सार्वजनिक जगहों पर नग्न होने पर रोक

नग्नता पर रोक
Image caption नग्नता विरोधी इस कानून का विरोध हो रहा है

अमरीकी शहर सैन फ्रांसिस्को में सार्वजनिक रूप से नग्नता पर प्रतिबंध को मंजूरी दे दी गई है. हालांकि अपनी स्वछंदता के लिए मशहूर इस शहर में इस प्रतिबंध का खासा विरोध हो रहा है.

शहर के बोर्ड ऑफ सुपरवाइजर्स ने 5 के मुकाबले 6 वोटों से इस प्रतिबंध को मंजूरी दी. इस मंजूरी मतलब है कि सार्वजनिक स्थलों पर कोई व्यक्ति अपने जननांग प्रदर्शित नहीं कर सकता है.

सुपरवाइजर स्कॉट वाइनर ने इस प्रतिबंध का प्रस्ताव रखा क्योंकि उनके इलाके कास्त्रो डिस्ट्रिक्ट में पुरूषों का एक समूह अक्सर बिना कपड़ों के दिखने लगा था जिसे लेकर बहुत से लोगों ने शिकायत की. इस इलाके में समलैंगिंक पुरूष अच्छी खासी तादाद में रहते हैं.

स्कॉट वाइनर ने कहा, “स्वतंत्रता, अभिव्यक्ति और स्वीकार्यता का ये मतलब नहीं है कि किसी भी परिस्थिति में कुछ भी चल जाएगा.”

व्यवहार के 'न्यूनतम मानक'

ये प्रतिबंध कुछ विशेष आयोजनों पर लागू नहीं होगा.

वैसे इसके खिलाफ पहले ही एक मुकदमा दर्ज कराया जा चुका है जिसमें इसे अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का हनन बताया गया है.

प्रस्ताव पर मतदान के बाद अन्य सुपरवाइजर जॉन एवालॉस ने कहा , “मैं नागरिक स्वतंत्रता, मुक्त अभिव्यक्ति और सैन फ्रांसिस्को के अंदाज में बदलाव को लेकर चिंतित हूं.”

लेकिन स्कॉट वाइनर अपनी पहल को उचित बताते हुए कहते हैं, “रोज़ाना लोग अपने कपड़े उतार कर इधर उधर घूमने लगे थे. हमारे सार्वजनिक स्थल सभी के लिए हैं और इसीलिए वहां उचित व्यवहार के कुछ न्यूनतम मानक होने चाहिए.”

नए कानून के तहत पहली बार इसका उल्लंघन करने पर अधिकतम 100 डॉलर (लगभग साढ़े पांच हजार रुपये) का जुर्माना हो सकता है. लेकिन अभियोजक पांच सौ डॉलर तक जुर्माना लगा सकते हैं और इसके लिए एक साल जेल भी हो सकती है.

पिछले हफ्ते लगभग दो दर्जन लोग प्रस्तावित प्रतिबंध के विरोध में सैन फांसिस्को के सिटी हॉल के सामने आकर नंगे खड़े हो गए थे.

प्रतिबंध के बाद भी लोग इसके विरोध के स्वर सुनाई पड़ रहे हैं.

संबंधित समाचार