ये जेल क्या वाकई होटल है...

 सोमवार, 28 जनवरी, 2013 को 07:53 IST तक के समाचार
इविन जेल

इविन जेल के क़ैदी जेल प्रमुख की निंदा करते हुए पत्र लिखते रहे हैं

चंद रोज़ पहले ईरान के सांसदों के एक दल ने कुख्यात इविन जेल का दौरा किया और इसे राजनीतिक बंदियों के लिए एक 'होटल' क़रार दिया.

राजधानी तेहरान स्थित इस जेल का छह घंटे मुआयना करने के बाद इन सांसदों में से एक सफ़र नईमी कहते हैं, ''अब मैं इसे इविन जेल की बजाए इविन होटल ही कहूंगा.''

लेकिन हैरानी की बात ये है कि इस जेल में बंद रहने वाले कई क़ैदी यहां अपनी ख़राब हालत की शिक़ायत करते हैं.

इनमें ज़्यादातर वो क़ैदी हैं जिन्हें ईरान में साल 2009 में चुनाव के बाद हुए विरोध-प्रदर्शनों के दौरान गिरफ्तार किया गया था.

अभी पिछले ही महीने की बात है जब 20 क़ैदियों ने जेल प्रमुख ने नाम एक पत्र लिखकर उनकी यह कहते हुए आलोचना की थी कि बीमार क़ैदियों को दवा-दारु नहीं मिल रही है और उन्होंने इसे राजनीति से प्रेरित बताया था.

'घर की रसोई से बेहतर खाना'

ऐसा प्रतीत होता है कि सांसदों का जेल का यह दौरा इस तरह की शिक़ायतों को दूर करने का प्रयास है.

मोहम्मदरेज़ा मोहसिनी सानी नामक एक सांसद कहते हैं, ''क़ैदियों को सुरक्षा, स्वास्थ्य, खान-पान और जेल में मिल रही सुविधाओं को लेकर कोई शिक़ायत नहीं है.''

सफ़र नईमी कहते हैं कि जेल का अस्पताल बड़ा अच्छा है और रसोई में मिलने वाला खाना भी तरह-तरह का है.

"इविन का खाना मेरे घर के खाने से बेहतर है. फ़ाज़िया शिक़ायत इसलिए करती हैं कि क्योंकि वो अलग-अलग तरह का खाना खाकर बिगड़ गई हैं, ऐसा खाना जो आम लोगों को नहीं मिलता."

सफ़र नईमी, सांसद

सफ़र नईमी कहते हैं कि उन्होंने जेल में पूर्व राष्ट्रपति अकबर हाशमी रफ़सनजानी की बिटिया फ़ाज़िया के अलावा अन्य राजनीतिक कै़दियों से भी मुलाकात की है.

वो कहते हैं, ''फ़ाज़िया उन क़ैदियों में से एक हैं जिन्होंने इविन जेल में खाने के बारे में शिक़ायत की थी.''

फ़ाज़िया सरकार विरोधी प्रदर्शनों के लिए छह महीने जेल की सज़ा काट रही हैं.

सफ़र नईमी कहते हैं, ''इविन का खाना मेरे घर के खाने से बेहतर है. फ़ाज़िया शिक़ायत इसलिए करती हैं कि क्योंकि वो अलग-अलग तरह का खाना खाकर बिगड़ गई हैं, ऐसा खाना जो आम लोगों को नहीं मिलता.''

मोहम्मदरेज़ा एक सुधारवादी राजनीतिक कार्यकर्ता हैं जिन्हें विपक्षी नेती मीर-हुसैन मौसावी के समर्थन के बदले इविन में पांच महीने एकांत में बिताने की सज़ा मिली थी.

उन्होंने बीबीसी को बताया कि इविन जेल में मुख्य समस्या सुविधाओं को लेकर नहीं है, क़ैदियों को जिस तरह अकेले रखकर सज़ा दी जाती है, परिवार वालों से मिलने या फ़ोन पर बात नहीं करने दिया जाता, दिक्कत इससे होती है.

वो कहते हैं, ''एकांत में क़ैदी का दम घुटता है. वह दुनिया से कट जाता है और उस पर जांचकर्ताओं का दबाव रहता है. ये खाने की बाद नहीं है, दबाव शरीर से ज्यादा मन पर रहता है.''

तबीयत बिगड़ने का ख़तरा

"एकांत में क़ैदी का दम घुटता है. वह दुनिया से कट जाता है और उस पर जांचकर्ताओं का दबाव रहता है. ये खाने की बाद नहीं है, दबाव शरीर से ज्यादा मन पर रहता है."

मोहम्मदरेज़ा, सुधारवादी राजनीतिक कार्यकर्ता

अबुल फ़ज़ल गडियानी, ईरान के सबसे पुराने राजनीतिक बंदियों में से एक हैं.

उनकी पत्नी ज़ाहरा रहीमी ने बीबीसी को बताया कि उन्हें अपने पति की तबीयत बिगड़ने का डर लगा रहता है.

वो बताती हैं कि गडियानी को बीते साल लगा दिल का दौरा पड़ा है और उन्हें गलत दवा दे दी गई जिससे उनकी तबीयत और गड़बड़ा गई.

वो ईरान के वरिष्ठ पत्रकार होडा साबेर का उदाहरण देती हैं जिनकी सात महीने पहले भूख हड़ताल के बाद इविन जेल में दिल का दौरा पड़ने से मौत हो गई थी.

वो कहती हैं, ''ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि डॉक्टरों ने उन्हें बचाने के लिए पर्याप्त कोशिश नहीं की.''

वो आशंका जताती हैं कि ऐसा उनके पति के साथ भी हो सकता है.

अबुल फ़ज़ल गडियानी को छह वर्ष कारावास की सज़ा इसलिए मिली क्योंकि उन्होंने देश के सर्वोच्च नेता अयातुल्ला अली खमेनई और राष्ट्रपति मेहमूद अहमदीनेजाद का अपमान किया था.

चंद रोज़ पहले उन्हें तेहरान के बाहरी इलाक़े में बनी गीज़ल हसन जेल में भेज दिया गया जहां ज़ाहरा रहीमी के मुताबिक उन्हें हत्या और मादक पदार्थों की तस्करी के दोषियों के साथ एक ही वार्ड में रखा गया है.

इविन जेल की शिकायत करने वालों को सज़ा देने का एक तरीका यह भी है कि उन्हें इस तरह दूसरी जेलों में भेज दिया जाता है.

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.