अल्जीरिया में सेना ने बंधकों को छुड़वाया

इसी स्थान पर चरमपंथियों ने कुछ लोगों को बंदी बना रखा है

अधिकारियों का कहना है कि कि अलजीरियाई सैनिकों ने उन इस्लामी चरमपंथियो के खिलाफ हमला बोल दिया है जिन्होंने पूर्वी अल्जीरिया में एक गैस प्रतिष्ठान में कुछ लोगों को बंधक बना रखा है.

अल्जीरिया की सरकारी समाचार एजेंसी एपीएस का कहना है कि चार विदेशियों को छुड़वा लिया गया है लेकिन इस सैनिक कार्रवाई में कई लोग मारे गए हैं.

कई लोग मरे

बुधवार को इन अमीनास के पास अपहरणकर्ताओं ने जिस जगह पर कब्ज़ा कर रखा था, उसे अल्जीरियाई सैनिकों ने घेर लिया है. चरमपंथियों के हवाले से समाचार आ रहे हैं कि कम से कम 34 बंदी और 14 अपहरणकर्ता मारे गए हैं.

चरमपंथियों ने मौरिटानिया की समाचार एजेंसी एएनआई को बताया कि अल्जीरियाई धावे के बाद भी सात विदेशी बंधक अभी भी जीवित हैं.

एपीएस ने समाचार दिया है कि इस कार्रवाई में करीब 600 अल्जीरियाई श्रमिकों और चार विदेशी बंधकों जिनमें दो स्कॉटलैंड और एक एक फ़्राँस और कीनिया से है, छुड़ा लिया गया है.

आयरलैंड के विदेश मंत्रालय ने कहा है कि एक अपहृत आयरिश व्यक्ति को छुड़ा लिया गया है और उसने अपने परिवार से भी बात की है.

एपीएस ने एक अनाम सूत्र का हवाला देते हुए कहा है कि करीब ‘आधे’ विदेशी बंधकों को छुड़ा लिया गया है. जब उस स्थान से दो वाहनों ने कुछ लोगों के साथ भागने की कोशिश की तो अल्जीरियाई सेना ने उनको अपना निशाना बना लिया.

निकल भागने में सफल

चरमपंथियों ने स्थानीय समाचार माध्यमों को बताया कि अल्जीरियाई बलों ने ऊपर से गोलियां चलाईं. अल्जीरियाई संचार मंत्री मौहम्मद सईद बेलईद का कहना था कि सैनिक कार्रवाई अभी भी जारी है.

उन्होंने कहा ‘हम दुर्भाग्य से हुई कुछ मौतों और कुछ लोगों को घायल होने की निंदा करते हैं. लेकिन हमें अभी तक हताहतों की संख्या का पता नहीं है.’

जापान ने अल्जीरिया से अपील की है कि वह कार्रवाई रोक दे और बंधकों के जीवन को खतरे में न डाले.

चरमपंथियों ने पहले कहा था कि उन्होंने 41 विदेशियों को बंधक बना रखा है जिनमें ब्रिटिश, जापानी, अमरीकी और नॉर्वे के नागरिक शामिल हैं.

इस बात की भी खबरे हैं कि अल्जीरियाई सेना के हस्तक्षेप से पहले ही करीब 30 अल्जीरियाई और 15 विदेशी, गैस परिसर से भाग निकलने में सफल हो गए थे.

संबंधित समाचार