युद्ध विराम की कोशिशों के बीच गज़ा में जंग जारी

  • 21 नवंबर 2012
इसराइली सैन्य कार्रवाई
Image caption इसराइल और हमास दोनों ने ही संघर्ष विराम के लिए शर्तें रखी हैं.

गज़ा में इसराइल और हमास के बीच युद्ध विराम की कोशिशों के बीच इसराइल की ओर से हवाई हमले और बमबारी लगातार जारी है.

इससे पहले संघर्षरत दोनों पक्षों के बीच मध्यस्थता कर रहे मिस्र के राष्ट्रपति मोहम्मद मोरसी ने उम्मीद जताई थी कि मंगलवार की रात तक इसराइल हवाई हमले बंद कर देगा, लेकिन इसराइल का कहना है कि हमास के साथ समझौते की ज़मीन अभी तैयार नहीं हो पाई है.

इस बीच, अमरीका की विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन येरुशलम पहुंच चुकी हैं.

उन्होंने अपने संबोधन में कहा, ''राष्ट्रपति ओबामा ने मुझसे कहा कि मैं इस बेहद स्पष्ट संदेश के साथ जाऊं कि इसराइल की सुरक्षा को लेकर अमरीका पूरी तरह प्रतिबद्ध है और इसमें कोई समझौता नहीं हो सकता. इसीलिए हमें लगता है कि गज़ा में स्थिति को नियंत्रित करना होगा और इसराइली शहरों पर गज़ा से किए जा रहे रॉकेट हमलों पर रोक लगानी होगी. हमारी कोशिश होनी चाहिए कि हम एक स्थाई हल की तरफ बढ़ें.''

अमरीका का कहना है कि मिस्र के साथ मिलकर वो गज़ा में शांति स्थापित करने की दिशा में काम करेगा.

समझौते का मसौदा

इस दौरान, हमास के प्रवक्ता ओसामा हमादान ने बीबीसी के कार्यक्रम न्यूज़नाइट में कहा कि समझौते का मसौदा तैयार हो चुका है और उसे सार्वजनिक करने की ज़रूरत है.

उन्होंने कहा, "मैं ये कहना चाहूंगा कि समझौते की रुपरेखा तैयार करना आसान नहीं था. काफी कोशिशों के बाद इसके लिए हमने कल रात और एक पूरा दिन लगाया. हमने समझौते का एक आखिरी मसौदा तैयार कर लिया है और अब दोनों पक्षों को इस पर मुहर लगानी है."

उधर, संयुक्त राष्ट्र महासचिव बान की मून ने गज़ा में दोनों पक्षों से तत्काल युद्ध विराम लागू करने करने की अपील की है. बान की मून भी युद्ध विराम की कोशिशों का हिस्सा बनने के लिए काहिरा पहुंच गए हैं.

संयुक्त राष्ट्र में फलस्तीनी प्रतिनिधि रियाद मंसूर ने कहा कि सुरक्षा परिषद को हाशिए पर नहीं रहना चाहिए. उन्होंने कहा कि यह बहुत महत्वपूर्ण है कि सुरक्षा परिषद हमारी जनता के खिलाफ इस हमले को बंद करने की जिम्मेदारी स्वीकार करें.

उधर, संयुक्त राष्ट्र महासचिव बान की मून ने गज़ा में पक्षों से तत्काल युद्ध विराम की अपील की है. बान की मून युद्ध विराम की कोशिशों का हिस्सा बनने के लिए काहिरा पहुंच गए हैं.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार