ब्रिटिश पेट्रोलियम पर अमरीका ने ठोका ऐतिहासिक जुर्माना

 शुक्रवार, 16 नवंबर, 2012 को 08:10 IST तक के समाचार

मैक्सिको की खाड़ी में तेल रिसाव 87 दिनों तक चला था जिससे पर्यावरण को काफी नुक्सान पहुंचा था.

ब्रितानी तेल कंपनी बीपी पर साल 2010 में हुए तेल रिसाव के मामले में अमरीकी इतिहास का सबसे बड़ा आपराधिक जुर्माना लगाया गया है.

तेल कंपनी बीपी को लगभग 450 करोड़ डॉलर यानी करीब 24 हज़ार करोड़ रुपए जुर्माने के तौर पर अदा करने होंगे. इसके अलावा दो बीपी कर्मचारियों पर मानव हत्या करने और अमरीकी कांग्रेस को ग़लत जानकारी देने का आरोप लगाया गया है.

तेल के कुएं में 2010 में हुए रिसाव की घटना में 11 कर्मचारियों की मौत हो गई थी और 87 दिनों में मैक्सिको की खाड़ी में लाखों बैरल तेल समुद्र में फैल गया था.

अब अमरीका के न्याय विभाग ने कहा है कि बीपी को इस तेल रिसाव से हुए नुकसान की भरपाई के लिए 400 करोड़ डॉलर देने होंगे. इस राशि में 126 करोड़ डॉलर भी शामिल है जो वन्य संरक्षण और वैज्ञानिक संस्थाओं को दिए जाएंगे.

इसके अलावा बीपी अगले तीन सालों में सिक्योरिटी और एक्सचेंज कमिशन को लगभग 52 करोड़ रुपये भी देगी.

बीपी ने मानी ग़लती

अमरीका ने न्याय विभाग के अटॉर्नी जनरल एरिक होल्डर ने कहा, “ये फ़ैसला अनेक जांच प्रक्रियाओं, जांचकर्ताओं और सहयोगी स्टाफ की मेहनत का नतीजा है.”

"हम सभी को इस बात का बेहद खेद है कि तेल रिसाव की दुर्घटना की वजह से जानमाल का नुकसान हुआ और मैक्सिको की खाड़ी के तट को नुकसान पहुंचा."

बीपी

बीपी के प्रबंधक डेविड राइनी पर आरोप था कि उन्होंने जानबूझकर तेल रिसाव की मात्रा को कम करके आंका था.

समझौते के अनुसार बीपी ने 14 आपराधिक मामलों में अपनी गलती मान ली है. कंपनी ने इस मामले में अपनी भूमिका के लिए माफी मांगी है और जानमाल का नुकसान होने पर खेद जताया है.

बीपी कंपनी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी बॉब डडले ने कहा, “हम सभी को इस बात का बेहद खेद है कि तेल रिसाव की दुर्घटना की वजह से जानमाल का नुकसान हुआ और मैक्सिको की खाड़ी के तट को नुकसान पहुंचा.”

बीपी की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि समझौते के अनुसार कंपनी को नागरिक मामलों में बचाव करने का पूरा अधिकार होगा.

'निपटारा अभी बाकी'

समाचार एजेंसी एपी के अनुसार जिन दो अधिकारियों पर नरहत्या का आरोप है उनमें रॉबर्ट क्लूज़ा औऱ डॉनल्ड विड्रिन हैं.

इस तेल रिसाव से समुद्री जीवों को भी भारी नुकसान उठाना पड़ा था

इन पर आरोप है कि इन्होंने तेल के कुएं में दुर्घटना से पहले सुरक्षा जांच की थी और इन्होंने मौके पर मौजूद इंजीनियरों को तेल के खनन में गड़बड़ी के बारे में जानकारी नहीं दी.

ब्रितानी कंपनी बीपी जुर्माने की रकम जुटाने के लिए अपनी संपत्तियां बेच रही है.

लुइजियाना की कंपनियों के वकील स्टूअर्ड स्मिथ जो कि इस हादसे से प्रभावित व्यापारों की नुमाइंदगी कर रहे हैं. उन्होंने बीबीसी से बातचीत में बताया कि ये मामला अभी खत्म नहीं हुआ है.

स्टूअर्ड स्मिथ कहते हैं, “बीपी कंपनी ने अभी लुइजियाना प्रांत के साथ प्राकृतिक नुकसान पहुंचाने के मामले को नहीं सुलझाया है, ना ही फ्लोरिडा, अलबामा और ना ही मिसिसिपी राज्यों के साथ.”

स्टूअर्ड स्मिथ ने कहा कि अभी भी कई मामलों का निपटारा बाकी है.

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.