ब्लैकमेल के लिए बने टेप से सामने आया सेक्स स्कैंडल

ली ज़ेंगफ़ू (फाइल फोटो)
Image caption ली ज़ेंगफ़ू इन दिनों में चीनी सोशल मीडिया में चर्चा का विषय बने हुए हैं

चीन में सेक्स स्कैंडल का पर्दाफ़ाश करने वाले खोजी पत्रकार ज़ू रूइफ़ेंग ने बीबीसी से एक ख़ास साक्षात्कार में कहा कि ऐसा करके वो काफ़ी ख़ुश हैं.

ज़ू का कहना था, ''जब मैं भ्रष्ट अधिकारियों से लड़ाई करता हूं तो मुझे बहुत ख़ुशी होती है.''

नवंबर के शुरुआती दिनों ज़ू ने एक वीडियो टेप जारी किया था जिसमें कम्युनिस्ट पार्टी के 57 वर्षीय एक स्थानीय नेता को 18 साल की एक लड़की के साथ सेक्स करते हुए दिखाया गया था.

ज़ू के अनुसार चौंगकिंग ज़िला स्तर के नेता ली ज़ेगफ़ू का ये वीडियो 2007 में रिकॉर्ड किया गया था.

वीडियो के सार्वजनिक होने के एक सप्ताह बाद ली ज़ेंगफ़ू को पार्टी से बर्ख़ास्त कर दिया गया.

साक्षात्कार के दौरान ज़ू ने कहा, ''जब उन्होंने मुझे धमकी दी और मेरे वेबसाइट को बंद कर दिया तो मुझे सबसे ज़्यादा ख़ुशी हुई क्योंकि मुझे पता चल गया था कि मेरी रिपोर्ट सही है और उसने उन पर असर डाला है.''

ब्लैकमेल

अगले कुछ ही दिनों में ज़ू चार और वीडियो टेप जारी करने वाले हैं जिनमें चैंगकिंग ज़िले के अधिकारियों को कम उम्र की लड़कियों के साथ सेक्स करते हुए दिखाया गया है.

ये सारे टेप एक प्रॉपर्टी डीलर ने उन अधिकारियों को ब्लैकमेल करने के लिए बनाए थे.

इसके लिए उस प्रॉपर्टी डीलर ने 18 से 20 साल की उम्र की लड़कियों को पैसे देकर उन अधिकारियों के साथ सेक्स करने और उसे गुप्त रूप से रिकॉर्ड कराने के लिए तैयार किया था.

ज़ू के अनुसार एक बार सेक्स करने के लिए प्रत्येक लड़की को 48 डॉलर यानी की लगभग ढाई हज़ार रूपए दिए जाते थे और अगर अधिकारियों के चेहरे कैमरे में साफ़ नहीं दिखते थे तो उन लड़कियों को उनके साथ दोबारा यौन संबंध बनाने के लिए कहा जाता था.

इसके बाद वो प्रॉपर्टी डीलर उन अधिकारियों को ब्लैकमेल कर उनसे अपनी मर्ज़ी से ठेका लेता था.

ये सारा मामला तब सामने आया जब ली ज़ेंगफ़ू ने इस मामले में पुलिस से मदद लेने का फ़ैसला किया.

ज़ेंगफ़ू की शिकायत पर पुलिस ने प्रॉपर्टी डीलर के घर और दफ़्तर पर छापे मारे और उन वीडियो टेप को ज़ब्त कर लिया. प्रॉपर्टी डीलर को एक साल की सज़ा सुनाई गई और उन लड़कियों को एक महीने तक हिरासत में रखने के बाद छोड़ दिया गया.

इस सारी प्रक्रिया के दौरान ये सारे सेक्स टेप पुलिस के पास सुरक्षित थे लेकिन नवंबर के शुरू में चौंगकिंग पुलिस स्टेशन के एक अज्ञात अधिकारी ने वे सारे टेप्स गुप्त रूप से पत्रकार ज़ू रूईफ़ेग को दे दिया.

ज़ू का कहना है कि वो जब तक उन टेप्स में दिखाए गए अधिकारियों की पहचान के बारे में पूरी तरह आश्वस्त नहीं हो जाते वीडियो टेप को सार्वजनिक नहीं करेंगे.

Image caption ज़ू को चीन के नए नेतृत्व से काफ़ी उम्मीदें हैं.

ज़ू के अनुसार चौंगकिंग की अनुशासनात्मक समिति के पास बहुत पहले से वे टेप थे लेकिन वो उन अधिकारियों के ख़िलाफ़ कार्रवाई करने में हिचकिचा रही थी.

ज़ू के अनुसार अब जबकि पहला टेप हर जगह इंटरनेट के ज़रिए सार्वजनिक हो गया है तब अनुशासनात्मक समिति को कोई कार्रवाई करनी ही पड़ेगी.

ज़ू रूइफ़ेंग

हेनान प्रांत के रहने वाले ज़ू रुइफ़ेंग अब अपने परिवार के साथ राजधानी बीजिंग में रहते हैं. वो अकेले ही एक भ्रष्टाचार विरोधी वेबसाइट चलाते हैं.

सन् 2000 में एक अख़बार के साथ उन्होंने अपने करियर की शुरूआत की थी. लेकिन साल 2006 में उन्होंने नौकरी छोड़कर अपनी वेबसाइट शुरू करने का फ़ैसला किया.

साल 2007 में उन्होने चीन के शैन्शी प्रांत में वैक्सीन यानी टीकाकरण के प्रोग्राम में हुई गड़बड़ियों को उजागर किया था. उनकी ख़बर को बाद में दूसरे मीडिया घरानों ने भी उजागर किया और फिर चीन के स्वास्थ्य मंत्रालय ने इस पूरे मामले की जांच के आदेश दिए थे.

स्वास्थ्य मंत्रालय ने 2010 में अपनी जांच रिपोर्ट को सार्वजनिक किया था जिसमें मंत्रालय ने वेबसाइट के ज़रिए लगाए गए सारे आरोपों को तो नहीं माना लेकिन जांच में कुछ गड़बड़ियां पाई गईं और एक अधिकारी को दो लाख 70 हज़ार युआन का घपला करने का भी दोषी पाया गया था.

उसके बाद भी ज़ू रूइफ़ेग ने भ्रष्टाचार के कई मामले उजागर किए हैं और उन्हें कई बार मौत की धमकियां भी मिली हैं. उनकी वेबसाइट को भी कई बार कुछ समय के लिए बंद किया जा चुका है.

हालाँकि इस बार सेक्स स्कैंडल के पर्दाफ़ाश के बाद अभी तक उनकी वेबसाइट पर कोई कार्रवाई नहीं की गई है.

ज़ू कहते हैं कि ये इस बात के संकेत हैं कि शी जिनपिंग के नेतृत्त्व वाली चीन की नई सरकार पिछली सरकारों से अलग होगी.

नई पीढ़ी के नेताओं से उम्मीद लगाते हुए ज़ू कहते हैं कि हो सकता है कि नए नेता भ्रष्टाचार के ख़िलाफ़ लड़ाई के लिए दृढ़ संकल्प हों.

संबंधित समाचार