चुंगी दें, नहीं तो दफनाने नहीं देंगे

  • 13 अक्तूबर 2012
कैथोलिक चर्च
Image caption चर्च टैक्स अदा नहीं करने पर शवों को धार्मिक तरीके से नहीं दफ़नाया जा सकेगा.

जर्मनी के रोमन कैथोलिक यदि स्पेशल चर्च टैक्स अदा नहीं करेंगे तो वे 'होली कम्यूनियन' या शवों को धार्मिक तरीक़े से नहीं दफ़ना सकेंगे.

ये आदेश एक जर्मन बिशप ने दिया है जो हाल ही में लागू भी हो गया है. स्पेशल चर्च टैक्स का वैटिकन ने भी समर्थन किया है.

इतना ही नहीं, इस आदेश में कहा गया है कि जो व्यक्ति स्पेशल चर्च टैक्स नहीं भरेंगे, उन्हें कैथोलिक नहीं माना जाएगा.

स्पेशल चर्च टैक्स, किसी कैथोलिक व्यक्ति के आयकर (इनकम-टैक्स) का आठ प्रतिशत होगा.

मोहभंग

कैथोलिक्स के तौर पर आधिकारिक रूप से दर्ज सभी जर्मन लोगों को, चाहे वो प्रोटेस्टेंट हो या यहूदी, अपने सालाना इनकम-टैक्स पर 8-9 प्रतिशत 'रिलीजियस-टैक्स' भरना होता है.

ये नियम 19वीं शताब्दी में शुरू हुआ था.

म्यूनिख़ के टैक्स-एकाउंटेंट थॉमस ज़ित्ज़ेल्सबर्गर ने बीबीसी को बताया,''यदि आप सालाना 10,000 यूरो इनकम-टैक्स भरते हैं, तो आपको इसके साथ 800 यूरो और भरने होंगे.''

जर्मनी की आबादी में कैथोलिकों की तादाद लगभग 30 प्रतिशत है, लेकिन हाल के वर्षों में चर्च में यौन शोषण के मामले सामने आए हैं जिसकी वजह से चर्च से उनका मोह भंग होने लगा है.

'वी आर चर्च' नामक एक समूह से जुड़े क्रिश्चियन वीसनर कहते हैं, ''इस समय इस आदेश का आना सचमुच ग़लत संकेत है. बिशप जानते हैं कि कैथोलिक चर्च गहरे संकट में हैं.''

लेकिन एक पादरी, फॉदर लुकास ग्लोकर का कहना है कि इस टैक्स का इस्तेमाल अच्छे कामों के लिए किया जाता है.

संबंधित समाचार