर ये अफ़वाह चल रही थी कि अफ़ग़ानिस्तान के राष्ट्रपति भवन में तालिबान के दो गिरोहों के बीच गोलीबारी में मुल्ला अब्दुल ग़नी बरादर बुरी तरह ज़ख़्मी हुए और फिर इसके कारण उनकी मौत हो गई. ये सब झूठ है.''

इन ख़बरों ने उस वक़्त ज़्यादा ज़ोर पकड़ा जब रविवार को राष्ट्रपति भवन अर्ग से जारी हुए वीडियो में क़तर के विदेश मंत्री के साथ तालिबान नेतृत्व की मुलाक़ात में मुल्ला अब्दुल ग़नी बरादर नज़र नहीं आए थे.

वीडियो कैप्शन,

कोरोना के चलते बढ़ सकते हैं डायबिटीज के मामले?

'मुल्ला बरादर ज़ख़्मी नहीं बल्कि नाराज़ हैं'

तालिबान की ओर से कहा गया है कि मुल्ला अब्दुल ग़नी बरादर क़ंधार में हैं जहां वो तालिबान के नेता मुल्ला हेब्तुल्लाह अख़ुंदज़ादा से मुलाक़ात कर रहे हैं. तालिबान के मुताबिक़ वो बहुत जल्द वापस काबुल आ जाएंगे.

लेकिन दोहा और काबुल में तालिबान के दो सूत्रों ने बीबीसी को बताया है कि बीते गुरुवार या शुक्रवार की रात को अर्ग में मुल्ला अब्दुल ग़नी बरादर और हक़्क़ानी नेटवर्क के एक मंत्री ख़लील उर रहमान के बीच बहस हुई थी और उनके समर्थकों में इस तीखी बहस के बाद हाथापाई हुई थी जिसके बाद मुल्ला अब्दुल ग़नी बरादर नई तालिबान सरकार से नाराज़ होकर क़ंधार चले गए थे.

इमेज स्रोत, Reuters

सूत्रों के मुताबिक़, जाते वक़्त मुल्ला बरादर ने सरकार को बताया कि उन्हें ऐसी सरकार नहीं चाहिए थी.

हालांकि बीबीसी स्वतंत्र रूप से इस दावे की पुष्टि नहीं कर सकी है.

कैसी सरकार चाहते हैं बरादर

सूत्रों के मुताबिक़, हक़्क़ानी नेटवर्क और कंधारी तालिबान के बीच काफ़ी पहले से मतभेद मौजूद थे और उन मतभेदों में काबुल पर कंट्रोल के बाद काफ़ी बढ़ोतरी हुई है.

तालिबान आंदोलन के एक और सूत्र के मुताबिक़, हक़्क़ानी नेटवर्क और कंधारी या उमरी तालिबान के बीच मतभेद काफ़ी अरसे से थे, लेकिन अब उमरी या कंधारी तालिबान के अंदर भी मुल्ला मोहम्मद याक़ूब और मुल्ला अब्दुल ग़नी बरादर के अलग-अलग गिरोह हैं और दोनों तालिबान आंदोलन के नेतृत्व के दावेदार हैं.

इमेज स्रोत, Getty Images

इमेज कैप्शन,

तालिबान नेता हिब्तुल्लाह अख़ुंदज़ादा और मुल्ला अब्दुल ग़नी बरादर

इन सूत्रों के मुताबिक़, 'दूसरी ओर हक़्क़ानी नेटवर्क का कहना है कि 'दूसरी बार इस्लामी अमीरात उनकी मेहनत की बदौलत क़ायम हुआ है इसलिए सरकार पर ज़्यादा हक़ नेटवर्क का ही बनता है.'

दोहा और काबुल में मौजूद सूत्रों का कहना है कि मुल्ला अब्दुल ग़नी बरादर ने नई सरकार बनने के बाद कहा कि 'उन्हें ऐसी सरकार नहीं चाहिए थी जिसमें सिर्फ़ और सिर्फ़ मौलवी और तालिबान शामिल हों.'

सूत्र के मुताबिक़, मुल्ला बरादर का कहना था कि उन्होंने 20 साल में कई अनुभव हासिल किए हैं और क़तर के राजनीतिक दफ़्तर में अंतरराष्ट्रीय समुदाय से वादे किए थे कि एक ऐसी सरकार बनाएंगे जिसमें तमाम समुदाय के लोगों के साथ महिलाओं और अल्पसंख्यकों को भी जगह दी जाएगी.

काबुल में तालिबान के एक और सूत्र ने ये भी दावा किया कि ये मतभेद सरकार बनने से पहले थे, लेकिन जब उनके नेतृत्व की ओर से मंत्रिमंडल के लिए जो नाम पेश किए गए तो सबने इस पर रज़मांदी ज़ाहिर कर दी.

काबुल में नई सरकार का मूड

वहीं काबुल में मौजूद पत्रकारों के मुताबिक़ मंत्रिमंडल के एलान के बावजूद कई संस्थानों में काम नहीं हो रहा है और अभी तक सिर्फ़ एक मंत्री ने अपनी पॉलिसी जारी की है.

हालांकि, तालिबान की ओर से कहा गया है कि सभी मंत्रालयों ने काम शुरू कर दिया है, लेकिन फिर भी सरकारी शिक्षण संस्थानों से लेकर कई अन्य संस्थान बंद हैं और अगर कुछ संस्थानों के दफ़्तर खुले भी हैं तो वहां उपस्थिति बहुत कम है.

काबुल में मौजूद पाकिस्तानी पत्रकार ताहिर ख़ान के मुताबिक़ मंत्रियों ने काम शुरू किया है, लेकिन पॉलिसी बयान अभी तक सिर्फ़ शिक्षा मंत्री अब्दुल बाक़ी हक़्क़ानी की ओर से जारी हुआ है और किसी मंत्री की ओर से अभी तक कोई नीतिगत बयान जारी नहीं किया गया है.

इमेज स्रोत, Getty Images

इमेज कैप्शन,

काबुल में एटीएम के बाहर लंबी लाइनें लगी हुई हैं

काबुल का हाल

काबुल में मौजूद बीबीसी के मलिक मुदस्सिर के मुताबिक़ शहर में बैंक अभी तक बंद हैं और कुछ ही जगहों पर एटीएम चालू हैं लेकिन वहां से भी एक सीमित रक़म ही निकाली जा सकती है.

एयरपोर्ट चालू होने का ज़िक़्र करते हुए मलिक मुदस्सिर का कहना था कि एयरपोर्ट पर भी क़तर के अधिकारी सबसे अधिक नज़र आ रहे हैं और क़तर की सरकार ने ही काबुल एयरपोर्ट की दोबारा बहाली में अहम भूमिका अदा की है.

काबुल में कुछ निजी विश्वविद्यालयों में कक्षाएं शुरू हो गई हैं, लेकिन सरकारी विश्वविद्यालय, कॉलेज और हाई स्कूल अभी तक बंद हैं.

मलिक मुदस्सिर के मुताबिक़ अधिकतर शिक्षकों को बीते दो महीने से वेतन नहीं मिला है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)