कर चोरों की सूची जारी करने वाले पत्रकार रिहा

 शुक्रवार, 2 नवंबर, 2012 को 16:17 IST तक के समाचार
कॉस्टास वैक्सेवेनिस

पत्रकार ने इसे अपनी नैतिक ज़िम्मेदारी क़रार दिया.

ग्रीस में कर चोरी करने वाले कुछ संदिग्ध लोगों की सूची छापने के आरोप में गिरफ़्तार एक ग्रीक पत्रिका के संपादक कॉस्टास वैक्सवेनिस को रिहा कर दिया गया है.

कॉस्टास वैक्सेवेनिस ने अपनी साप्ताहिक पत्रिका 'हॉट डॉक' में ग्रीस के ऐसे दो हज़ार लोगों के नाम छाप दिए थे जिनके स्विस बैंक में खाते थे.

इस सूची में सरकार के एक मंत्री के अलावा सार्वजनिक जीवन के कई गणमान्य व्यक्तियों के नाम भी शामिल थे.

वैक्सवेनिया के वकीलों ने अदालत में दलील दी थी कि उनके मुवक्किल पर लगाए गए आरोप बेबुनियाद हैं और सूची में शामिल किसी भी व्यक्ति ने अपनी निजता के हनन के ख़िलाफ़ कोई शिकायत नहीं की थी.

राजधानी एथेंस में एक दिन तक चली सुनवाई के बाद अदालत ने वैक्सेवेनिया को बेक़सूर क़रार दिया.

अदालत के इस फ़ैसले के बाद कॉस्टास ने कहा कि ये अभिव्यक्ति की आज़ादी की जीत है.

'अभिव्यक्ति की आज़ादी'

"अदालत ने जन भावनाओं की क़द्र की है और सही फ़ैसला किया है. लेकिन सबसे महत्वपूर्ण ये कि इस फ़ैसले से पत्रकारिता को आज़ादी दी गई है. पिछले काफ़ी समय से पत्रकारिता क़ानूनी बाध्यताओं की बंधक बन कर रह गई थी. ये फ़ैसला बहुत ही गंभीर है जिससे हमारे साथियों को अपना काम करने और सच बोलने की आज़ादी मिलेगी."

कॉस्टास वैक्सेवेनिया, अदालत से रिहा होने के बाद

कॉस्टास का कहना था, ''अदालत ने जन भावनाओं की क़द्र की है और सही फ़ैसला किया है. लेकिन सबसे महत्वपूर्ण ये कि इस फ़ैसले से पत्रकारिता को आज़ादी दी गई है. पिछले काफ़ी समय से पत्रकारिता क़ानूनी बाध्यताओं की बंधक बन कर रह गई थी. ये फ़ैसला बहुत ही गंभीर है जिससे हमारे साथियों को अपना काम करने और सच बोलने की आज़ादी मिलेगी.''

एथेंस स्थित बीबीसी संवाददाता मार्क लोएन का कहना है कि इतनी जल्दी अदालती फ़ैसले से ग्रीस सरकार को काफ़ी शर्मिंदगी हुई है.

ग्रीस

आर्थिक मंदी से जूझ रहे ग्रीस में आए दिन लोग सड़कों पर प्रदर्शन करते रहते हैं.

वैक्सवेनिस ने कहा कि उन्होंने ये सूची इसलिए सार्वजनिक कर दी क्योंकि उन्हें लगता था कि एक पत्रकार होने के नाते सच को बाहर लाना उनकी ज़िम्मेदारी थी.

वैक्सवेनिस ने अपने फ़ैसले का बचाव करते हुए कहा, ''पिछली तीन सरकारों ने झूठ बोला है और ग्रीस की जनता का मज़ाक़ उड़ाया है. उन्हें ये सूची संसद के सामने पेश करनी चाहिए थी या अदालत को देनी चाहिए थी. लेकिन उन्होने ऐसा नहीं किया. उन्हें इसके लिए जेल में भेजा जाना चाहिए.''

'ख़ून का प्यासा समाज'

अदालत में अभियोजन पक्ष ने दलील दी थी कि कॉस्टास वैक्सवेनिया ने संदिग्ध कर चोरों की सूची सार्वजनिक कर उनका अपमान किया है और 'ख़ून के प्यासे' एक समाज को उन्होंने वे नाम दे दिए थे.

"कॉस्टास वैक्सवेनिया ने संदिग्ध कर चोरों की सूचि सार्वजनिक कर उनका अपमान किया है और 'ख़ून के प्यासे' एक समाज को उन्होंने वे नाम दे दिए थे."

सरकारी वकील

अभियोजन पक्ष के अनुसार देश जिस समस्या से गुज़र रहा है, 'किसी व्यक्ति को निशाना बनाना' उसका समाधान नहीं है.

लेकिन अदालत ने अभियोजन पक्ष की दलील को ख़ारिज करते हुए वैक्सवेनिया को रिहा करने में कोई समय नष्ट नहीं किया.

आर्थिक मंदी के शिकार ग्रीस को वित्तीय सहायता देने वाले अंतरराष्ट्रीय ऋणदाता ग्रीस पर इस बात के लिए दबाव डाल रहें हैं कि ग्रीस अपने देश में कर चोरी करने वालों के ख़िलाफ़ कड़ी कार्रवाई करे.

"पिछली तीन सरकारों ने झूठ बोला है और ग्रीस की जनता का मज़ाक़ उड़ाया है. उन्हें ये सूचि संसद के सामने पेश करनी चाहिए थी या अदालत को देनी चाहिए थी. लेकिन उन्होने ऐसा नहीं किया. उन्हें इसके लिए जेल में भेजा जाना चाहिए."

कॉस्टास वैक्सेवेनिस

कॉस्टास ने संदिग्ध कर चोरी करने वालों की जो सूची जारी की थी उसे सबसे पहले एचएसबीसी बैंक के एक अधिकारी ने लीक की थी और उसे अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष की मौजूदा प्रमुख क्रिस्टीन लगार्ड को सौंप दी थी जब वो 2010 में फ़्रांस की वित्त मंत्री थीं.

लगार्ड ने वो सूची ग्रीस अधिकारियों को दी थी लेकिन उन्होंने उस पर कोई कार्रवाई नहीं की थी.

ग्रीस के दो पूर्व वित्त मंत्रियों ने इस बात को स्वीकार किया है कि उन्होंने ये सूची देखी थी. हालाकि इसी साल जून में वित्त मंत्री बने यान्नीस स्टॉरनारास ने संसद में कहा कि उन्होंने ऐसी कोई सूची नहीं देखी है.

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.