मेरे बेटे का क्या कसूर था?

  • 15 नवंबर 2012
जिहाद मशारवी
Image caption जिहाद की भाभी की भी इन हमलों में मौत हो गई

पिछले दो दिनों में ग़ज़ा पट्टी पर इसराइल के हवाई हमलों में मारे जाने वालों में बीबीसी अरबी सेवा के कैमरामैन जिहाद मशारवी के पुत्र भी शामिल थे.

ओमर नाम का इस बच्चे की उम्र केवल 11 महीने की थी.

उन्हें अस्पताल में मृत घोषित कर दिया गया. जिहाद मशारवी के भाई और अंकल भी हमले में गंभीर रूप से घायल हुए हैं.

अरबी सेवा के शाहदी अलकाशिफ से बातचीत में जिहाद ने कहा, ''मेरे बेटे का क्या कसूर था कि उन्हें ऐसी मौत मिली है. उसकी क्या गलती थी? वो 10-11 महीने का था. उन्होंने क्या किया था?''

उन्होंने बताया कि इस हमले में उनके पुत्र और भाभी मारी गईं जबकि उनके भाई और एक अन्य पुत्र घायल हुए हैं.

हमले

जिहाद ने बताया कि अलज़ाएतून में उनके घर पर बम का टुकड़ा गिरा था.

बताया गया है कि ग़ज़ा पट्टी से इसराइल के ख़िलाफ़ किए गए रॉकेट हमलों के जवाब में इसराइल ने ये हमले शुरू किए हैं.

इसराइल के हवाई हमले में फ़लस्तीनी संगठन हमास के सैन्य प्रमुख अहमद सैयद ख़लील अल जबारी की मौत हो गई थी.

अहमद ख़लील अल जबारी और एक अन्य शीर्ष हमास अधिकारी की मौत उस वक़्त हुई जब उनकी कार पर हमला हुआ.

इसराइल के रक्षा मंत्रालय(आईडीएफ़) ने कहा था कि उन्होंने हमास, इस्लामिक जिहाद और चरमपंथियों के ख़िलाफ़ 'ओपरेशन क्लाउड पिलर' शुरु किया है.

संबंधित समाचार